loader
पानी में खड़ी गर्भवती हथिनी।

गर्भवती हथिनी की मौत पर फ़िल्म स्टार बोले - ‘इंसान होने पर शर्मिंदा हैं, हो सख़्त एक्शन’

केरल में एक गर्भवती हथिनी और उसके बच्चे की मौत पर आम लोगों ने तो सोशल मीडिया पर ग़ुस्सा जताया ही है, फ़िल्मी सितारों ने भी दुख जताते हुए दोषियों के ख़िलाफ़ सख़्त एक्शन लेने की मांग की है। यह हथिनी भूखी थी और केरल के पलक्कड़ जिले के जंगलों से खाने की तलाश में एक नजदीकी गांव में पहुंची थी। 

लेकिन कुछ लोगों ने अनानास के अंदर पटाखे भरकर ये अनानास उसे खाने के लिए दिए थे। हथिनी के मुंह में पटाखे फट गए और कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। उसके पेट में जो बच्चा था, वह भी मर गया। 

ताज़ा ख़बरें

हथिनी के साथ इस क्रूरता से नाराज़ लोगों ने ट्विटर पर #RIPHumanity और #AllLivesMatter ट्रेंड कराया। 

फ़िल्म अभिनेता अक्षय कुमार ने ट्वीट कर कहा, ‘शायद जानवर कम जंगली हो रहे हैं और इंसान कम इंसान। इस हथिनी के साथ जो हुआ, वो झकझोरने वाला, अमानवीय और अस्वीकार्य है। दोषियों के ख़िलाफ़ सख़्त एक्शन लिया जाना चाहिए।’ 

फ़िल्म अभिनेत्री अनुष्का शर्मा ने इंस्टाग्राम पर एक लंबी पोस्ट लिखकर कहा, ‘यह सोच से भी ज़्यादा निर्दयता है। अगर आपमें सहानुभूति और दया नहीं है, तो आप इंसान कहलाने लायक नहीं हैं। सिर्फ़ कठोर क़ानूनों से कुछ नहीं होगा, हमें उस पर अमल भी चाहिए। वरना ऐसे द्रुष्ट राक्षसों को क़ानून का कोई डर नहीं होगा।’ 

फ़िल्म निर्माता व अभिनेत्री पूजा भट्ट ने ट्वीट कर कहा, ‘हम गणेश की पूजा करते हैं और हाथियों को मार देते हैं। हम हनुमान की पूजा करते हैं और बंदरों को जंजीरों में जकड़े हुए करतब करते देखते हैं। हम देवियों की पूजा करते हैं और कन्या भ्रूण हत्या करते हैं।’

अभिनेता जॉन अब्राहम ने इंस्टाग्राम और ट्विटर पर लिखा, ‘हमें ख़ुद पर शर्म आनी चाहिए, इंसान होने पर शर्मिंदा हूं।’ 

अभिनेत्री श्रद्धा कपूर ने ट्वीट कर कहा, ‘ऐसा कैसे हो सकता है। क्या लोगों के पास दिल नहीं है। मेरा दिल टूट कर बिखर चुका है। मुजरिमों को कड़ी सजा देने की ज़रूरत है।’ 

अभिनेत्री दिया मिर्जा ने एक ऑनलाइन याचिका को पोस्ट करते हुए लिखा है, ‘मैंने इसमें दस्तख़त कर दिए हैं, उम्मीद है आप भी करेंगे। जिन लोगों ने गर्भवती हथिनी को मारा है, उनके ख़िलाफ़ केरल का वन विभाग आपराधिक मुक़दमा दर्ज करे।’ 

रणदीप हुडा ने ट्विटर पर लिखा, ‘अनानास में पटाखे भरकर गर्भवती हथिनी को खिला देना सबसे ज़्यादा अमानवीय कृत्य है।’ हुडा ने केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को टैग कर दोषियों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करने की मांग की है। 

हथिनी और उसके बच्चे के साथ यह घटना 27 मई को हुई और तब सामने आई जब हथिनी को बचाने की कोशिश करने वाली टीम में शामिल एक अधिकारी ने इसके बारे में फ़ेसबुक पोस्ट लिखी और यह सोशल मीडिया पर वायरल हुई। 

सोशल मीडिया से और ख़बरें

ट्विटर यूजर्स ने #RIPHumanity में ऐसी भावुक पोस्ट्स की हैं, जिनमें हथिनी अपने बच्चे से कह रही है कि इंसान हमें खाना देंगे और बच्चा कहता है कि इंसान अच्छे होते हैं। एक और पोस्ट में हथिनी बच्चे से कहती है कि मेरी ग़लती यह थी कि मैंने उन पर भरोसा किया, इस पर बच्चा पूछता है, ‘मां, मेरी क्या ग़लती थी।’

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें