loader

बूंद-बूंद को तरसते लोग, मोदी के रोड शो के लिए बहाया 1.4 लाख लीटर पानी

एक ओर जहाँ उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में पानी की कमी से आम जनता बेहद परेशान है, वहीं वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो से एक दिन पहले एक लाख 40 हज़ार लीटर पीने का पानी सड़कों को धोने के लिए बहा दिया गया। यह ख़बर उन सभी को झकझोरने वाली है जिनकी सुबह पानी के लिए सार्वजनिक नलों पर लंबी लाइनों में खड़े होने से होती है और फिर पूरा दिन और शाम से लेकर रात तक वे और उनके परिवार के लोग पानी के लिए जूझते रहते हैं। 
‘द टेलीग्राफ़’ की एक ख़बर के मुताबिक़, इस बारे में स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि उन्हें शीर्ष स्तर से आदेश दिए गए थे कि प्रधानमंत्री के रोड शो के लिए सड़कों को पानी से धोया जाए।

खबर के मुताबिक़, सड़कों को धोने के लिए वाराणसी नगर निगम के 40 पानी के टैंकरों का इस्तेमाल किया गया और प्रशासन ने क़रीब 400 मज़दूरों को इस काम में लगाया था। 

नगर निगम की ही एक रिपोर्ट से पता चलता है कि वाराणसी संसदीय क्षेत्र में केवल 70 फ़ीसदी आबादी को ही पाइप लाइन से पानी मिलता है बची 30 फ़ीसदी जनता अब भी पीने के पानी के लिए बोरवेल पर निर्भर है। 
वाराणसी के बाद आते हैं बुंदेलखंड पर। बुंदेलखंड में पानी की भयंकर समस्या है। लेकिन बुंदेलखंड के बाँदा में भी प्रधानमंत्री मोदी के रोड शो के लिए सड़कों को इसी तरह पानी से धोकर साफ़ किया गया था। 

ताज़ा ख़बरें

इसे लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट भी किया था। प्रियंका ने कहा था, ‘जब पूरा बुंदलेखंड, वहाँ के लोग, बच्चे, फ़सलें और पशु-पक्षी भयंकर सूखे का आतंक झेल रहे हैं तो हमारे प्रधान प्रचारमंत्री के स्वागत में पीने का पानी टैंकरों से बाँदा की सड़कों पर उड़ेला जा रहा है। यह चौकीदार हैं या दिल्ली से पधारे कोई शहंशाह?’

बुंदेलखंड का कोई भी ऐसा इलाक़ा नहीं है, जहाँ पानी के लिए हाहाकार न मचा हो। महिलाएँ, बच्चे और पुरुष, सभी सुबह से रात तक बस पानी भरने के लिए संघर्ष करते रहते हैं। बुंदेलखंड में एक-एक बूंद पानी के लिए लोगों को कड़ा संघर्ष करना पड़ रहा है। ऐसी जगह पर जहाँ पानी को लेकर हालात इतने भयावह हों, वहाँ प्रधानमंत्री मोदी के रोड शो के लिए बाँदा और बनारस में सड़कों को पानी से धोकर चमकाया जाना कहाँ तक सही है, इसका जवाब या तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ख़ुद दें या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। लेकिन यह तय है कि वे कोई जवाब नहीं देंगे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें