loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/पीयूष राय/वीडियो ग्रैब

पेपर लीक के बाद यूपी शिक्षक पात्रता परीक्षा स्थगित, निशाने पर योगी सरकार

उत्तर प्रदेश में शिक्षक पात्रता परीक्षा UPTET वाट्सऐप ग्रुप में प्रश्न पत्र लीक हो जाने के बाद स्थगित कर दी गई है। अधिकारियों ने कहा कि परीक्षा से कुछ देर पहले ग़ाज़ियाबाद, मथुरा और बुलंदशहर में पेपर लीक हो गया। पुलिस ने इस मामले में कई गिरफ्तारियाँ की हैं। सपा नेता अखिलेश यादव और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पेपर लीक के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार हुआ है। चुनाव से पहले हुए इस मामले को विपक्ष चुनावी मुद्दा बना सकता है।

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा एक राज्य स्तरीय शिक्षक पात्रता परीक्षा है जो उन शिक्षकों के लिए अनिवार्य है जो राज्य-बोर्ड से संबद्ध स्कूलों में प्राथमिक या उच्च प्राथमिक कक्षाओं में पढ़ाना चाहते हैं। अब यह अगले महीने आयोजित किया जाएगा। राज्य भर में आज लाखों उम्मीदवारों को परीक्षा देनी थी।

ताज़ा ख़बरें

ऐन वक़्त पर परीक्षा रद्द होने से लाखों परीक्षार्थियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इस मामले में यूपी सरकार ने यूपी रोडवेज को भी निर्देश जारी किए हैं कि परीक्षार्थियों से किराया न लिया जाए। लीक मामले की जांच एसटीएफ़ को सौंपी गई है।

राज्य के शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा, 'सूचना मिली है कि यूपी-टीईटी परीक्षा लीक हो गई है, इस कारण परीक्षा रद्द कर दी गई है। एक महीने में उम्मीदवार बिना किसी अतिरिक्त ख़र्च के फिर से परीक्षा दे सकेंगे। प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश जारी किया गया है।'

अखिलेश यादव ने आरोप लगाया है कि 'उत्तर प्रदेश में शैक्षिक भ्रष्टाचार चरम पर है'। उन्होंने आरोप लगाया कि 'बीजेपी की सरकार में पेपर लीक होना और परीक्षा रद्द होना आम बात है'। 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी पेपर लीक के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना की है।

परीक्षा रद्द होने पर सरकार चौतरफ़ा घिरी है। इस बीच यूपी लॉ एंड ऑर्डर एडीजी प्रशांत कुमार और प्रमुख सचिव दीपक कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि लखनऊ, मेरठ, कौशांबी और प्रयागराज से क़रीब दो दर्जन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कहा जा रहा है कि इस मामले में बिहार से भी कुछ लोगों को गिरफ़्तार किया गया है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

एडीजी ने कहा है कि परीक्षार्थियों को न तो फिर फॉर्म भरना होगा न हो कोई ख़र्च देना होगा। उन्होंने कहा कि जो परीक्षार्थी वापस जा रहे हैं उन्हें बसों में कोई टिकट लेने की ज़रूरत नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें