loader

यूपी चुनाव में पाकिस्तान की एंट्री, बीजेपी और सपा आमने-सामने

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अब पाकिस्तान की एंट्री हो गई है। बीजेपी ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के द्वारा एक इंटरव्यू में दिए गए बयान को मुद्दा बना लिया है। लेकिन सपा ने भी इसका जवाब दिया है। बीजेपी ने कुछ वक्त पहले अखिलेश यादव के पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना को लेकर दिए गए बयान पर भी उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया था।

हुआ यूं कि अखिलेश यादव ने टाइम्स ग्रुप को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि हमारा असली दुश्मन चीन है, पाकिस्तान हमारा राजनीतिक दुश्मन है और बीजेपी वोटों की राजनीति के लिए पाकिस्तान को निशाना बनाती है।

अखिलेश के बयान पर तुरंत बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा मैदान में उतर गए। पात्रा ने कहा कि अखिलेश यादव जिन्ना के नाम की रट लगाते हुए उत्तर प्रदेश के चुनाव में उतरे थे और आज जिन्ना से एक पायदान ऊपर पाकिस्तान तक पहुंच गए हैं।

ताज़ा ख़बरें
उन्होंने कहा कि जिन्ना से जो करे प्यार वह पाकिस्तान से कैसे करे इंकार। पात्रा ने कहा कि विधानसभा चुनाव में पाकिस्तान और जिन्ना को अखिलेश यादव लेकर आए हैं। 

सपा ने दिया जवाब 

लेकिन सपा के प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि 5 साल तक सरकार चलाने के बाद भी बीजेपी अपना काम नहीं गिना पा रही है। उन्होंने कहा कि बीजेपी नफरत की राजनीति के अपने पुराने रास्ते पर चल रही है लेकिन उत्तर प्रदेश की जनता जागरूक है और वह जानती है कि प्रदेश में कोई विकास कर सकता है तो वह सपा है।

Akhilesh yadav on pakistan in UP election 2022 - Satya Hindi

जिन्ना वाला बयान 

कुछ महीने पहले अखिलेश यादव ने एक चुनावी रैली में कहा था कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और मोहम्मद अली जिन्ना एक ही संस्थान में पढ़कर बैरिस्टर बनकर आए थे। इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई नेताओं ने अखिलेश को जिन्नावादी कहकर पुकारना शुरू कर दिया था।

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ध्रुवीकरण की कोशिश 

अखिलेश यादव के जिन्ना वाले और अब पाकिस्तान को लेकर दिए गए इस बयान को बीजेपी ने लपक लिया है। हालांकि सपा भी इसका जवाब दे रही है लेकिन चुनावी सियासत में इस तरह के बयानों का इस्तेमाल मतों का ध्रुवीकरण करने के लिए ही किया जाता है। उधर, बीजेपी ने एक बार फिर कैराना से कथित पलायन को चुनाव में मुद्दा बनाने की कोशिश की है। इसका भी मतलब यही है कि वह ध्रुवीकरण करना चाहती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें