loader

आगरा में वाल्मीकि समाज के लोगों को पुलिस ने बेरहमी से पीटा : प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा बुधवार को अरुण वाल्मीकि के परिजनों से मिलीं। आरोप है कि अरुण की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी। इस मामले में वाल्मीकि समाज ने पुलिस के ख़िलाफ़ जोरदार प्रदर्शन किया है। बुधवार को जब प्रियंका गांधी वाड्रा लखनऊ से आगरा के लिए निकली थीं तो पुलिस ने उनके काफिले को रोक लिया था। 

इस दौरान आगरा एक्सप्रेस वे के एंट्री प्वाइंट पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पुलिस के साथ झड़प भी हुई थी और कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाज़ी भी की थी। प्रियंका को कुछ देर तक हिरासत में रखने के बाद पुलिस ने उन्हें आगरा जाने की इजाजत दे दी थी। इससे पहले भी प्रियंका गांधी को लखीमपुर खीरी जाते वक़्त रोक लिया गया था। 

अरुण वाल्मीकि के परिजनों से मिलने के बाद प्रियंका ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पुलिस ने वाल्मीकि समाज के 17-18 लोगों को अलग-अलग जगहों से उठाया और उनकी बेरहम ढंग से पिटाई की गई। प्रियंका के साथ प्रमोद कृष्णम सहित कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे। 

प्रियंका ने सवाल उठाया था कि किसी को पुलिस कस्टडी में पीट-पीटकर मार देना कहां का न्याय है? उन्होंने मांग की है कि घटना की उच्चस्तरीय जांच हो, दोषी पुलिस वालों पर कार्रवाई हो व पीड़ित परिवार को मुआवज़ा मिले।

प्रियंका ने कहा है कि अरुण वाल्मीकि का परिवार न्याय मांग रहा है और वे उनके परिवार से मिलना चाहती हैं। 

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी इस मामले में ट्वीट किया है। अखिलेश ने कहा है कि आगरा में साठगांठ कर थाने के मालखाने से 25 लाख की चोरी कराई गई और फिर सच छिपाने के लिए गिरफ्तार किए गए सफाईकर्मी की कस्टडी में हत्या कर दी गई। उन्होंने घटना में शामिल पुलिस कर्मियों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करने की मांग की है। 

ताज़ा ख़बरें

मायावती ने भी किया ट्वीट 

पूर्व मुख्यमंत्री और बीएसपी प्रमुख मायावती ने भी इस मामले में ट्वीट किया है। मायावती ने कहा है कि आगरा में एक सफाईकर्मी की पुलिस हिरासत में हुई मौत अति-दुःखद व शर्मनाक है। बीएसपी ने मांग की है कि उत्तर प्रदेश सरकार दोषियों को सख़्त सज़ा दे तथा पीड़ित परिवार को भी सहायता दे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

स्थानीय समाचार पत्रों के मुताबिक़, आगरा के जगदीशपुरा थाने के मालखाने से शनिवार रात को 25 लाख रुपये की चोरी हुई थी। इस मामले में पुलिस ने सफाईकर्मी अरुण वाल्मीकि को हिरासत में लिया था। लेकिन पुलिस हिरासत में उसकी मौत हो गई। जबकि पुलिस का कहना है कि अरुण का स्वास्थ्य ख़राब हुआ और अस्‍पताल में उसकी मौत हुई है। 

वाल्मीकि समाज आक्रोशित 

इस घटना से वाल्‍मीकि समाज के लोगों में आक्रोश फैल गया। वाल्‍मीकि समाज के लोगों ने मृतक के परिजनों को दो करोड़ रुपये मुआवजा देने की मांग की है। 

arun valmiki death in agra  - Satya Hindi

कांग्रेस को 2022 का विधानसभा चुनाव प्रियंका के नेतृत्व में लड़ना है। प्रियंका की पूरी कोशिश है कि कांग्रेस को मजबूत विपक्षी दल के रूप में उत्तर प्रदेश में खड़ा किया जाए। लखीमपुर खीरी की घटना के अलावा भी प्रियंका हाथरस की घटना सहित कई और मुद्दों पर जोरदार ढंग से आवाज़ उठाकर कांग्रेस को चुनावी मुक़ाबले में लाने के लिए पूरा जोर लगा रही हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें