loader

आज़म खान के समर्थन में उतरीं बीएसपी प्रमुख मायावती

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मोहम्मद आज़म खान के समर्थन में बीएसपी प्रमुख मायावती ने बयान दिया है। बीएसपी प्रमुख ने गुरुवार सुबह ट्वीट कर कहा है कि यूपी व अन्य बीजेपी शासित राज्यों में भी कांग्रेस की ही तरह गरीबों, दलितों आदिवासियों व मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा है। 

मायावती ने कहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अपने विरोधियों पर लगातार द्वेषपूर्ण कार्रवाई की जा रही है और विधायक मोहम्मद आज़म खान को सवा दो साल से जेल में बंद रखा गया है। 

बीएसपी प्रमुख ने सवाल उठाया है कि यह लोगों की नजर में न्याय का गला घोटना नहीं है तो और क्या है।

ताज़ा ख़बरें
सपा के दिग्गज नेता आज़म खान लंबे वक्त से जेल में हैं और उनकी अब तक जमानत नहीं हो सकी है। हालांकि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने मंगलवार को उन्हें जमानत दे दी थी लेकिन एक नया केस दर्ज होने की वजह से आज़म खान जेल से बाहर नहीं आ सके। आज़म खान के खिलाफ अब तक 88 मामले दर्ज हो चुके हैं।
बीते कुछ दिनों में आज़म के कई समर्थक सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर यह आरोप लगा चुके हैं कि उन्होंने आज़म खान की रिहाई के लिए कुछ नहीं किया।

जेल में आज़म खान से मिलने गए पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने भी कहा था कि आज़म की रिहाई के लिए सपा को संघर्ष करना चाहिए था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। 

क्या करेंगे आज़म?

उत्तर प्रदेश की सियासत में ऐसी चर्चाएं हैं कि आज़म खान जेल से निकलने के बाद सपा से किनारा कर सकते हैं। कुछ दिन पहले आज़म के कई समर्थकों ने सपा को अलविदा कहा था। ऐसे में बीएसपी प्रमुख मायावती का आज़म खान के जेल में बंद होने के मामले को उठाना कुछ सियासी अटकलों को हवा देता है।

उत्तर प्रदेश से और खबरें

आज़म खान जेल से बाहर आने के बाद क्या कदम उठाएंगे इसे लेकर आज़म खान के शहर रामपुर में भी तमाम तरह की सियासी अटकलों का दौर तेज है। कुछ दिन पहले रामपुर में कांग्रेस के नेताओं ने आज़म खान का पार्टी में स्वागत है, इस तरह के पोस्टर लगाए थे।  

azam khan in sitapur jail  - Satya Hindi
एआईएमआईएम के नेता भी आज़म खान को जेल में बंद रखे जाने का मामला उठाते रहे हैं। इस संबंध में मुस्लिम धर्मगुरु भी उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को पत्र लिख चुके हैं। आज़म खान 26 फरवरी 2020 से उत्तर प्रदेश की सीतापुर जेल में बंद हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें