loader

बलिया: धीरेंद्र सिंह ने जारी किया वीडियो; पकड़ क्यों नहीं पा रही पुलिस 

बलिया में पुलिस-प्रशासन के तमाम आला अफ़सरों के सामने कई राउंड फ़ायरिंग कर एक शख़्स को मौत के घाट उतार देने वाले धीरेंद्र सिंह ने उत्तर प्रदेश में हाहाकार मचाया हुआ है। पुलिस कह रही है कि धीरेंद्र सिंह को पकड़ने के लिए 10 टीमें बनाई गई हैं, उस पर 25 हज़ार रुपये का इनाम घोषित किया गया है। लेकिन सवाल यह है कि पुलिस के बीच से आख़िर वह चला कहां गया और अब वह खुलकर वीडियो कैसे जारी कर रहा है। 

ख़ुद को बताया बेगुनाह 

धीरेंद्र सिंह ने वीडियो जारी कर 15 अक्टूबर को हुई घटना को लेकर कहा है कि इसमें मिलीभगत थी। धीरेंद्र सिंह ने कहा, ‘वहां गोली चल रही थी, मैं अफ़सरों से कह रहा था कि इसे रुकवाइए, वे लोग लाठी-डंडों के साथ थे, फ़ायरिंग कर रहे थे और मेरे परिवार को घेर लिया। मेरे पिताजी ज़मीन पर गिर पड़े।’ 

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी नेता धीरेंद्र ने आगे कहा, ‘मुझे कुछ पुलिसकर्मियों ने घेर लिया। मैं 18 साल तक सेना में सेवा करके आया हूं। शासन-प्रशासन ने मेरे घर पर लाठीचार्ज करवा दिया, सामान तोड़ दिया।’ 

घटना के बाद से फरार चल रहे धीरेंद्र सिंह ने कहा कि डीएम और जिस शख़्स की मौत हुई, वे एक ही जाति से आते हैं, इन्होंने और प्रधान ने मिलीभगत करके इस काम को अंजाम दिया है।

बीजेपी नेता धीरेंद्र सिंह ने कहा, ‘इसमें एसडीएम, सीओ और एसआई की ग़लती है। मुझे नहीं पता कि वे किसकी गोली से मरे हैं। अगर मेरे परिवार के सदस्य को मारा जाएगा, तो मैं भी जवाब दूंगा। हम लोग झगड़ा नहीं करना चाहते थे।’ हत्या अभियुक्त ने कहा है कि उसने गोली नहीं चलाई है और इस बात की जांच होनी चाहिए कि पाल की मौत किसकी गोली से हुई है। 

बीजेपी नेता के मुताबिक़, ‘इस घटना को सुनियोजित तरीक़े से अंजाम दिया गया और उनके पक्ष के लोग लड़ने के लिए नहीं आए थे जबकि दूसरे पक्ष के लोगों की पूरी तैयारी थी।’ उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस मामले की जांच कराने का आग्रह किया है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

धीरेंद्र सिंह के वीडियो के बाद सवाल ये उठता है कि आख़िर पुलिस उसे पकड़ क्यों नहीं पा रही है। वह कहां से वीडियो जारी कर रहा है, उसकी मोबाइल फ़ोन की लोकेशन क्या है, उसने किसे ये वीडियो भेजा, इसकी जांच पुलिस को करनी चाहिए। वीडियो में उसे देखकर ऐसा लगता है कि वह जहां है, वहां सुरक्षित ढंग से बैठा हुआ है।

नरम है पुलिस?

अहम सवाल यह भी है कि पुलिस ने बलिया और उसके आस-पास के जिलों के बॉर्डर को सील किया या नहीं। अगर किया होगा तो उसे पकड़ने में 24 घंटे से ज़्यादा का वक्त नहीं लगना चाहिए। क्योंकि ऐसे हालात में कोई उसे अपने घर पर पनाह नहीं देगा। लेकिन अब इस घटना को 48 घंटे से ज़्यादा का वक्त हो चुका है और वह फरार है। इसका मतलब पुलिस धीरेंद्र सिंह के ख़िलाफ़ सख़्त नहीं है। 

कानपुर के कुख्यात बदमाश विकास दुबे के मामले में भी ऐसा ही हुआ था। 8 पुलिसकर्मियों को बेरहमी से मौत के घाट उतारने वाला दुबे उत्तर प्रदेश से हरियाणा और फिर मध्य प्रदेश पहुंच गया लेकिन बॉर्डर सील करके बैठी पुलिस को पता ही नहीं चला। उसने ख़ुद को पुलिस के हवाले किया न कि पुलिस ने उसकी गिरफ़्तारी की। 

घटना वाले दिन जो वीडियो सामने आया था, उसमें धीरेंद्र सिंह को कई पुलिसकर्मियों ने घेरा हुआ था, इसके बाद पुलिस पर झूठ बोलने के आरोप लगे थे। क्योंकि पुलिस ने कहा था कि वह फरार हो गया है। इस बात को हजम कर पाना आसान नहीं है कि धीरेंद्र सिंह पुलिसकर्मियों के बीच से कैसे भाग गया। देखना होगा कि पुलिस कब तक धीरेंद्र सिंह को पकड़ पाती है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें