loader

किसान आंदोलन का डर!, यूपी में ट्रैक्टर रैली निकालेगी बीजेपी

उत्तर प्रदेश का चुनाव जीतने के लिए पूरी ताक़त झोंक रही बीजेपी के सामने सबसे बड़ी चुनौती किसान आंदोलन है। किसान आंदोलन के जवाब में बीजेपी भी अब पूरे उत्तर प्रदेश में ट्रैक्टर रैली निकालने जा रही है। बीजेपी का किसान मोर्चा इन रैलियों का आयोजन करेगा और ये 16 से 30 नवंबर तक निकाली जाएंगी। पार्टी मऊ से इन रैलियों की शुरुआत करेगी। 

किसान आंदोलन का पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तो जबरदस्त असर है ही, इसके सहारे विपक्षी दलों ने बीजेपी और मोदी सरकार को किसान विरोधी कहकर घेरना शुरू कर दिया है।

बीजेपी और संघ परिवार को इस बात का अंदाजा है कि किसान आंदोलन उनके यूपी को फिर से फतेह करने के सपने को चकनाचूर कर सकता है। इसलिए गृह मंत्री अमित शाह ने ख़ुद इस चुनाव की कमान संभाल ली है। 

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इन रैलियों के जरिए पार्टी किसानों को यह संदेश देगी कि आज़ादी के बाद किसी भी सरकार ने किसानों के लिए इतना काम नहीं किया, जितना मोदी सरकार और योगी सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि किसान नेता राकेश टिकैत किसानों को गुमराह कर रहे हैं। 

बीजेपी नेता ने कहा कि पिछले चार सालों में उत्तर प्रदेश में गन्ना किसानों का रिकॉर्ड भुगतान हुआ है, बंद पड़ी शुगर मिलों को चालू किया गया है और नई शुगर मिल चलाई गई हैं, साथ ही 86 लाख किसानों का 36 हज़ार करोड़ का कर्ज भी माफ़ किया गया है। 

बीजेपी ने अगस्त में किसानों के बीच किसान चौपालों का भी आयोजन किया था और इसके जरिये 58 हज़ार ग्राम पंचायतों तक पहुंचने की कोशिश की थी। 

BJP Kisan Tractor Rally In 2022 UP Polls - Satya Hindi

हमलावर हैं राकेश टिकैत

पश्चिमी उत्तर प्रदेश से आने वाले किसान नेता राकेश टिकैत योगी सरकार पर गन्ने का भाव न बढ़ाने, उत्तर प्रदेश में सबसे महंगी बिजली होने, गन्ना किसानों का बकाया सहित किसानों की कई समस्याओं को लेकर लगातार हमला बोल रहे हैं। किसान 5 सितंबर को मुज़फ्फ़रनगर में ‘मिशन यूपी-उत्तराखंड’ के तहत बीजेपी को हराने का एलान कर चुके हैं और 22 नवंबर को लखनऊ में महापंचायत करने जा रहे हैं। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
बेशक, बीजेपी ने आक्रामक चुनाव अभियान शुरू कर दिया है और गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भाषणों में इसकी झलक साफ देखी जा सकती है। लेकिन किसान आंदोलन निश्चित रूप से एक बड़ी चुनौती है और इस वजह से इस बार का विधानसभा चुनाव बेहद रोमांचक हो गया है। 
पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में किसान आंदोलन बेहद मज़बूत है और लखीमपुर खीरी की घटना के बाद किसान और विपक्ष बीजेपी पर टूट पड़े हैं। विपक्षी दलों की किसान महापंचायतों से भी बीजेपी की सियासी ज़मीन कमजोर हुई है।

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी की मांग को लेकर किसानों के साथ ही विपक्ष ने भी हल्ला बोल का एलान किया हुआ है। इसलिए इस आंदोलन के कारण बीजेपी की चुनौतियां बढ़ गई हैं। ऐसे में बीजेपी किसान चौपालों और ट्रैक्टर रैलियों के जरिये किसानों के बीच में पहुंचकर उन्हें मनाने की कोशिश कर रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें