loader

कांग्रेस ने ट्वीट किया ‘लापता सांसद’ वाला पोस्टर, स्मृति ईरानी भड़कीं 

कांग्रेस द्वारा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के उनके संसदीय क्षेत्र अमेठी से लापता सांसद वाले पोस्टर को ट्वीट करने पर मंत्री ने भी पलटवार किया है। ईरानी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में अमेठी से कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को हराया था। अमेठी कांग्रेस की परंपरागत सीट रही है, ऐसे में राहुल की हार के बाद पार्टी को ख़ासा धक्का भी लगा था। 

ख़ैर, हुआ यूं कि ऑल इंडिया महिला कांग्रेस के ट्विटर हैंडल से सोमवार को एक पोस्टर ट्वीट किया गया। पोस्टर में ईरानी पर हमला करते हुए लिखा गया था कि अमेठी से सांसद बनने के बाद उन्होंने सिर्फ़ दो दिन अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। 

ताज़ा ख़बरें

स्मृति पर तंज करते हुए पोस्टर में लिखा गया है, ‘हमने आपको ट्विटर पर अंताक्षरी खेलते हुए देखा है, ऐसे विपरीत समय में जनता आपको ढूंढ रही है लेकिन कई महीनों से अमेठी की जनता को निराश्रित छोड़ देना यह दर्शाता है कि शायद अमेठी आपके लिए महज एक टूर हब है।’ पोस्टर में लिखा है कि क्या अब आप अमेठी में सिर्फ़ कंधा देने के लिए आएंगी। 

Central minister Smriti Irani replied Congress on her absence from Amethi - Satya Hindi
अमेठी में लगा लापता सांसद वाला पोस्टर।

सोनिया पर हमलावर हुईं ईरानी 

इस पोस्टर पर नज़र पड़ते ही ईरानी ने एक के बाद एक धुआंधार कई ट्वीट किए। पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘8 महीने में 10 बार 14 दिन का हिसाब है मेरे पास...लेकिन ये बताएँ सोनिया जी कितनी बार गयीं इस दौरान अपने क्षेत्र में।’ सोनिया गांधी उत्तर प्रदेश की ही रायबरेली सीट से सांसद हैं। 

आगे के ट्वीट्स में ईरानी ने लिखा है, ‘मैंने प्रधानमंत्री ग़रीब कल्याण योजना का लाभ अमेठी के लोगों तक पहुंचाया, मेडिकल कॉलेज का काम करवाया, बसों, ट्रेनों से प्रवासियों को वापस लाई लेकिन क्या सोनिया ऐसा हिसाब रायबरेली के लिए दे सकती हैं।’ ईरानी ने यह भी लिखा है कि ये पोस्टर चिपकाने वाले लोग कम से कम अपना नाम तो नीचे लिख देते। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

इससे पहले भी अमेठी में लापता सांसद वाले पोस्टर को लेकर सियासी युद्ध हो चुका है। तब राहुल गांधी इस सीट से सांसद थे और उनके ख़िलाफ़ लापता सांसद वाले पोस्टर लगाए गए थे। राहुल गांधी ने 2019 में दो सीटों से चुनाव लड़ा था। अमेठी से भले ही वह हारे थे लेकिन केरल की वायनाड सीट से भारी मतों से जीते थे। राहुल की हार के बाद भी पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सियासी ज़मीन को मजबूत करने के काम में जुटी हुई हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें