loader

कोई भी प्रवासी मजदूर पैदल नहीं आना चाहिए, योगी ने अधिकारियों को दिया निर्देश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि महानगरों से कोई भी प्रवासी कामगार/मजदूर पैदल यात्रा कर प्रदेश में नहीं आना चाहिए। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि राज्य सरकार प्रवासियों को सुरक्षित लाने के लिए पूरी सक्रियता से काम कर रही है। 

बीते कुछ दिनों में सोशल मीडिया में कई वीडियो वायरल हुए हैं जिसमें दिल्ली, मुंबई से प्रवासी मजदूरों और दूसरे लोगों को पैदल उत्तर प्रदेश आते हुए देखा गया है। 

ताज़ा ख़बरें

गुरुवार शाम को वायरल हुए ऐसे ही एक वीडियो में दिखा था कि लगभग 172 मजदूर अपने परिवार के साथ दिल्ली और नोएडा से पैदल ही अपने घरों की ओर जा रहे थे। इन्हें बुलंदशहर पुलिस ने रोका था और इनके खाने-पीने का इंतजाम किया था। इसके बाद इन्हें वहीं के एक कॉलेज में ठहराया गया था। स्थानीय प्रशासन ने इन्हें बसों से भेजने का वादा किया है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

राज्य सरकार का कहना है कि वह अब तक 7  लाख से अधिक मजदूरों को सुरक्षित वापस ला चुकी है। इसके साथ ही, उनके लिए भोजन की व्यवस्था, घर पहुंचाने, खाद्यान्न एवं 1,000 रुपये का भरण-पोषण भत्ता भी दिया गया है। सरकार के मुताबिक़, 12 लाख से अधिक प्रवासी कामगारों व श्रमिकों के लिए अस्थायी आश्रय स्थल बनाए गए हैं। 

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें