loader

पहले बताया था मायावती को किन्नर से भी बदतर, अब दी सफ़ाई 

मायावती को किन्नर से भी बदतर बताने वाली बीजेपी विधायक साधना सिंह ने अपने बयान पर हंगामा होने के बाद सफ़ाई दी है। विधायक का कहना है कि उनका इरादा किसी को अपमानित करने का नहीं था। लेकिन अगर उनके शब्दों से किसी को ठेस पहुँची है तो वह इसके लिए ख़ेद प्रकट करती हैं। देखें ट्वीट - 
इससे पहले साधना सिंह के बसपा सुप्रीमो मायावती को लेकर दिए गए बयान पर काफ़ी हंगामा हुआ था। साधना सिंह ने एक कार्यक्रम में कहा था, ‘मायावती किन्नर से भी ज़्यादा बदतर है, क्योंकि न तो वह नर है और न ही महिला।' बसपा ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि इससे बीजेपी का स्तर पता चलता है। साधना सिंह यूपी के चंदौली जिले की मुगलसराय सीट से विधायक हैं। तेज़ी से वायरल हो रहे वीडियो में वह गेस्ट हाउस कांड का हवाला देते हुए कहती हैं कि चीरहरण होने के बाद भी वह (मायावती) गठबंधन कर रहीं हैं। नीचे देखें वीडियो - 
साधना सिंह के विवादित बयान पर संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग उन्हें नोटिस भेजेगा। देखें ट्वीट -
समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि साधना सिंह का यह बयान बीजेपी के नैतिक दिवालियेपन और हताशा का प्रतीक है। ये देश की महिलाओं का भी अपमान है। देखें ट्वीट -

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा, सपा-बसपा का गठबंधन होने के बाद बीजेपी के नेताओं ने मानसिक संतुलन खो दिया है। इसलिए उन्हें आगरा और बरेली के मानसिक अस्पतालों में भर्ती हो जाना चाहिए। देखें ट्वीट - 

साधना सिंह के विवादित बयान पर केंद्रीय मंत्री और रिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया (ए) के चीफ़ रामदास आठवले ने भी नाराज़गी जताई है। आठवले ने कहा, 'हमारी पार्टी बीजेपी के साथ है, लेकिन मायावती के ख़िलाफ़ दिए गए इस भद्दे बयान से हम सहमत नहीं हैं।' देखें ट्वीट -
दिल्ली से आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा ने कहा है, कौन कहता है कि किन्नर बदतर होते हैं ? बदतर तो ऐसी सोच वाले होते हैं। देखें ट्वीट -

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें