loader

कमलेश मर्डर: रोहित सोलंकी बनकर हत्यारों ने किया संपर्क, 42 वीडियो से हुआ ख़ुलासा

उम्मीद से भी कहीं ज़्यादा तेजी दिखाते हुए पुलिस ने लखनऊ में हुई हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश का पर्दाफाश कर दिया है। साजिशकर्ता गिरफ्तार हो चुके हैं जबकि हत्यारों की पहचान हो गयी है और तलाश चल रही है। पुख़्ता सुबूत साफ़-साफ़ इशारा कर रहे हैं कि कमलेश की हत्या में मुसलिम चरमपंथियों का हाथ है और हत्या को अंजाम देने वाले इसकी जानकारी भी सार्वजनिक करना चाहते थे। हालांकि अब तक किसी चरमपंथी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है। 

अल हिन्द नाम के एक संगठन ने, जिसने तिवारी की हत्या की जिम्मेदारी ली थी, वह संगठन फर्जी निकला है। यूपी पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने अभी तक यह नहीं बताया है कि कमलेश की हत्या किस संगठन के इशारे पर की गयी है। पुलिस के रडार पर अब तक कई बड़े व छोटे संगठन आए हैं। पश्चिम उत्तर प्रदेश से तीन मौलानाओं सहित कुल 19 संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है।

ताज़ा ख़बरें
सोमवार सुबह को यूपी पुलिस ने कमलेश तिवारी हत्याकांड को अंजाम देने वाले हत्यारे मुइनुद्दीन और अशफाक पर ढाई-ढाई लाख रुपये का ईनाम घोषित किया है। दोनों हत्यारे फरार हैं और यूपी पुलिस की टीमें उनकी तलाश में पड़ोसी राज्यों व नेपाल तक भेजी गयी हैं। हत्यारे राजधानी के नाका क्षेत्र में जिस होटल खालसा इन में रुके थे, वहां के मालिक ने ख़ुद पुलिस को इसकी सूचना दी थी। हत्यारों के कमरे से खून लगे भगवा कुर्ते, हत्या में इस्तेमाल चाकू और अन्य साक्ष्य मिल गए हैं।

चुटकी में हल की गुत्थी

उत्तर प्रदेश के एक आला पुलिस अधिकारी के मुताबिक़, गुजरात में एटीएस क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क (सीसीटीएन) का इस्तेमाल करती है। सीसीटीएन में आधार कार्ड की मदद से चेहरे का मिलान कर दो मिनट में अपराधी के बारे में पूरी जानकारी मिल जाती है। कमलेश हत्याकांड के लिए गठित यूपी सरकार की एसआईटी के एक अधिकारी ने बताया कि सूरत में मिठाई की दुकान से मिली सीसीटीवी फ़ुटेज में साजिशकर्ता फ़ैज़ान की शक्ल एकदम साफ़ नज़र आ रही थी जबकि राशिद पठान की भी पहचान हो गयी थी।
सीसीटीएन के तहत आधार कार्ड से मिलान करने पर फ़ैज़ान और राशिद को पकड़ा गया और इसके बाद मौलाना मोहसिन को भी हिरासत में ले लिया गया। सोमवार को तीनों साजिशकर्ताओं मौलाना मोहसिन, राशिद और फैजान को 72 घंटे की ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ लाया गया है।

हत्यारों, साजिशकर्ताओं के 42 वीडियो मिले 

गुजरात पुलिस की मुस्तैदी, तेज़ी और तकनीकी कौशल के चलते हत्या के साजिशकर्ताओं के अलग-अलग जगहों के 42 वीडियो अब तक पुलिस को मिल चुके हैं। इनमें से ज़्यादातर सार्वजनिक स्थानों पर लगे सीसीटीवी कैमरों से हासिल किए गए हैं। लखनऊ में हत्यारों से संबंधित छह वीडियो पुलिस के हाथ लगे हैं जिनमें से दो में एक महिला भी दिखायी दे रही है। पुलिस ने इस महिला की भी पहचान कर ली है और उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। 

होटल खालसा इन में हत्यारों की ओर से दर्ज कराए गए मोबाइल नंबर की छानबीन के बाद इस नंबर से कुल पाँच फ़ोन किए जाने के सुबूत मिले हैं जिनमें से तीन कॉल कमलेश तिवारी को की गयी हैं। हत्यारोपी अशफाक की ही कमलेश से बातचीत हुई है जबकि मुईनुद्दीन से एकबार बस कमलेश को नमस्कार करवाया गया था। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

रोहित सोलंकी बनकर की थी दोस्ती 

अशफाक ने कमलेश तिवारी से फ़ेसबुक पर रोहित सोलंकी बनकर दोस्ती की थी। रोहित सोलंकी के नाम से कमलेश से की गयी फ़ेसबुक चैट का रिकॉर्ड भी पुलिस के पास है। रोहित ने ही कमलेश से एक मुसलिम लड़की की हिन्दू युवक से शादी के लिए मदद मांगी थी जिस पर उसे तिवारी ने मिलने के लिए बुलाया था। पुलिस की इस बात की पुष्टि घटना के इकलौते चश्मदीद कमलेश के कार्यालय सहायक सौराष्ट्रजीत ने भी की है।

संबंधित ख़बरें

अफवाहों की बाढ़, चार गिरफ़्तार

इस बीच, कमलेश तिवारी की हत्या के बाद से सोशल मीडिया पर अफवाहों की बाढ़ आ गयी है। अलग-अलग तरीक़े से धार्मिक भावनाओं को भड़काने वाली पोस्टें सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर वायरल की जा रही हैं। 

यूपी पुलिस ने तिवारी की हत्या मामले में अब तक कुल 23 मामले दर्ज कर अभियुक्तों के ख़िलाफ़ कारवाई शुरू की है। इनमें से ज़्यादातर मामले इलाहाबाद, गोरखपुर और मेरठ में दर्ज हुए हैं। इलाहाबाद में पुलिस ने मोहम्मद अनस, मोहम्मद दानिश, शाहिद अंसारी और मनीष सिंह के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कर इन्हें रविवार देर रात गिरफ्तार कर लिया था। इन चारों पर धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में एफ़आईआर दर्ज की गयी है। यूपी पुलिस ने एडवाइजरी जारी कर सोशल साइट्स या किसी भी अन्य प्लेटफ़ॉर्म पर किसी तरह की टीका-टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी है।

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें