loader

कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद बीजेपी में शामिल 

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में शुमार जितिन प्रसाद बीजेपी में शामिल हो गए हैं। जितिन प्रसाद को लेकर लंबे वक्त से ऐसी अटकलें थीं कि वे कांग्रेस को छोड़ सकते हैं और बुधवार को यह बात सच साबित हो गई। बीजेपी के बड़े नेताओं ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। ज्योतिरादित्य सिंधिया के बाद जितिन प्रसाद दूसरे बड़े युवा नेता हैं, जिन्होंने पिछले डेढ़ साल में पार्टी को अलविदा कहा है। 

उत्तर प्रदेश में पहले ही नेताओं की कमी से जूझ रही कांग्रेस को जितिन प्रसाद के जाने से बड़ा झटका लग सकता है क्योंकि राज्य में 7 महीने बाद विधानसभा के चुनाव होने हैं। 

ताज़ा ख़बरें

जितिन प्रसाद के पिता जितेंद्र प्रसाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता थे और उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में सोनिया गांधी को चुनौती दी थी, हालांकि उन्हें हार मिली थी। 

जितिन प्रसाद शाहजहांपुर और धौरहरा से सांसद रहे हैं और एक वक़्त में राहुल गांधी की युवा टीम में शुमार थे। जितिन मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। जितिन उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के युवा और ब्राह्मण चेहरे माने जाते थे। जितिन प्रसाद ने ब्राह्मण चेतना परिषद का गठन किया था और वह ब्राह्मणों को इससे जोड़ने के काम में लगे हुए थे। 

कांग्रेस के 23 वरिष्ठ नेताओं द्वारा जब पार्टी आलाकमान को पत्र लिखा गया था तो इसमें वरिष्ठ नेता गु़ुलाम नबी आज़ाद, कपिल सिब्बल, शशि थरूर और आनंद शर्मा के अलावा जितिन प्रसाद के भी हस्ताक्षर थे।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

इसके बाद लखीमपुर-खीरी जिला व शहर कांग्रेस कमेटी ने जितिन प्रसाद के ख़िलाफ़ कठोर कार्रवाई करने की मांग की थी और जमकर नारेबाज़ी भी की थी। इस पर कपिल सिब्बल ने आपत्ति जताई थी लेकिन उत्तर प्रदेश से कोई नेता जितिन प्रसाद के समर्थन में नहीं बोला था। 

कांग्रेस को झटका!

उत्तर प्रदेश में 11-12 फ़ीसदी आबादी वाले ब्राह्मण समुदाय की सियासी अहमियत सभी दल समझते हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश के कई जिलों में ब्राह्मण समुदाय के नेताओं को पार्टी की कमान सौंपी है। ब्राह्मण समुदाय एक वक़्त में कांग्रेस के साथ खड़ा रहा था और प्रियंका गांधी ने फिर से इस समुदाय को पार्टी से जोड़ने की कोशिश की है। ऐसे में जितिन प्रसाद का कांग्रेस से जाना पार्टी की मुश्किलें बढ़ा सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें