loader

ज्ञानवापी: शिवलिंग मिलने का दावा, जगह को किया सील

ज्ञानवापी मस्जिद में सोमवार को सर्वे का काम पूरा हो गया है। सर्वे के बाद हिंदू पक्ष ने दावा किया है कि ज्ञानवापी मस्जिद में नंदी के सामने शिवलिंग मिला है जबकि मुस्लिम पक्ष ने कहा है कि शिवलिंग मिलने की बात गलत है। इस मामले में अदालत की ओर से नियुक्त किए गए कमिश्नर अब अपनी रिपोर्ट कोर्ट के सामने रखेंगे। 

हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन ने कहा है कि एक स्थानीय अदालत ने शिवलिंग को संरक्षित करने और उस जगह को सील करने के निर्देश पुलिस और प्रशासन को दिए हैं। वहां पर वजू करने से भी रोक लगा दी गई है। 

शिवलिंग मिलने के दावे के बाद वहां मौजूद लोगों ने नारेबाजी की। 

वाराणसी के डीएम ने कहा है कि सोमवार को सर्वे की कार्रवाई सवा 2 घंटे तक चली और कार्रवाई पूरी हो गई है। उन्होंने कहा कि सभी पक्षकार संतुष्ट होकर वापस गए हैं और अदालत के आदेशों का सभी पक्षकारों ने पूरी तरह पालन किया है। 

ताज़ा ख़बरें

सर्वे पूरा होने के बाद भी ज्ञानवापी मस्जिद और इससे सटे काशी विश्वनाथ मंदिर के आसपास सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रखी गई है। प्रशासन ने पूरे इलाके को सील कर दिया है।

बता दें कि वाराणसी की निचली अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर सर्वे होगा और 17 मई से पहले सर्वे टीम को अदालत को इसकी रिपोर्ट देनी होगी।

अदालत ने कहा था कि उसके द्वारा नियुक्त किए गए कोर्ट कमिश्नर को नहीं हटाया जाएगा। अदालत ने कहा था कि सर्वे में बाधा डालने वालों पर दंडात्मक कार्रवाई की जाए।

Gyanvapi: Claim of getting Shivling, place sealed, hearing tomorrow in Supreme Court - Satya Hindi

कल्पना से ज्यादा प्रमाण 

इस मामले में याचिकाकर्ता सोहनलाल आर्य ने कहा था कि उनकी ओर से जो दावा किया गया है वह सौ फीसद सही है और कल्पना से ज्यादा प्रमाण मिले हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले में हिंदू पक्ष की जीत होगी।

‘कोई मूर्ति नहीं मिली’

मुसलिम पक्ष के वकील तौहीद ने कहा था कि तहखाने में कोई मूर्ति नहीं मिली है और इस बारे में किए गए दावे गलत हैं। उन्होंने रिपब्लिक भारत से बातचीत में कहा कि वीडियोग्राफी में जो कुछ भी होगा उसे अदालत के सामने रखा जाएगा।

क्या है मामला?

बीते साल अप्रैल महीने में राखी सिंह और 4 अन्य लोगों ने बनारस की एक अदालत में याचिका दायर कर कहा था कि उन्हें श्रृंगार गौरी, भगवान गणेश, भगवान हनुमान और अन्य देवी-देवताओं की पूजा की इजाजत दी जानी चाहिए। उन्होंने अपनी याचिका में कहा था कि मसजिद की पश्चिमी दीवार पर श्रृंगार गौरी की एक छवि थी। याचिका पर सुनवाई करते हुए निचली अदालत ने सर्वे का आदेश दिया था। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

और मस्जिद नहीं खोना चाहते: ओवैसी

इस मामले में वाराणसी की अदालत के फैसले पर एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने नाराजगी जताई है। ओवैसी ने कहा है कि जिस तरह बाबरी मस्जिद को छीना गया उसी तरह से इतिहास को दोहराया जा रहा है।ओवैसी ने कहा कि 1991 में भी जब कुछ लोग ज्ञानवापी मस्जिद के मामले में हाई कोर्ट गए थे तो अदालत ने स्टे लगा दिया था।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें