loader

ज्ञानवापी मामला: आज आएगा वाराणसी की अदालत का फैसला

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद के मामले में वाराणसी की जिला अदालत मंगलवार को फैसला सुनाएगी। सोमवार को जिला अदालत में सुनवाई के बाद जिला जज अजय कृष्ण ने अपने फैसले को सुरक्षित रख लिया था। 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को जिला जज को ट्रांसफर किया था। 

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि मस्जिद की अंजुमन इंतजामिया कमेटी की ओर से दायर याचिका पर प्राथमिकता के आधार पर फैसला किया जाए। बता दें कि हिंदू महिलाओं ने मस्जिद की पश्चिमी दीवार पर स्थित मां श्रृंगार गौरी की छवि की पूजा करने की अनुमति मांगी थी जिसे मुसलिम पक्ष ने चुनौती दी थी। 

ताज़ा ख़बरें
मुस्लिम पक्ष ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के मुताबिक, वाराणसी की अदालत को यह मुकदमा सुने जाने लायक है या नहीं इस पर पहले फैसला करना चाहिए जबकि हिंदू पक्ष की मांग है कि अदालत उन्हें सर्वे टीम की रिपोर्ट का अध्ययन करने और इसे देखने की इजाजत दे।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि किसी भी धार्मिक स्थल के चरित्र का पता लगाने पर कोई रोक नहीं है और धार्मिक चरित्र का पता लगाना पूजा स्थल अधिनियम के नियम तीन या चार का उल्लंघन भी नहीं है।

उधर, मथुरा की जिला अदालत ने कहा है कि कृष्ण जन्मभूमि-शाही ईदगाह मस्जिद विवाद मामले में 1991 में बना पूजा स्थल अधिनियम लागू नहीं होता है। बता दें कि पूजा स्थल अधिनियम 1991 के अंतर्गत 1947 में तमाम धर्मस्थलों की जो स्थिति थी उससे छेड़छाड़ नहीं किए जाने की बात कही गई है।

उत्तर प्रदेश से और खबरें

सर्वे रिपोर्ट लीक होने पर सवाल

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे की रिपोर्ट लीक होने को लेकर भी सवाल उठे थे। कोर्ट के द्वारा नियुक्त कमिश्नर विशाल सिंह ने बीते गुरुवार को अदालत में अपनी रिपोर्ट जमा कर दी थी। सर्वे कमेटी की रिपोर्ट सील बंद लिफाफे में अदालत में जमा की गई थी। इसके बाद भी यह रिपोर्ट लीक कैसे हो गई, यह सवाल पूछा गया था। 

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था कि सर्वे की रिपोर्ट को जान जानबूझकर लीक किया गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें