loader
फाइल फोटो।

हमें मुल्क में अजनबी बना दिया गया: मौलाना मदनी

देवबंद में जमीयत उलेमा-ए-हिंद की सभा में मौलाना महमूद असद मदनी बेहद भावुक हो गए। मदनी ने शनिवार को कहा कि हालात मुश्किल हैं लेकिन मायूस होने की कोई जरूरत नहीं है।

काशी में ज्ञानवापी मस्जिद विवाद, मथुरा में कृष्ण जन्म भूमि विवाद सहित तमाम मामलों के शोर के बीच हो रही जमीयत की यह सभा बेहद अहम है। यह दो दिन तक चलेगी। इस सभा में बड़ी संख्या में मुसलिम धर्म गुरुओं के साथ ही बुद्धिजीवी भी भाग ले रहे हैं। 

मदनी ने कहा कि बहुत सारे लोग राष्ट्र निर्माण, राष्ट्र सुरक्षा की बातें करते हैं लेकिन जुल्म बर्दाश्त कर लेना, अत्याचारों को सह लेना, बेइज्जत हो जाना और बेइज्जत होकर भी खामोश रह जाना कोई हमसे सीखे।
मौलाना मदनी ने शेर पढ़ते हुए कहा, “अपनी ही बस्ती में हमसे अपनी ही बस्ती के लोग, पूछते हैं कौन सी बस्ती के हो, क्या नाम है।” उन्होंने कहा कि हमें मुल्क में अजनबी बना दिया गया है। 
ताज़ा ख़बरें

किस अखंड भारत की बात?

मदनी ने कहा कि लोग एकता और अखंडता की बात करते हैं, अखंड भारत बनाने की बात करते हैं और मुसलमानों का रास्ते में चलना दुश्वार कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग किस अखंड भारत की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सब्र कमजोरी की निशानी नहीं है।

मदनी ने कहा कि हम हर चीज पर समझौता कर सकते हैं लेकिन अपने ईमान से समझौता नहीं कर सकते।

बता दें कि काशी और मथुरा के विवाद के साथ ही कुतुबमीनार को विष्णु स्तंभ बनाए जाने और ताजमहल के बंद पड़े 22 कमरों को खुलवाने की मांग का मामला भी जोर पकड़ रहा है। 

इन सब मामलों को लेकर मुसलिम और हिंदू समुदाय अपनी प्रतिक्रिया दे रहा है तो अदालतों में भी दोनों समुदायों के पैरोकार आमने-सामने हैं। 

सड़क, चौराहे से लेकर टीवी, सोशल मीडिया तक इन सभी मुद्दों को लेकर जोरदार चर्चा है। जमीयत-उलेमा-ए-हिंद की सभा में इन सभी मुद्दों पर चर्चा हो सकती है।

इसके अलावा इस सभा में समान नागरिक संहिता को लेकर भी चर्चा हो सकती है। जमीयत-उलेमा-ए-हिंद मुसलमानों का एक बड़ा संगठन है और इसकी तमाम राज्यों में शाखाएं हैं। सभा को लेकर पुलिस प्रशासन भी मुस्तैद है।

उत्तर प्रदेश से और खबरें

इन तमाम मामलों को लेकर मुसलिम संगठन मुखर हैं और पीएफआई ने भी हिंदू पक्ष की ओर से किए जा रहे तमाम दावों का विरोध किया है। हाल ही में इस विषय में केरल में पीएफआई की बैठक बुलाई गई थी।

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने भी 1991 के पूजा स्थल कानून का हवाला देते हुए कहा है कि मस्जिदों में सर्वे कराया जाना पूरी तरह गैरकानूनी है। उन्होंने कहा है कि मुसलिम समुदाय अपनी एक मस्जिद को खो चुका है और अब वह आगे और मस्जिद नहीं खोना चाहता।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें