loader

मंत्री पुत्र की गिरफ़्तारी न होने पर करूंगा भूख हड़ताल: सिद्धू

लखीमपुर खीरी की घटना के बाद उत्तर प्रदेश ही नहीं, पंजाब कांग्रेस में भी करंट दौड़ गया है। हाल ही में पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देने वाले नवजोत सिंह सिद्धू इस घटना के बाद फिर से जोश में आ गए हैं। सिद्धू ने गुरूवार को अल्टीमेटम दिया है कि अगर शुक्रवार तक लखीमपुर की घटना के अभियुक्त और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ़्तारी नहीं होती तो वे भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे। 

पुलिस ने रोका काफिला 

सिद्धू कांग्रेस कार्यकर्ताओं के काफिले के साथ लखीमपुर के लिए निकल पड़े हैं। लेकिन उनके काफिले को उत्तर प्रदेश और हरियाणा के बॉर्डर के पास शाहजहांपुर में रोक लिया गया था। इस दौरान पुलिस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच जोरदार बहस भी हुई है। पुलिस ने पंजाब के कैबिनेट मंत्री विजय इंदर सिंगला, गुरकीरत कोटली और अमरिंदर सिंह राजा वडिंग को शाहजहांपुर में हिरासत में ले लिया था।  

ताज़ा ख़बरें
लखीमपुर की इस घटना के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा एक बार फिर फ्रंटफुट पर आईं। साथ ही राहुल गांधी भी दिल्ली से चलकर लखनऊ होते हुए लखीमपुर पहुंचे। 
उत्तर प्रदेश के साथ ही पंजाब में भी 5 महीने के भीतर विधानसभा के चुनाव होने हैं। ऐसे में पार्टी को उम्मीद है कि अगर वह किसानों को इंसाफ़ दिलाने की इस लड़ाई को जोर-शोर से लड़ती है तो पंजाब और उत्तर प्रदेश में कुछ सियासी बढ़त हासिल कर सकती है।

सिद्धू ने इससे पहले भी एलान किया था कि अगर बुधवार तक प्रियंका गांधी को रिहा नहीं किया जाता है तो पंजाब कांग्रेस लखीमपुर की ओर मार्च करेगी। 

बेहतर संकेत 

पंजाब कांग्रेस के भीतर कई महीने से जारी झगड़ों के बीच सिद्धू का फ़ॉर्म में लौटना पार्टी के लिए भी बेहतर संकेत है। क्योंकि पार्टी को जल्द ही चुनाव में जाना है और पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के कांग्रेस का साथ छोड़ने के एलान के बाद पार्टी के लिए हालात विपरीत हो रहे थे। 

lakhimpur kheri violence Punjab Congress leads to lakhimpur  - Satya Hindi

सिद्धू के अलावा पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की भी लखीमपुर की घटना में जोरदार सक्रियता रही। चन्नी तुरंत केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने दिल्ली भी आ गए थे। 

यहां यह भी ध्यान देना होगा कि राहुल गांधी लखीमपुर जाते वक़्त पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को अपने साथ ले गए थे। इसके पीछे भी बड़ी वजह है। किसान आंदोलन की शुरुआत पंजाब से हुई थी और इस लड़ाई में बड़ी भागीदारी सिखों की है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
लखीमपुर की इस घटना में मारे गए चारों किसान सिख ही हैं। इसलिए कांग्रेस ने शायद इस मामले में पूरी ताक़त के साथ मैदान में उतरने का फ़ैसला किया, जिससे उत्तर प्रदेश के साथ ही पंजाब में भी इसका सीधा संदेश जाए कि कांग्रेस किसानों की इस लड़ाई में उनके साथ खड़ी है।
पंजाब उन ग़िने-चुने राज्यों में है, जहां कांग्रेस सत्ता में है। इसलिए पार्टी किसी भी क़ीमत पर इस राज्य को खोना नहीं चाहती। लखीमपुर की घटना के बाद सिखों और किसानों में जो नाराज़गी बीजेपी को लेकर है, उसे भी कांग्रेस भुनाना चाहती है।

कांग्रेस को इस बात का डर ज़रूर है कि पंजाब में चुनाव से ठीक पहले सिद्धू का इस्तीफ़ा देना उसके लिए मुसीबत का सबब बन सकता है। लेकिन सिद्धू का फिर से सक्रिय होना उसके लिए ताज़ा हवा के झोंके की तरह है, यह पंजाब में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को ऑक्सीजन देने का भी काम करेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें