loader

बेटे को टिकट ना मिलने पर रीता बहुगुणा का चुनावी राजनीति से संन्यास का एलान

बीजेपी की सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने चुनावी राजनीति से संन्यास लेने का एलान कर दिया है। प्रयागराज से सांसद जोशी ने एबीपी न्यूज़ से बातचीत में कहा कि बीजेपी ने उनके बेटे मयंक जोशी को विधानसभा चुनाव में टिकट देने से इनकार कर दिया है। रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि वे अब चुनावी राजनीति से संन्यास ले रही हैं। 

सांसद ने कहा कि 2024 में उनका कार्यकाल पूरा हो जाएगा और अब वह आगे कोई भी चुनाव नहीं लड़ेंगी।

बता दें कि रीता बहुगुणा जोशी के बेटे मयंक जोशी लखनऊ कैंट सीट से टिकट मांग रहे थे। कुछ दिन पहले जोशी ने कहा था कि बीजेपी अगर एक परिवार में 2 लोगों को टिकट नहीं देना चाहती तो वह अपनी लोकसभा सीट से इस्तीफा दे सकती हैं।

जोशी ने यह भी कहा था कि उनका बेटा 12 साल से राजनीति में मेहनत कर रहा है और टिकट के लिए उसका हक बनता है। जोशी ने इस मामले में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को भी पत्र लिखा था।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी सांसद ने चुनावी राजनीति से संन्यास लेने की बात कह कर बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व पर दबाव बढ़ा दिया है। बेटे को लेकर बीजेपी सांसद ने कहा कि उनका बेटा बालिग है, वह अपने फैसले खुद ले सकता है और वह अपने फैसले लेने के लिए स्वतंत्र है। 

हालांकि उन्होंने एबीपी न्यूज़ से यह जरूर कहा कि वह बीजेपी में बनी रहेंगी और अगर पार्टी चुनाव में प्रत्याशियों का प्रचार करने के लिए कहेगी तो वह जरूर प्रचार करेंगी।

क्या करेंगे मयंक?

अब देखना होगा कि क्या मयंक जोशी को समाजवादी पार्टी चुनाव में टिकट देगी। बीजेपी ने कुछ दिन पहले सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की पुत्रवधू अपर्णा यादव को पार्टी में शामिल किया था। अपर्णा यादव को लखनऊ कैंट सीट से बीजेपी का उम्मीदवार बनाए जाने की चर्चा है। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

रीता बहुगुणा जोशी के अलावा बीजेपी सांसद जगदंबिका पाल, केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर सहित कुछ और बड़े नेता अपने बच्चों के लिए टिकट मांग रहे हैं। 

कौन हैं रीता बहुगुणा?

रीता बहुगुणा जोशी उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे हेमवती नंदन बहुगुणा की बेटी हैं। रीता बहुगुणा जोशी कांग्रेस में महिला कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर थीं लेकिन कुछ साल पहले वह बीजेपी में शामिल हो गई थीं। बीजेपी ने उन्हें 2019 के लोकसभा चुनाव में प्रयागराज सीट से टिकट दिया था जहां से वह जीत कर आई थीं। रीता बहुगुणा जोशी इलाहाबाद की मेयर भी रह चुकी हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें