loader

चुनाव के बीच में ही सपा से अलग होना तय कर लिया था मायावती ने?

क्या उत्तर प्रदेश में महागठबंधन के प्रचार अभियान के दौरान ही बसपा सुप्रीमो मायावती ने मन बना लिया था कि चुनाव ख़त्म होते ही गठबंधन तोड़ना है? सूत्रों के अनुसार, सात चरणों में संपन्न हुए उत्तर प्रदेश के लोकसभा चुनावों का तीसरा चरण ख़त्म होने तक मायावती को पता लगने लगा था कि पश्चिम को छोड़ कहीं भी गठबंधन की केमिस्ट्री ज़मीन पर उतर नहीं रही है। बसपा के जोनल को-ऑर्डिनेटरों से मिल रहे फ़ीडबैक के आधार पर मायावती ने मान लिया था कि ग़ैर-यादव पिछड़ी जातियाँ ही नहीं, बल्कि कई जगहों पर यादव वोटों में भी बीजेपी सेंध लगा चुकी है।

ताज़ा ख़बरें

सोमवार को पार्टी की अंदरुनी समीक्षा बैठक और फिर मंगलवार को लखनऊ में बाकायदा प्रेस से बातचीत में मायावती ने उत्तर प्रदेश में साढ़े पाँच महीनों तक चला समाजवादी-बहुजन समाज पार्टी (सपा-बसपा) गठबंधन आख़िरकार ख़त्म ही कर दिया। 

बसपा सुप्रीमो मायावती ने सपा मुखिया अखिलेश यादव को कैडर बनाने, अपना घर ठीक करने जैसी नसीहतें देते हुए अपनी राहें जुदा कर ली हैं।

पहले से ही उप-चुनाव लड़ने का मन बना लिया था

लोकसभा चुनावों के प्रचार अभियान के दौरान ही बसपा प्रमुख मायावती ने विधानसभा के उप-चुनावों में अपने अलग प्रत्याशी उतारने का मन बना लिया था। आम्बेडकरनगर में रैली के दौरान ही उन्होंने बसपा प्रत्याशी व जलालपुर से विधायक रीतेश पांडे के पिता राकेश पांडे से कह दिया था कि उन्हें विधानसभा उप-चुनाव की भी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। मायावती ने कुछ ऐसे ही संकेत टूंडला, हमीरपुर की विधानसभा सीटों के लिए भी पहले ही दे दिए थे। बीते दो दशकों से बसपा उप-चुनाव न लड़ने की नीति अपनाए हुए है। इतना ही नहीं, बसपा उप-चुनावों में किसी भी पार्टी को समर्थन भी नहीं देती है। हालाँकि दो साल पहले उत्तर प्रदेश में कैराना, फूलपुर व गोरखपुर में हुए लोकसभा उप-चुनावों में बसपा ने सपा को समर्थन ज़रूर दिया था और वहीं से सपा-बसपा गठबंधन की नींव पड़ी थी।

क्या इसलिए अलग हुईं मायावती?

बसपा सूत्रों की मानें तो लोकसभा चुनावों के नतीजे आने के बाद से मायावती के पास उप-चुनावों के लिए टिकट मांगने वालों की भीड़ आने लगी है। बीते कई सालों से पस्त हाल पार्टी में नयी जान आते देख मायावती ने इस बार उप-चुनाव को हाथ से न जाने देने का फ़ैसला किया। वैसे भी गठबंधन के तहत उप-चुनाव लड़ने की स्थिति में मायावती को 11 विधानसभा में से केवल दो ही सीटें मिलतीं जहाँ उसके प्रत्याशी 2017 में दूसरे नंबर पर रहे थे। इसके अलावा हमीरपुर से विधायक अशोक चंदेल की सदस्यता रद्द हो जाने के बाद उप-चुनाव में वह दावा कर सकती थी। इन हालात में भी मायावती के लिए गठबंधन होने पर दिक्कत ही पेश आती।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

जाटव-मुसलमान गठजोड़ के सहारे का भरोसा 

उत्तर प्रदेश में जिन 10 लोकसभा सीटों पर बसपा के प्रत्याशी जीते हैं उनमें से छह पर जाट-मुसलमान वोटों का समीकरण उनके लिए मुफीद साबित हुआ है। मायावती का मानना है कि बीजेपी के मुक़ाबले सबसे मज़बूत साबित होने की दशा में उन्हें अल्पसंख्यक समाज का वोट तो मिलेगा ही और इसमें जाटव, अन्य दलित जातियों को मिलाकर अगर सर्वसमाज के प्रत्याशी उतारे जाते हैं तो उन्हें चुनावी फ़ायदा होगा। मायावती का यह भी मानना है कि गठबंधन के बावजूद यादव मतदाताओं में दलितों को लेकर सहजता नहीं है और कई जगहों पर बीजेपी इसमें सेंध लगाने में कामयाब रही है। इतना ही नहीं बल्कि सपा के साथ रहने की वजह से उसे अन्य पिछड़ी जातियों के वोट पाने में भी मुश्किल हो रही है। 

बसपा नेताओं का कहना है कि ग़ैर यादव पिछड़ी जातियों के जो वोट बसपा को मिलते थे वह भी सपा के साथ रहने की वजह से इस बार नहीं मिले हैं। शायद एक बार फिर से ग़ैर-यादव पिछड़ी जातियों में घुसपैठ के लिए ही मायावती ने अपनी पार्टी की भाईचारा कमेटियों को सक्रिय किया है।

वोट ट्रांसफर न होना, शिवपाल, कांग्रेस सब बहाना?

गठबंधन में दरार की ख़बरें कल मायावती की लोकसभा चुनाव को लेकर दिल्ली में की गयी समीक्षा बैठक से ही आम हो गयी थीं जब उन्होंने सपा पर अपने वोट ट्रांसफर न करा पाने का आरोप लगाया था। मायावती ने यादव बेल्ट में सपा के हार जाने का ठीकरा फोड़ते हुए कहा था कि कन्नौज, फिरोजाबाद और बदायूँ जैसी सीटों पर हार बता रही है कि सपा का बेस वोट बीजेपी में चला गया। बसपा सुप्रीमो ने यह भी कहा कि शिवपाल यादव ने सजातीय वोट बीजेपी को दिलवाए जबिक कांग्रेस की वजह से भी वोट बँटे। हालाँकि इन आरोपों में कोई दम नज़र नहीं आता। शिवपाल यादव न केवल खुद चुनाव मैदान में हार गए हैं बल्कि उनके किसी भी प्रत्याशी की जमानत तक नहीं बच पायी है। ज़्यादातर जगहों पर शिवपाल को मिले वोटों के कई गुने से ज़्यादा वोटों से बीजेपी जीती है और यही कुछ कांग्रेस के साथ भी हुआ है।

मायावती ने कहा कि इस चुनाव में सपा का बेस वोट यादव समाज अपने यादव-बहुल सीटों पर भी सपा के साथ पूरी मज़बूती के साथ टिका हुआ नहीं रह सका है और सपा की ख़ासकर यादवों की बहुलता वाली सीटों पर मज़बूत उम्मीद्वारों को भी हरा दिया है।

हालाँकि मायावती ने यह नहीं बताया कि यादव वोट नहीं मिले तो उनके प्रत्याशी लालगंज, जौनपुर और गाजीपुर जैसी सीटें कैसे जीते।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें