loader

दिल्ली से प्रवेश को यूपी की मंज़ूरी, पर नोएडा प्रशासन ने कहा- नहीं घुसने देंगे

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दिल्ली से लोगों को नोएडा और गाज़ियाबाद में घुसने की अनुमति देने के कुछ ही घंटे बाद नोएडा प्रशासन ने अब इस पर रोक लगा दी है। इसने साफ़ तौर पर कह दिया कि दिल्ली से लोगों को नोएडा में घुसने नहीं दिया जाएगा और पहले जैसी ही स्थिति बरकरार रहेगी। 'एनडीटीवी' ने यह ख़बर दी है।

नोएडा प्रशासन का यह फ़ैसला उस संदर्भ में है जब लॉकडाउन 4.0 के लिए जारी किए गए निर्देश में राज्य सरकार ने कहा है कि शहर में प्रवेश करने देने का अधिकार ज़िले के अधिकारियों के पास होगा। हालाँकि, राज्य सरकार ने भी यह साफ़ किया था कि दिल्ली के हॉटस्पॉट में रहने वाले लोगों को दिल्ली गाज़ियाबाद में घुसने नहीं दिया जाएगा। बता दें कि लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद कल यानी सोमवार को ही दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर भारी जाम लग गया था। इसके अलावा दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाले दिल्ली-नोएडा-डायरेक्ट (डीएनडी) पर भी वाहनों की रफ़्तार बेहद धीमी रही थी। 

ताज़ा ख़बरें

योगी सरकार ने सोमवार को ही राज्य में कोरोना संक्रमण को देखते हुए ताज़ा निर्देश जारी किए हैं। केंद्र सरकार द्वारा लॉकडाउन 4.0 लागू किया गया है और इसके साथ ही राज्यों को कई तरह की छूट दी गई है। राज्य सरकारों को यह छूट दी गई है कि वे ख़ुद कलर कोडिंग तय करें, यानी कौन क्षेत्र किस ज़ोन में होगा-रेड, ऑरेंज या ग्रीन में, इसका फ़ैसला राज्य करें। केंद्र ने बसें और दूसरे वाहन चलाने की भी छूट दी है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
केंद्र के इसी फ़ैसले के अनुसार राज्य सरकार ने सोमवार को राज्य भर के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसमें कहा गया है कि बस या दूसरे निजी वाहनों से अंतरराज्यीय यात्रा की इजाजत नहीं दी जाएगी। चार पहिया वाहनों में ड्राइवर के अलावा दो लोगों को बैठने की इजाजत दी गई है। मॉल को छोड़कर सभी दुकानों को अलग-अलग दिनों में रोटेशन के आधार पर खोलने की इजाजत दी गई है और इसका शेड्यूल करने की ज़िम्मेदारी ज़िला मजिस्ट्रेट की दी गई है। सब्ज़ी बाज़ार खुदरा खरीदारों के लिए सुबह 6 से 9 बजे तक ही खुलेगा। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें