loader

29,650 करोड़ में बनेगा नोएडा हवाई अड्डा, 50 लाख मुसाफ़िर कर सकेंगे इस्तेमाल

जेवर में बनने वाला नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा जब 2024 में बन कर तैयार हो जाएगा तो यह देश के बडे हवाई अड्डों में एक होगा, जहाँ एक साथ दो बड़े हवाई जहाज़ उतारने की सुविधा होगी। लेकिन इसका विस्तार कर यहाँ छह रनवे बनाया जा  सकता है।

लगभग 7200 एकड़ में फैले इस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का इस्तेमाल सालाना 50 लाख मुसाफिर कर सकेंगे। लेकिन इसका विस्तार किया जाए तो 60 लाख या उसके दूने यानी लगभग 120,00,000 यात्री इसका सालाना इस्तेमाल कर सकेंगे। 

इन बातों से समझा जा सकता है कि यह हवाई अड्डा कितना बड़ा होगा और भविष्य में इसे लेकर क्या संभावनाएं हैं। चार चरणों पूरा होने वाले इस हवाई अड्डे के पहले चरण का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को किया है। 

ख़ास ख़बरें

पहला चरण

पहला चरण 2024 में पूरा होने की उम्मीद है और उस समय यह 1334 हेक्टेयर में फैला होगा, जहाँ दो रनवे और चार टर्मिनल होंगे। हवाई अड्डा बनाने का ठेका स्विटज़रलैंड की कंपनी ज़्यूरिख़ एअरपोर्ट इंटरनेशनल को मिला और उसने यह काम पूरा करने के लिए स्थानीय स्तर पर एक अलग कंपनी बनाई, जिसका नाम यमुना इंटरनेशनल एअरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड रखा गया है। यह कंपनी ज़्यूरिख़ एअरपोर्ट की सौ फ़ीसदी स्वामित्व वाली कंपनी है।

इस पहले चरण के निर्माण कार्य पर 29,650 करोड़ रुपए खर्च होंगे। नोयडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के पहले चरण के निर्माण कार्य के तहत टर्मिनल एक का बिल्डिंग बनाया जाएगा जिसमें 90 हज़ार वर्ग मीटर की जगह होगी, रनवे होगा, उससे जुड़ा हुआ टैक्सीवे होगा।
इसके साथ ही एअर ट्रैफिक कंट्रोल होगा, कारगो सुविधा होगी। इसके अलावा हवाई अड्डे को हाई स्पीड ट्रेन और मेट्रो ट्रेन से भी जोड़ा जाएगा। 
NOIDA international airport at Jewar to handle 50 lakh passengers - Satya Hindi

नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के दूसरे चरण में भी एक रनवे और उससे जुड़ा टैक्सीवे बनेगा।

तीसरे चरण में टर्मिनल तीन बनेगा जो 1,60,000 वर्ग मीटर में होगा। इसके साथ ही दो समानान्तर टैक्सीवे होंगे।

चौथे चरण में 1,60,000 वर्ग मीटर का टर्मिनल चार और 1,50,000 वर्ग मीटर का कारगो एरिया होगाा।

NOIDA international airport at Jewar to handle 50 lakh passengers - Satya Hindi

यमुना एक्सप्रेसवे विकास प्रधिकार के अनुसार, हवाई अड्डे  के इर्द-गिर्द कई तरह की कंपिनियों को काम करने के लिए जगह दी जाएगी और आवास निर्माण का काम होगा। 

इसके अनुसार, 1,269 कंपनियों और 6,000 आवास सोसाइटी को अनुमति दी जा चुकी है। इस पर लगभग 18,000 करोड़ रुपए का निवेश होगा। प्राधिकार का अनुमान है कि लगभग एक लाख लोगों को रोज़गार मिलेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें