loader

ओबीसी नेताओं की भगदड़ के बीच दलित परिवार के वहां भोजन पर पहुंचे योगी

उत्तर प्रदेश में ओबीसी वर्ग के मंत्रियों, विधायकों की भगदड़ के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को गोरखपुर में दलित परिवार के घर पर भोजन किया। बीते कुछ दिनों में जिन मंत्रियों और विधायकों ने बीजेपी छोड़ी है, उन्होंने यही आरोप लगाया है कि बीजेपी में दलित और पिछड़े वर्ग की उपेक्षा हो रही है। निश्चित रूप से नेताओं के धड़ाधड़ इस्तीफों के कारण बीजेपी बैकफुट पर है और वह किसी भी सूरत में डैमेज कंट्रोल करना चाहती है। 

शायद इसीलिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मकर संक्रांति के मौके पर गोरखपुर में एक दलित परिवार के घर भोजन करने पहुंचे और उन्होंने यह संदेश दिया कि उनकी सरकार इस वर्ग के साथ खड़ी है। 

उत्तर प्रदेश में दलित समुदाय की आबादी 22 फ़ीसदी के आसपास है और सरकार को बनाने और बिगाड़ने में इसका अहम रोल रहता है। 

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी ने बीते साल हुए उत्तर प्रदेश और केंद्र सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार में दलित और पिछड़े समुदाय के नेताओं को अच्छी खासी जगह दी थी। ऐसा माना जा रहा था कि इससे पार्टी को इन वर्गों का साथ मिलेगा लेकिन बीते कुछ दिनों में जिस तरह पिछड़े वर्ग के तीन मंत्रियों ने और कई विधायकों नेताओं ने पार्टी छोड़ी है उससे पार्टी को चुनाव से ठीक पहले जबरदस्त झटका लगा है। 

Obc leaders resigned bjp and Yogi adityanath lunch on dalit family  - Satya Hindi

दूसरी ओर बीजेपी हिंदुत्व का कार्ड खेल रही है और इसी के तहत योगी आदित्यनाथ को अयोध्या की सीट से विधानसभा चुनाव लड़ाने की तैयारी है। बीजेपी को ऐसी उम्मीद है कि इससे वह नेताओं के पार्टी छोड़कर जाने से हुए नुकसान की भरपाई कर सकेगी। 

उत्तर प्रदेश में दलित समुदाय के मतों का बड़ा हिस्सा बसपा के खाते में जाता रहा है लेकिन बीजेपी, कांग्रेस, सपा भी इस वर्ग के मतदाताओं को अपनी ओर लाने की कोशिशों में जुटी रहती हैं। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

देखना होगा कि ऐसे वक्त में जब नेताओं के पार्टी छोड़ने के कारण बीजेपी मुश्किल में दिख रही है तो क्या योगी आदित्यनाथ के दलित परिवार के वहां भोजन करने से उसकी मुश्किलें कम होंगी। 

गोरखपुर योगी आदित्यनाथ की राजनीतिक कर्मभूमि है और जिस गोरक्ष पीठ के योगी आदित्यनाथ महंत हैं वह भी गोरखपुर में ही स्थित है। हालांकि योगी आदित्यनाथ पहले भी दलित परिवार के घरों में भोजन करते रहे हैं लेकिन चुनाव से ठीक पहले दलितों-पिछड़ों की उपेक्षा के आरोप के बीच योगी का फिर से दलित परिवार के वहां जाकर भोजन करना निश्चित रूप से इस वर्ग को पार्टी के साथ जोड़े रखने की एक कोशिश है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें