loader

वरुण गांधी का बग़ावती सुर, कहा, चुनाव में टिकट मिले या नहीं, मुद्दे उठाते रहेंगे

कई बार केंद्रीय नेतृत्व व सरकार की आलोचना कर पार्टी की आँख की किरकिरी बन चुके बीजेपी नेता वरुण गांधी ने संकेत दे दिया है कि वे पार्टी के ख़िलाफ़ बग़ावत जारी रखेंगे।

उन्होंने अब कहा है कि इससे उन पर कोई फर्क नहीं पड़ता है कि पार्टी उन्हें चुनाव में टिकट देती है या नहीं, वे आम जनता से जुड़े मुद्दे उठाते रहेंगे। उन्होंने इसके साथ ही यह भी कह दिया कि उनकी माँ ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव जीता था। 

क्या कहा वरुण  गांधी ने?

पीलीभीत के इस सांसद ने बहेड़ी गाँव में लोगों से बात करते हुए कहा, "ये नेता डरते हैं कि उन्हें चुनाव में टिकट नहीं मिलेगा। यदि जन प्रतिनिधि ही जनता की आवाज़ न उठाएं तो कौन उठाएगा?"

वरुण गांधी ने इसके आगे अधिक अहम बातें कहीं। उन्होने कहा,

मुझे चुनाव में टिकट न मिले तो इसका मुझ पर कोई फर्क नहीं पड़ने को है। मेरी माँ ने तो निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव जीता था। मैं सिर्फ सच कहता हूँ, सरकारें तो आती जाती रहती हैं।


वरुण गांधी, नेता, बीजेपी

याद दिला दें कि वरुण गांधी की माँ मेनका गांधी ने 1998 और 1999 में पीलीभीत से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में लोकसभा चुनाव जीता था। 
वरुण गांधी यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि बीजेपी में किसी नेता में यह हिम्मत नहीं थी कि वह न्यूनतम समर्थन मूल्य का मुद्दा उठाता। 
उत्तर प्रदेश से और खबरें

एमएसपी का मुद्दा उठाया था वरुण ने

बता दें कि कुछ दिन पहले ही बीजेपी के इस सांसद ने न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी मिनिमम सपोर्ट प्राइस (एमएसपी) का मुद्दा उठाया था। उन्होंने एमएसपी क़ानून को लेकर कुछ सुझावों की एक लिस्ट संसद को सौंपी थी।

वरुण ने एमएसपी पर एक ट्वीट कर कहा था, "भारत के किसान और उनकी सरकारें लंबे समय से कृषि संकट पर बहस कर रही हैं। एमएसपी कानून का समय आ गया है।"

उन्होंने इसके आगे कहा था, "मैंने प्रस्ताव तैयार किया और उसे संसद को सौंपा है, मुझे लगता है कि यह कानून का एक ज़रूरी हिस्सा हो सकता है। इस पर मैं किसी भी आलोचना का स्वागत करता हूँ।"

वरुण से परेशान बीजेपी?

लेकिन यह पहला मौका नहीं है जब वरुण गांधी ने अपनी ही सरकार और पार्टी की आलोचना की है।

उन्होंने इसके पहले 30 नवंबर को 'इंडियन एक्सप्रेस' में एक लेख लिख कर अर्थव्यवस्था पर सरकार की नीतियों और उसके कामकाज की आलोचना की थी। उन्होंने 'पॉलिसी मेकर्स मस्ट ब्रेक इंडियाज़ साइकिल ऑफ पॉवर्टी' में लिखा था, "पिछले दशक में हमारे नीति निर्माताओं ने लगातार सैकड़ों अप्रभावी नीतियों की घोषणा की। इन नीतियों का लक्ष्य भारत में मैन्युफैक्चरिंग को प्रोत्साहन देना था। नौकरियाँ पैदा करनी थी और किसानों की आमदनी बढ़ानी थी।"

Pilibhit BJP MP Varun Gandhi remains defiant against BJP UP - Satya Hindi
वरुण गांधी माँ मेनका गांधी के साथ

इसी तरह वरुण गांधी ने बेरोज़गारी और नियुक्ति परीक्षा में घपले के मुद्दे को उठा कर सवाल किया था कि युवा आखिर कब तक सब्र रखे। 

वरुण गांधी ने ट्वीट किया था, "पहले तो सरकारी नौकरी ही नहीं है, फिर भी कुछ मौक़ा आए तो पेपर लीक हो, परीक्षा दे दी तो सालों साल रिजल्ट नहीं, फिर किसी घोटाले में रद्द हो। रेलवे ग्रुप डी के सवा करोड़ नौजवान दो साल से परिणामों के इंतज़ार में हैं। सेना में भर्ती का भी वही हाल है। आख़िर कब तक सब्र करे भारत का नौजवान?''

बीजेपी पर हमलावर वरुण

लखीमपुर खीरी की घटना के बाद से ही वरुण गांधी लगातार हमलावर रहे हैं। बीते दिनों एक और बेहद गंभीर ख़तरे की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा था कि लखीमपुर खीरी की घटना को हिंदू बनाम सिख बनाने की कोशिश की जा रही है। 

इसके पहले वरुण कह चुके हैं कि हत्या कर प्रदर्शनकारियों को चुप नहीं कराया जा सकता है। 

उन्होंने कुछ दिन पहले गोडसे जिंदाबाद के नारे लगाने वालों को भी लताड़ा था। उन्होंने कहा था कि ऐसे लोग इस देश को शर्मिंदा कर रहे हैं। 

पार्टी को चुनौती

वरुण गांधी शायद यह संदेश देना चाहते हैं कि वह किसानों के हक़ में अपनी आवाज़  पूरी मज़बूती के साथ उठाते रहेंगे और अगर पार्टी को उनका बोलना पसंद नहीं आ रहा है तो वह कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है।

उत्तर प्रदेश की राजनीति में भी इसे लेकर चर्चा है कि वरुण गांधी बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में आ सकते हैं। उनके ख़िलाफ़ क्या कार्रवाई होगी, यह तो आने वाले दिनों में पता चलेगा। लेकिन पीलीभीत के इस सांसद ने पार्टी नेतृत्व को एक तरह से चुनौती तो दे ही दी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें