loader

कोरोना: फिर बैठने के वादे के साथ स्थगित हुआ घंटाघर का सीएए विरोधी धरना

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटीजंस (एनआरसी) के विरोध में बीते 63 दिनों से राजधानी लखनऊ के ऐतिहासिक घंटाघर पर चल रहे महिलाओं के धरने को कोरोना वायरस के कहर के चलते स्थगित कर दिया गया है। धरना दे रही महिलाओं ने सोमवार को घंटाघर खाली कर दिया। रविवार को ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष और धर्मगुरु मौलाना कल्बे सादिक और किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय (केजीएमयू) के वरिष्ठ डाक्टर कौसर उस्मान ने महिलाओं से धरना स्थगित करने की अपील की। मशहूर शायर मुनव्वर राना की बेटी और सीएए विरोध का प्रमुख चेहरा रहीं सुमैय्या राना, कांग्रेस नेत्री व सामाजिक कार्यकर्ता सदफ ज़फर ने भी शनिवार और रविवार को धरना स्थल पर जाकर महिलाओं से कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते धरना स्थगित करने की अपील की थी। 
ताज़ा ख़बरें

सदफ ज़फर ने महिलाओं से कहा था कि धरना स्थगित कर दिया जाए और हालात सामान्य होने पर इसे फिर से शुरू किया जाए। धरना स्थल पर शुरुआत से डटी रहीं मीडियाकर्मी काविश अज़ीज लेनिन ने भी धरना स्थगित करने की अपील की थी। सोमवार सुबह धरना समाप्त होने के बाद पुलिस ने सभी महिलाओं को सुरक्षित उनके घर तक पहुंचाया।

धरना समाप्त करने से पहले महिलाओं ने भावुक भाषण दिए व हालात माकूल होने पर फिर लौटने व धरना शुरू करने का वादा भी किया। उन्होंने एक ज्ञापन भी सहायक पुलिस आयुक्त को सौंपा है। ज्ञापन में लिखा है कि कोरोना वायरस का प्रकोप खत्म होने पर वे प्रदर्शन करने वापस आएंगी। 

धरना स्थल पर सांकेतिक तौर पर मौजूदगी के लिए प्रदर्शनकारी महिलाएं अपना दुपट्टा छोड़कर गई हैं। उनका कहना है कि यह दुपट्टा इस बात का प्रतीक है कि वे दिल से अब भी यहीं मौजूद हैं। जल्द लौटेंगे कहकर एक-दूसरे को समझाते, रोते हुए महिलाओं का हुजूम घंटाघर से अपने घरों की ओर रवाना हो गया। घंटाघर के खाली होने के बाद लखनऊ प्रशासन ने पूरे घंटाघर क्षेत्र की सफाई करवाई, इसे सैनेटाइज किया और वहां पुलिस बल तैनात कर दिया।

दो माह से ज़्यादा समय तक चले इस प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने कई बार प्रदर्शनकरियों को हटाने का अथक प्रयास किया और एक दर्जन से ज़्यादा मुक़दमे दर्ज किये। प्रदर्शनकारी महिलाओं के परिवार वालों को तक गिरफ्तार किया गया।

पुलिस पर लगा प्रताड़ना का आरोप

पुलिस पर आरोप लगा कि उसने कड़कड़ाती ठंड में महिलाओं के कम्बल छीन लिये और खाने-पीने का सामान भी उन तक नहीं पहुंचने दिया। प्रदर्शनकरियों के समर्थन में आए लोगों को परेशान किया गया, कईयों पर मुक़दमे लादे गए और उन्हें हिरासत में लिया गया। पुलिस ने घंटाघर पर बने बाथरूम तोड़ दिये और टेंट तक नहीं लगने दिया गया। इस बीच कई बार बारिश हुई और ओले भी गिरे। धरने के दौरान 2 प्रदर्शनकारी महिलाओं की तबीयत ख़राब होने से उनकी जान तक चली गयी। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पुलिस के रवैये से उलझा मामला

कोरोना वायरस के संक्रमण की शुरुआत के बाद से ही इस धरने को स्थगित करने के प्रयास किए जा रहे थे। महिलाओं को संगठित करने में जुटे लोगों ने इसके लिए उन्हें समझाना शुरू किया था और राजी भी कर लिया था। लेकिन इस बीच पुलिस ने दो बार धरनास्थल पर जबरन लोगों को धमकाया और मुक़दमे दर्ज किये तो इससे महिलाएं भड़क गयीं। बीते कुछ सालों से मुसलिम समुदाय में सक्रिय एक संगठन के लोगों ने धरने को जारी रखने का जोरदार प्रयास किया।

फ़ैसले का किया स्वागत 

सदफ ज़फर ने धरना स्थगित करने के फ़ैसले का स्वागत करते हुए कहा कि महिलाओं ने समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझा है। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस और प्रशासन पहले ही बर्बरता न करके समझदारी का रवैया अपनाते, तो यह पहले ही किया जा सकता था। सुमैय्या राना ने कहा कि संविधान बचाने निकली महिलाओं ने पहले देश की अवाम को बचाना ज्यादा ज़रूरी समझा और इसीलिए धरने को स्थगित किया है। कविश अज़ीज लेनिन ने कहा कि देश से बढ़कर कुछ भी नहीं है। इसे महिलाओं ने समझा और धरना स्थगित कर दिया है। रंगकर्मी दीपक कबीर ने कहा कि लोगों को बचाना ज्यादा ज़रूरी है जबकि जीवन की गरिमा व बेहतरी की लड़ाई आगे लड़ी जाएगी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें