loader

कुलपति ने कहा, किसी से झगड़ा हो जाए तो उसका मर्डर कर दो

जरा इन कुलपति महोदय का भाषण सुनिए, ये छात्रों को हत्या करने के लिए उकसा रहे हैं। इन महोदय का नाम है डॉ. राजा राम यादव और ये वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कुलपति हैं। कुलपति के बयान पर तो उनके ख़िलाफ़ हत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज़ किया जाना चाहिए। राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार को भी इस पर गंभीर होना चाहिए कि कैसे कुलपति के ऊँचे ओहदे पर बैठा एक व्यक्ति छात्रों से कह रहा है कि अगर किसी से झगड़ा हो जाए तो उसका मर्डर कर दो। 

शायद कुलपति इस बात को नहीं जानते कि देश में क़ानून का राज है, कोई निरंकुश व्यवस्था नहीं जहाँ वह झगड़ा होने पर मर्डर को जायज ठहरा सकें। कुलपति की जानकारी के लिए उन्हें बता दें कि भारतीय दंड संहिता के तहत हत्या के लिए उकसाना धारा 302/109 के अंतर्गत गंभीर अपराध है। 

डॉ. यादव से उम्मीद तो यह की जानी चाहिए कि वे छात्रों को जीवन में अच्छा काम करने की और मन लगाकर पढ़ने की सीख देंगे। वह यह शिक्षा देंगे कि छात्र किसी से लड़ाई होने पर ‘विद्या ददाति विनयं’ से सीख लेते हुए विनम्र बने रहेंगे, लेकिन हो इसका उलट रहा है। कहते हैं कि व्यक्ति जीवन में जितनी विद्या ग्रहण करता है वह विनम्र होता जाता है, लेकिन डॉ. यादव के विडियो को सुनकर ऐसा नहीं लगता। डॉ. यादव का अगर आप बायोडेटा पढ़ेंगे तो पता चलेगा कि वह काफ़ी पढ़े-लिखे व्यक्ति हैं, कई छात्र उनके निर्देशन में पीएचडी कर चुके हैं। 

डॉ. यादव का एक विडियो सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा है जिसमें वह छात्रों को हत्या करने के लिए उकसाते दिख रहे हैं। डॉ. यादव कह रहे हैं कि युवा छात्र वही होता है जो पर्वत की चट्टान पर पैर मारता है तो उससे पानी की धार निकल जाती है, उसी को छात्र कहते हैं। 

इस दौरान डॉं. यादव ने कहा, ‘अगर आप पूर्वांचल विश्वविद्यालय के छात्र हो, तो रोते हुए मेरे पास कभी मत आना, एक बात बता देता हूँ। अगर किसी से झगड़ा हो जाए तो उसकी पिटाई करके आना और तुम्हारा बस चले तो उसका मर्डर करके आना, उसके बाद हम देख लेंगे’। नीचे देखें विडियो -

डॉ. राजा राम यादव कुलपति बनने से पहले इलाहाबाद विश्वविद्यालय में लंबे समय तक भौतिक विज्ञान के प्रोफ़ेसर रहे हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें