loader

बरेली: पुलिसकर्मियों ने दिव्यांग कासिम को बुरी तरह पीटा, निलंबित

कासगंज में अल्ताफ़ नाम के नौजवान की पुलिस हिरासत में मौत का मामला अभी ताज़ा ही है और एक और नई घटना सामने आई है, जो पुलिस के कामकाज पर सवाल खड़े करती है। यह घटना उत्तर प्रदेश के बरेली में हुई है। यहां कासिम नाम के 14 साल के बच्चे को पुलिसवालों ने पीटा है। कासिम दिव्यांग है और बरेली के बिथरी चैनपुर के उड़ला जागीर का रहने वाला है। 

कासिम ने कहा है कि जब वो मछली बेच रहा था तो दो पुलिसवाले आए और उससे कहा कि तुम ग़ैर क़ानूनी काम रहे हो और हमें आधे पैसे चाहिए। कासिम के मना करने पर एक पुलिस वाले ने उसे लाठी से पीटना शुरू कर दिया। कासिम को पीटे जाने का वीडियो भी सामने आया है। 

ताज़ा ख़बरें
कासिम का कहना है कि इसके बाद वे दोनों उसे अपने साथ ले गए और उसे जमकर पीटा। कासिम की पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद बरेली पुलिस ने इस मामले में संज्ञान लिया है एसएसपी, बरेली ने कहा है कि दोनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है और उनके ख़िलाफ़ कठोर विभागीय कार्रवाई की जा रही है। 
उत्तर प्रदेश पुलिस के कामकाज पर देखिए चर्चा- 

सवालों के घेरे में है पुलिस

अल्ताफ़ के अलावा आगरा में अरुण वाल्मीकि की मौत का मामला हो या फिर कानपुर में मनीष गुप्ता हत्याकांड का या सुल्तानपुर में राजेश कोरी की मौत का, ये तो वे ताज़ा मामले हैं, जिन्हें लेकर उत्तर प्रदेश की पुलिस सवालों के कठघरे में है। अल्ताफ़ के परिजन पुलिस से इंसाफ़ की गुहार लगा रहे हैं लेकिन पुलिस दो-ढाई फ़ीट के नल से ख़ुदकुशी करने की बात पर अटकी हुई है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

डंडे का जोर दिखा रही पुलिस

जिस तरह अल्ताफ़ के मामले में पुलिस के बयान को लेकर सैकड़ों सवाल उठे हैं, उसके पिता पर बयान को बदलने के लिए मजबूर करने की बात सामने आयी है, वह साफ करती है कि उत्तर प्रदेश में पुलिस डंडे के जोर पर अपनी बात मनवाना चाहती है और अगर आप मानने के लिए तैयार नहीं हैं तो अरुण वाल्मीकि से लेकर अल्ताफ़ और कई और उदाहरण आपके सामने हैं। ऐसे में कोई शख़्स पुलिस के दरवाज़े से इंसाफ़ मिलने की उम्मीद कैसे कर सकता है। 

सोशल मीडिया पर भी कई लोग उत्तर प्रदेश में पुलिस हिरासत में हो रही मौतों को लेकर सवाल उठा रहे हैं। राजनीतिक दल भी योगी सरकार पर हमलावर हैं लेकिन क्या कहीं से भी ऐसा लगता है कि उत्तर प्रदेश की पुलिस अपने गिरेबां में झांकने के लिए तैयार है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें