loader
वह गाड़ी जिसमें विकास को लाया जा रहा था और जिसका एक्सीडेंट हुआ।

विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर उठ रहे सवालों का जवाब कैसे देगी यूपी पुलिस?

कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे को तो उत्तर प्रदेश पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया लेकिन इसे लेकर उठ रहे कई अहम सवालों के जवाब देना शायद उसके लिए आसान नहीं होगा। 

मीडिया में आ रही ख़बरों में बताया गया है कि उत्तर प्रदेश पुलिस जब विकास को ला रही थी तो उसके काफिले के साथ चल रही पत्रकारों की गाड़ी को रास्ते में ही रोक दिया गया। सवाल नहीं उठते अगर विकास का एनकाउंटर नहीं होता। पुलिस ने मीडिया को रोक दिया और उसके बाद विकास का एनकाउंटर हो गया। 

ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश पुलिस पूरे काफिले के साथ विकास को ला रही थी, ऐसे में जिस गाड़ी में विकास को लाया जा रहा था, उसी गाड़ी का एक्सीडेंट कैसे हुआ और एक्सीडेंट के पीछे क्या कारण रहे। इसके पीछे चल रही गाड़ियों को कोई नुक़सान क्यों नहीं हुआ, क्योंकि काफिले में चल रही गाड़ियों की रफ़्तार अच्छी-खासी होती है और उनमें आपस में दूरी भी बहुत ज़्यादा नहीं होती। क्या पुलिस इस पूरी घटना का कोई साक्ष्य मीडिया और जनता के सामने लाएगी। क्योंकि पुलिस की कहानी पर भरोसा करना मुश्किल है। 

बिना हथकड़ी के था विकास?

पुलिस ने दावा किया है कि विकास दुबे ने पुलिसकर्मियों से हथियार छीनकर भागने की कोशिश की और उसने पुलिसकर्मियों पर गोली चला दी, इसके जवाब में पुलिस ने भी आत्म सुरक्षा में गोली चलाई। उत्तर प्रदेश पुलिस के पास क्या इस बात का कोई जवाब है कि वह ऐसे ख़तरनाक अपराधी जिसने अपने साथियों के साथ मिलकर 8 पुलिसकर्मियों को गोलियों से भून दिया हो, उसे वह बिना हथकड़ी लगाए क्यों ला रही थी। 

विकास के साथी प्रभात मिश्रा के मामले में भी पुलिस का यही कहना था कि उसने पुलिस को चकमा देकर भागने की कोशिश की थी। एनकाउंटर के दौरान कितनी गोलियां चलीं, इस बात का जवाब पुलिस को देना बाकी है।

ऐसा कोई पहली बार नहीं हुआ है, जब भी एनकाउंटर होते हैं, पुलिस इसी तरह की कहानी बताती है कि अपराधी ने भागने की या हमला करने की कोशिश की और उसने उसे पकड़ने या आत्मरक्षा में गोली चलाई। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

इन सवालों से पहले सबसे बड़ा सवाल तो तभी खड़ा हुआ था, जब विकास की उज्जैन से गिरफ़्तारी हुई थी। सवाल यह था कि इतने दुर्दांत अपराधी को जिसे पुलिस की कई टीमें ढूंढ रही हैं, उसे एक साधारण से सुरक्षाकर्मी ने पकड़ लिया और वह कानपुर से फरीदाबाद और फिर उज्जैन कैसे पहुंच गया। 

विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित कई नेताओं और आम लोगों ने सवाल उठाया है कि विकास कई राज उगल सकता था। ये क्या राज थे, इनका पता तो अब नहीं चल पाएगा और साथ ही पुलिस के लिए भी एनकाउंटर को लेकर उठ रहे सवालों का जवाब देना मुश्किल होगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें