loader

नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उठ रहे हैं सवाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़े ही धूमधाम और भव्यता से जेवर में जिस नोयडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का शिलान्यास गुरुवार को किया है, पहली ईंट रखे जान के पहले ही उस पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। ऐसा लगता है कि इस हवाई अड्डे की ज़रूरत आर्थिक कम और राजनीतिक ज़्यादा है।

यह विडंबना ही है कि जेवर स्थित इस हवाई अड्डे की कामयाबी इस पर निर्भर करेगी कि दिल्ली स्थित इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का कारोबार किस तेज़ी से बढता है।

प्रबंध सलाह कंपनी प्राइसवाटरहाउस कूपर्स यानी पीडब्लूसी ने नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की फीजिबिलिटी व टेक्निकल रिपोर्ट तैयार की है। इसका मतलब यह कि यह हवाई अड्डा तकनीकी रूप से कैसे बनाया जाएगा और आर्थिक रूप से कितना सफल होगा। 

ख़ास ख़बरें

पीडब्लूसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जेवर स्थित यह हवाई अड्डा फीजिबल है यानी आर्थिक रूप से फ़ायदेमंद हैं, और बैंकेबल भी, यानी इस पर बैंक पैसे लगा सकते हैं और कर्ज़ वगैरह दे सकते हैं। 

यह निश्चित तौर पर अच्छी बात है।

इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर यात्रियों का जो स्पिल ओवर होगा वह नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को मिलेगा। आसान शब्दों में कहा जाए तो जो दिल्ली स्थित इस हवाई अड्डे पर जब बहुत अधिक यात्री हो जाएंगे तो वे जेवर हवाई अड्डे का इस्तेमाल करेंगे।

पैसेंजर स्पिल ओवर

अब सवाल यह है कि इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर यात्रियों का स्पिल ओवर कब और कितना होगा। प्राइसवाटरहाउस कूपर्स के अध्ययन के मुताबिक, साल 2028-29 में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर स्पिल ओवर होने लगेगा, यानी इतने यात्री हो जाएंगे कि वे वहां से उड़ान नहीं भर पाएंगे और जेवर की ओर रुख करेंगे। 

यह स्पिल ओवर पीक आवर में बढ़ता जाएगा और यह जैसे-जैसे बढ़ता जाएगा, जेवर हवाई अड्डे को मुसाफिर मिलते जाएंगे। 

questions raised over NOIDA International airport at Jewar - Satya Hindi
यह भी कहा गया है कि हवाई अड्डा कामयाब हो सके इसके लिए यह जरूरी होगा कि साल 2022-23 के दौरान उसे पूरे साल में 44.90 लाख यात्री मिलें, जो बढ़ता हुआ 2028-29 में एक करोड़ 20 लाख से ज़्यादा हो जाए। 
questions raised over NOIDA International airport at Jewar - Satya Hindi

सर्वे

पीडब्लूसी का कहना है कि उसने इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 6,700 यात्रियों का रैंडम सर्वे किया। इसने रिपोर्ट में कहा है कि दिल्ली हवाई अड्डे का इस्तेमाल करने वालों में उत्तर प्रदेश के ज़िलों के लगभग 11-12 प्रतिशत यात्री होते हैं। 

इनमें से कितने मुसाफ़िर जेवर हवाई अड्डे का प्रयोग करेंगे, यह इस पर निर्भर करेगा कि प्रस्तावित हवाई अड्डे से यूपी के आसपास के ज़िलों तक पहुँचने का साधन क्या होगा, उन्हें वहाँ पहुँचने में कितना समय लगेगा, कितनी दूरी तय करनी होगी और हवाई अड्डे की सेवा कैस होगी।

questions raised over NOIDA International airport at Jewar - Satya Hindi
पीडब्लूसी रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में मुसाफ़िरों की तादाद हर साल 14 प्रतिशत है जबकि राष्ट्रीय औसत 11.7 प्रतिशत है। यानी पूरे देश के राष्ट्रीय औसत से अधिक तेजी से दिल्ली में यात्रियों की तादाद बढ़ रही है। 
मुसाफ़िरों की इस बढ़ी हुई संख्या में से जो स्पिल ओवर होगा, वह जेवर का रुख करेगा। यह ट्रेंड 2028-29 से तेजी से बढ़ेगा। यानी 2028-29 से ही जेवर को अधिक मुसाफिर मिलने लगेंगे, बर्शते उन्हें वहाँ तक पहुँचने के लिए आसान व तेज साधन मिल जाए।

पीडब्लूसी रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा गया है कि सराय काले खां को शिवाजी स्टेडियम तक रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम और धौला कुआँ व ग्रेटर नोयडा को जेवर हवाई अड्डे तक इसी तरह की परिवहन व्यवस्था से जोड़ना होगा। 

रिपोर्ट में इसकी तारीफ की गई है कि पलवल व अलीगढ़ को जोड़ने वाला राजमार्ग जेवर के नजदीक है। इसी तरह यमुना एक्सप्रेसवे और आगरा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे होने की वजह से जेवर तक पहुँचना मुश्किल नहीं होगा। जेवर के पास अंतिम कुछ दूरी के लिए कुछ सुविधाएं विकसित करनी होंगी और यह काम आसानी से किया जा सकता है। 

questions raised over NOIDA International airport at Jewar - Satya Hindi

नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा कामयाब नहीं होगा, यह नहीं कहा जा सकता है। पर इसकी कामयाबी इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पैसेंजर स्पिल ओवर पर निर्भर करेगी। यह भी मान लिया जाए कि 2028-29 के बाद पैसेंजर स्पिल ओवर भी होगा। पर उस समय तक क्या होगा, यह सवाल तो उठता है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें