loader

लखीमपुर हिंसा: पीड़ितों को नहीं सुना गया- सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में मुख्य अभियुक्त आशीष मिश्रा की जमानत खारिज करते हुए सोमवार को बेहद अहम टिप्पणियां की। शीर्ष अदालत ने कहा कि इस मामले के पीड़ित परिवारों को नहीं सुना गया। लेकिन यह जानना भी जरूरी होगा कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने आशीष मिश्रा को जमानत देते वक़्त इस मामले में क्या कहा था। 

क्या कहा सुप्रीम कोर्ट ने?

अदालत ने कहा कि पीड़ितों को जमानत के मामले की सुनवाई सहित बाकी प्रक्रियाओं में शामिल होने का पूरा हक है।

शीर्ष अदालत ने कहा कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कई गैर जरूरी मुद्दों पर विचार किया और जल्दबाजी भी दिखाई जिस वजह से आशीष मिश्रा को जमानत दिए जाने के आदेश को रद्द किया जाता है।

ताज़ा ख़बरें

आशीष मिश्रा केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे हैं और लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में उन्हें बीते साल 9 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। लेकिन फरवरी में इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने आशीष को जमानत दे दी थी।

सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि इस मामले में दर्ज एफआईआर को घटनाओं के एनसाइक्लोपीडिया के तौर पर नहीं देखा जा सकता और इस मामले में न्यायिक मिसालों को भी पूरी तरह नजरअंदाज कर दिया गया। 

शीर्ष अदालत ने कहा कि हाई कोर्ट ने अपने अधिकार क्षेत्र का अतिक्रमण किया और पीड़ितों को अदालत की कार्यवाही में भाग लेने के उनके हक से वंचित कर दिया।
सीजेआई एनवी रमना, जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली की बेंच ने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में मारे गए किसानों के परिवारों की ओर से दायर विशेष याचिकाओं पर दिए गए आदेश में यह टिप्पणियां की हैं। 

क्या कहा था इलाहाबाद हाई कोर्ट ने?

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत मामले में सुनवाई के दौरान पुलिस के द्वारा मिश्रा पर लगाए गए आरोपों पर सवाल उठाए थे और उसकी जांच को भी खारिज कर दिया था। हाई कोर्ट ने आशीष मिश्रा के द्वारा प्रदर्शनकारियों पर फायरिंग करने के पुलिस के आरोप पर सवाल खड़े किए थे।

अदालत ने कहा था कि इस मामले में जांच के दौरान किसी भी मृतक या घायल शख्स के शरीर पर बंदूक की गोलियों के निशान नहीं मिले हैं। 

अदालत ने कहा था कि घटनास्थल पर हजारों लोग मौजूद थे और ऐसा हो सकता है कि थार एसयूवी के ड्राइवर ने खुद को बचाने के लिए गाड़ी तेज रफ्तार में भगा दी हो और इस वजह से यह घटना घटी हो। 

अदालत ने कहा था कि आशीष मिश्रा पर किसानों पर गाड़ी चढ़ाने के लिए एसयूवी गाड़ी के ड्राइवर को भड़काने का आरोप है। लेकिन उस गाड़ी में मौजूद ड्राइवर और दो अन्य लोगों की प्रदर्शनकारियों ने हत्या कर दी थी।

'आंखें बंद नहीं कर सकते' 

अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि वह लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में थार एसयूवी में बैठे तीन लोगों की हत्या पर आंखें बंद नहीं कर सकती क्योंकि इस घटना के जो फोटो सामने आए हैं उन से पता चलता है कि प्रदर्शनकारियों ने कितनी बर्बरता की थी।
उत्तर प्रदेश से और खबरें

आशीष की जमानत के खिलाफ लखीमपुर हिंसा के पीड़ित परिवारों की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी।

लखीमपुर खीरी की घटना में कुल 8 लोगों की मौत हुई थी। इनमें से 4 किसान भी थे। किसानों के साथ ही बीजेपी के तीन कार्यकर्ताओं शुभम मिश्रा, श्याम सुंदर निषाद और हरि ओम मिश्रा की भीड़ ने जान ले ली थी। एक पत्रकार की भी मौत इस घटना में हुई थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें