loader

भाकियू में दोफाड़, राकेश टिकैत बोले- सरकार के इशारे पर हुआ 

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) में एक बार फिर बिखराव हुआ है और संगठन के कुछ नेताओं ने अपना एक अलग गुट बना लिया है। इस गुट का नाम भारतीय किसान यूनियन (अराजनीतिक) रखा गया है। इस गुट की कमान भाकियू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे राजेश सिंह चौहान को सौंपी गई है।

रविवार को लखनऊ में इस नए संगठन की घोषणा की गई। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बड़े किसान नेता रहे और राकेश टिकैत व नरेश टिकैत के पिता महेंद्र सिंह टिकैत की 11वीं पुण्यतिथि के मौके पर यह घटनाक्रम हुआ। इस मौके पर असंतुष्ट किसान नेताओं ने नरेश टिकैत व राकेश टिकैत पर गंभीर आरोप लगाए।

ताज़ा ख़बरें
असंतुष्ट किसान नेताओं ने कहा कि टिकैत बंधु उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में एक राजनीतिक दल की कठपुतली बन गए और उन्होंने स्वर्गीय महेंद्र सिंह टिकैत के आदर्शों से समझौता किया। इन नेताओं का इशारा राष्ट्रीय लोक दल की ओर था क्योंकि विधानसभा चुनाव में यह आरोप भाकियू पर लगा कि उसने राष्ट्रीय लोक दल का समर्थन किया है।
Split in rakesh tikait BKU - Satya Hindi

इसके जवाब में राकेश टिकैत ने ट्वीट कर कहा है कि किसान हितों पर कुठाराघात करते हुए कुछ लोगों ने भाकियू से अलग कथित संगठन बनाने की घोषणा की है। किसान हितों के विरोधी ऐसे तत्वों को तत्काल प्रभाव से बीकेयू से बर्खास्त किया गया है। इसमें राजेश सिंह चौहान, हरिनाम वर्मा सहित कुल 7 नेताओं के नाम हैं। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें
राकेश टिकैत ने कहा है कि उन्होंने नाराज किसान नेताओं को मनाने की कोशिश की थी लेकिन ऐसा लगता है कि उन पर ज्यादा दबाव था। उन्होंने कहा कि यह सब सरकार के इशारे पर हुआ है और कुछ लोगों के जाने से संगठन पर कोई असर नहीं पड़ेगा।
राकेश टिकैत ने कहा कि वह पूरी तरह गैर राजनीतिक व्यक्ति हैं और उन्होंने चुनाव में किसी का भी समर्थन नहीं किया।

दूसरी ओर, राजेश सिंह चौहान का कहना है कि 13 महीने तक चले किसान आंदोलन के बाद जब हम लोग वापस अपने गांव में लौटे तो किसान नेता राकेश टिकैत राजनीतिक तौर पर प्रेरित दिखाई दिए। हमने उनसे कहा कि हम लोग अराजनीतिक लोग हैं और किसी राजनीतिक संगठन का सहयोग नहीं करेंगे।

राजेश सिंह चौहान के भाई भूपेंद्र सिंह समाजवादी पार्टी में रहे हैं। इससे पहले भी भारतीय किसान यूनियन में कई गुट बन चुके हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें