loader

यूपी पंचायत चुनाव के वोटों की गिनती कराने की अनुमति दी सुप्रीम कोर्ट ने

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव 2021 के वोटों की गिनती कराने की अनुमति दे दी है। अदालत ने शनिवार को उत्तर प्रदेश चुनाव आयोग की दलीलें सुनने के बाद कहा कि मतगणना केंद्रों पर वरिष्ठ अधिकारी तैनात किए जाएं और उन्हें ज़िम्मेदारी लेनी होगी। 

अदालत ने इसके साथ ही यह भी कहा कि मतगणना के दौरान उसके आसपास के इलाक़े में कर्फ़्यू लगा दिया जाए और विजय जुलूस को प्रतबंधित कर दिया जाए। 

राज्य चुनाव आयोग का आश्वासन

यूपी चुनाव आयोग की ओर से सहायक सॉलीसिटर जनरल ऐश्वर्या भाटी ने कहा कि प्रशासन ने 829 मतगणना केंद्रों पर पूरा इंतजाम किया है, कोरोना प्रोटोकॉल को लेकर दिशा-निर्देश दिए गए हैं। 

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट को आश्वस्त किया कि वरिष्ठ अफ़सरों को पूरा इंतजाम करने, सामाजिक दूरी व सेनेटाइजेशन सुनिश्चित कराने को कहा गया है।

उत्तर प्रदेश चुना आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि मतगणना के दौरान कोरोना दिशा निर्देशों का पालन किया जाएगा, कर्फ़्यू लगा दिया जाएगा, भीड़ एकत्रित नहीं होने दी जाएगी और विजय जुलूस पर रोक लगा दी जाएगी।

सुप्रीम कोर्ट ने इसके पहले शनिवार सुबह उत्तर प्रदेश चुनाव आयोग को फटकार लगाते हुए कहा था कि यदि पंचायत चुनाव के वोटों की गिनती दो हफ़्ते बाद हुई तो आसमान नहीं गिर पडेगा। पर राज्य चुनाव आयोग इसके बावजूद तय समय यानी 2 मई को वोटों का गिनती कराने पर तुला हुआ था। 

बता दें कि यूपी पंचायत चुनाव 2021 चार चरणों में कराया जा चुका है और वोटों की गिनती 2 मई को होनी है। 

ख़ास ख़बरें
शनिवार को हुए चुनाव में सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग के वकील से पूछा,

स्थितियाँ जानते हुए भी आप वोटों की गिनती कराना चाहते हैं? क्या आप दो हफ़्तों तक रुक नहीं सकते जब तक स्थिति सुधर जाए?


सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, 'क्या आप इसके बावजूद आगे बढ़ना चाहते हैं? यदि तीन हफ़्तों के लिए वोटों की गिनती रोक दी गई तो आसमान नहीं गिर पड़ेगा।' 

इस पर सु्प्रीम कोर्ट ने कहा, 

हमने वोटों की गिनती कराने का फ़ैसला किया है।


उत्तर प्रदेश चुनाव आयोग

अदालत ने यह भी कहा कि वोटों की गिनती में भाग लेने में शिक्षकों ने अनिच्छा जताई है, इस पर क्या करेंगे। पर राज्य चुनाव आयोग हर हाल में वोटों की गिनती कराने पर आमादा है। 

क्या कहना है शिक्षकों का?

प्राथमिक शिक्षकों के संघ के मुताबिक़, इस पूरी कवायद में कोरोना से 700 से ज्यादा शिक्षकों की जान चली गयी है। शिक्षक संघ ने मृत शिक्षकों की सूची जारी कर सरकार से जवाब माँगा है कि कोरना की ज़बरदस्त लहर के बीच आखिर क्यों चुनाव कराए गए।

स बीच प्रदेश में पंचायत चुनावों के लिए 2 मई से मतगणना का काम शुरू होना है और पेपर बैलेट से हुए इन चुनावों के लिए मतों की गिनती के काम में भी बड़े पैमाने पर शिक्षकों की ही ड्यूटी लगाई गयी है।

शिक्षकों का कहना है कि यूपी पंचायत चुनाव 2021 उस समय कराए गए, जब कोरोना का प्रसार अपने चरम पर है। चुनाव ड्यूटी के प्रशिक्षण से लेकर मतदान तक संक्रमण को रोकने के कोई उपाय नही किए गए। इतना ही नहीं इन चुनावों में संक्रिमतों को भी वोट डालने की सुविधा दी गयी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें