loader

हाथरस: योगी जी, अब मत कहना कि यूपी में क़ानून का राज है

उत्तर प्रदेश में विपक्षी दल इन दिनों एक नारा जोर-शोर से लगाते हैं। यह नारा है- ‘जब-जब योगी डरता है, पुलिस को आगे करता है।’ योगी आदित्यनाथ के 2017 में सत्ता संभालने के बाद पुलिस पर विपक्षी दलों के नेताओं को पीटने-नजरबंद करने, धड़ाधड़ एनकाउंटर करने, नागरिकता संशोधन क़ानून के दौरान मुसलमानों के घरों में घुसकर लाठीचार्ज करने के आरोप लगे। 

यह भी कहा गया कि योगी अपनी जाति के लोगों को ही पुलिस में अहम पदों पर पोस्टिंग दे रहे हैं और उत्तर प्रदेश में पुलिसिया गुंडई चरम पर है लेकिन योगी का अपनी पुलिस पर पूरा भरोसा बना रहा। 

हाथरस मामले में इसी पुलिस ने योगी आदित्यनाथ की कुर्सी खिसकाने की नौबत पैदा कर दी है। क्योंकि पुलिस दलित युवती से बलात्कार के मामले में 8 दिन बाद गैंगरेप की धारा जोड़े जाने से लेकर, युवती के शव को रातों-रात दिल्ली के सफदरजंग से हाथरस लाकर मां-बाप के लाख बिलखने के बाद भी रात को ही जला देने के आरोपों से घिरी है। राहुल-प्रियंका गांधी, टीएमसी सांसदों से धक्का-मुक्की, दूसरे दलों के कार्यकर्ताओं पर जानबूझकर लाठीचार्ज करने के आरोप उस पर हैं ही।

ताज़ा ख़बरें

धमका रहे दो युवक

इसी बवाल के बीच, रविवार शाम को आया एक नया वीडियो योगी सरकार की मुश्किलें बहुत ज़्यादा बढ़ा सकता है। वीडियो विस्फोटक है और कांग्रेस ने इसे तमाम ट्विटर हैंडलों पर तेजी से दौड़ा दिया है। वीडियो में दो युवक बैठे हैं। उनमें से एक युवक चिल्लाकर कहता है- ‘इसको सीबीआई पर भरोसा नहीं है, इसको एसआईटी पर भरोसा नहीं है, इसको कानून पर भरोसा नहीं है, एक बार मुलाक़ात कर, हम तुझे भरोसा दिलाएंगे।’ 

युवक आगे कहता है, ‘जो तू यहां राजनीति कर रहा है ना, तुझे भरोसा दिला देगा...। एक बार भरोसा दिला बेटा, बाहर आ। तेरे से मुलाक़ात करने तेरे भाई आए हैं बड़े... जल्दी आ।’ बगल में बैठा युवक कहता है- ठाकुर घर में पैदा होना...। आगे वह कुछ और भी कहता है। कहा जा रहा है कि ये लोग पीड़िता के परिवार को धमकी दे रहे हैं और उसके गांव के आसपास ही बैठे हैं। 

पीछे पुलिस भी तैनात है

आप सीन समझिए- इन दोनों की आवभगत हो रही है। उनके लिए कुर्सियां लगी हुई हैं, गांव की एक महिला उन्हें पानी पिला रही है और सबसे बड़ी बात जनता के पैसे से तनख्वाह पाने वाली पुलिस के कई कर्मचारी उनके पीछे खड़े हैं। ऐसा लगता है कि उनकी सुरक्षा में तैनात हैं, वरना ये लोग ऐसे कैसे धमकी दे देते। 

योगी के झूठ का पर्दाफ़ाश 

पीड़िता का परिवार बेहद ग़रीब है और ऊपर से दलित समुदाय से है। उनकी अगर कोई सुनने वाला होता तो योगी सरकार और यूपी पुलिस अभी तक युवती से बलात्कार को लेकर अंधाधुंध झूठ नहीं बोल चुकी होती। हालांकि उसके झूठों का पर्दाफ़ाश हो चुका है क्योंकि पीड़िता की मेडिको-लीगल रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि पीड़िता ने बलात्कार किए जाने की बात कही थी और डॉक्टरों ने भी इसकी पुष्टि की थी। 

बहरहाल, यह वीडियो तब सामने आया है जब इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच साफ कह चुकी है कि पीड़िता के परिवार पर किसी तरह का दबाव नहीं डाला जाएगा। उन्हें पूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी और 12 अक्टूबर को होने वाली सुनवाई में अदालत उनका भी पक्ष सुनेगी। ट्विटर पर कुछ लोगों ने कहा है कि वे इस वीडियो को अदालत में पेश करेंगे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

योगी सरकार कैसे कह रही है कि पीड़िता के साथ गैंगरेप नहीं हुआ। देखिए, वीडियो - 

यूपी में बदतर हालात

इस वीडियो के सामने आने के बाद केंद्र सरकार, बीजेपी या योगी आदित्यनाथ सरकार कतई यह नहीं कह सकती कि प्रदेश में गुंडों का राज नहीं चल रहा है। क्योंकि जिस घर में एक युवती के साथ हैवानियत के बाद उसकी मौत हुई हो, आज पूरा देश उसके साथ खड़ा हो, मीडिया, विपक्ष साथ खड़ा हो, तब दो गुंडे पुलिस के साथ आकर इस तरह की धमकी भरी भाषा का इस्तेमाल करें। 

सोचिए, कुछ दिन बाद जब मीडिया नहीं होगा, पुलिस नहीं होगी, विपक्ष हर वक्त साथ रह नहीं सकता तो इन लोगों को कौन बचाएगा। इससे उत्तर प्रदेश के आम लोगों और खासकर दलितों की क्या स्थिति है, इस बारे में सोचा-समझा जा सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें