loader
बछौड़ गांव पहुँचा प्रशासनिक अमला।

यूपी: पुलिस ने दबिश दी और परिवार की 3 महिलाओं ने जान दे दी

उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक परिवार पर दबिश दी और फिर उस घर में तीन महिलाओं ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। परिजन ने आरोप लगाया है कि पुलिस की बर्बरता के कारण उनका परिवार तबाह हो गया। परिजन ने यह भी आरोप लगाया है कि पुलिस ने पत्नी और बेटियों के साथ दुर्व्यवहार किया और इतनी प्रताड़ना की कि वे जान देने को मजबूर हो गईं। इस मामले में हंगामा काफ़ी ज़्यादा बढ़ने के बाद पुलिस ने अब उत्पीड़न के कारण आत्महत्या करने का मामला दर्ज कर किया है। इस मामले में आरोपी उपनिरीक्षक नरेशपाल को निलंबित कर दिया गया है। पुलिस ने इसको लेकर बयान जारी किया है।

यह मामला बागपत ज़िले के बाछौड़ गांव का 24 मई का है। एक दलित लड़की के अपहरण के आरोपी की तलाश में 24 मई को पुलिस महक सिंह के घर पर दबिश देने गई थी। 

दरअसल, 3 मई को गांव के दलित समुदाय से आने वाले कांतिलाल ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी कि ओबीसी समुदाय के महक सिंह के 24 वर्षीय बेटे प्रिंस ने उनकी 22 वर्षीय बेटी का अपहरण कर लिया है। उन्होंने यह रिपोर्ट तब दर्ज कराई थी जब दोनों गांव से लापता हो गए थे।

इसी मामले में 24 मई की शाम पुलिस अधिकारी नरेशपाल महक सिंह के घर पहुंचे। वह प्रिंस के बारे में पूछ रहे थे। महक सिंह की एफ़आईआर के अनुसार वह उस समय घर पर नहीं था। महक के छोटे भाई सुनील ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'महक के घर का मेन गेट अंदर से बंद था तो पुलिसकर्मी कांतिलाल के दोनों बेटों के साथ मेरे घर में जबरन घुस आए और पिछले दरवाजे को तोड़कर और छत का इस्तेमाल कर महक के घर में घुस गए। न मेरा भाई और न ही उसका बेटा मौजूद थे। पुलिस के साथ कोई महिला कांस्टेबल भी नहीं थी। उन्होंने तीन महिलाओं को पीटा, बार-बार पूछ रहे थे कि प्रिंस कहाँ छिपा है।'
ताज़ा ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार सुनील की पत्नी मोहिनी ने कहा, 'उसने धमकी दी कि अगर पुलिस ने उन्हें परेशान करना बंद नहीं किया तो परिवार जहर खा लेगा, लेकिन पुलिसकर्मी नहीं रुके। तीनों ने चूहों को मारने वाला कीटनाशक निगल लिया।' 

महक सिंह की पत्नी और दो बेटियों की जहर खाने से मौत हो गई। 18 वर्षीय बेटी स्वाति की बुधवार शाम मेरठ के एक अस्पताल में मौत हो गई थी, जबकि 16 वर्षीय बेटी प्रीति और 45 वर्षीय पत्नी अनुराधा की गुरुवार सुबह मौत हो गई।

रिपोर्ट के अनुसार, महक सिंह ने आरोप लगाया था कि छापेमारी के दौरान कोई पुलिसकर्मी मौजूद नहीं था, जबकि उस समय घर में केवल महिलाएं थीं।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
ग्रामीणों द्वारा विरोध और नाकेबंदी करने के बाद, जिलाधिकारी राज कमल यादव सहित प्रशासनिक अमला गांव में पहुँचा। एक रिपोर्ट के अनुसार प्रशासन ने 71 लाख रुपये के मुआवजे का आश्वासन दिया है।

हाथरस के एसपी नीरज जादौन ने कहा, 'एक प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और निष्पक्ष जांच के लिए अपराध शाखा को जांच सौंपी गई है।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें