loader

बस विवाद: 14 दिन के लिए जेल भेजे गए यूपी कांग्रेस अध्यक्ष लल्लू, बसें वापस लौटीं

उत्तर प्रदेश में प्रवासी मज़दूरों को लाने के लिए कांग्रेस की ओर से बसें दिये जाने पर योगी सरकार और कांग्रेस के बीच शुरू हुई रार थम नहीं रही है।

कांग्रेस की ओर से बसों की सूची में फ़र्ज़ीवाड़े के आरोप में गिरफ्तार किए गए प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को गुरुवार को ज़िला जेल भेज दिया गया। इससे पहले मंगलवार रात आगरा में गिरफ्तार किए गए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बुधवार अदालत से ज़मानत मिल गयी थी पर उन्हें लखनऊ पुलिस ने फिर से गिरफ्तार कर लिया। लल्लू को गिरफ्तार कर लखनऊ में अदालत में पेश किया गया जहाँ से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में गुरुवार को जेल भेजा गया। उधर लगातार तीन दिन तक राजस्थान सीमा को छूते उत्तर प्रदेश के आगरा ज़िले में नगला ऊँचा गाँव में कांग्रेस की सैकड़ों बसें इंतजार करने के बाद बुधवार रात बैरंग वापस लौट गयीं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को जेल भेजे जाने और बसों का मज़दूरों के लिए उपयोग न करने को लेकर गुरुवार को यूपी कांग्रेस के हज़ारों कार्यकर्ताओं ने फ़ेसबुक लाइव कर अपना विरोध जताया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बुधवार देर रात लल्लू की रिहाई के लिए अस्थाई जेल के सामने प्रदर्शन भी किया था।

ताज़ा ख़बरें

लल्लू से 14 दिनों तक मुलाक़ात नहीं

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष लल्लू को बुधवार रात लखनऊ के तेलीबाद इलाक़े में सिंचाई विभाग के गेस्टहाउस में बनायी गयी अस्थाई जेल में रखा गया था। गुरुवार सुबह उनकी कोरोना जाँच रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें ज़िला जेल में दाखिल कर दिया गया। ज़िला जेल में लल्लू को क्वॉरंटीन बैरक में रखा गया है और अगले 14 दिन तक उनसे मुलाक़ात पर पाबंदी लगा दी गयी है।

ग़ौरतलब है कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को आगरा पुलिस ने मंगलवार रात उस समय गिरफ्तार कर लिया था जब वह ज़िले की सीमा पर खड़ी पार्टी की बसों को मज़दूरों को ढोने के लिए नोएडा व गाज़ियाबाद ले जाने की ज़िद कर रहे थे। लल्लू को धरना देने व महामारी एक्ट के उल्लंघन की धाराओं के तहत गिरफ़्तार किया गया था। बुधवार दोपहर बाद अजय लल्लू को आगरा की अदालत ने रिहा कर दिया। हालाँकि लल्लू को रिहा करते ही उन्हें लखनऊ की पुलिस ने हिरासत में ले लिया। 

बसों की सूची में कुछ विवरण ग़लत होने पर फ़र्ज़ीवाड़े के आरोप में मंगलवार रात लखनऊ की हज़रतगंज कोतवाली में अजय लल्लू व प्रियंका गाँधी के निजी सचिव संदीप सिंह के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कराया गया था।

सोशल मीडिया पर विरोध

गुरुवार को राजीव गाँधी की शहादत दिवस के मौक़े पर यूपी कांग्रेस के हज़ारों कार्यकर्ताओं ने फ़ेसबुक लाइव कर योगी सरकार के ख़िलाफ़ अपना विरोध जताया। कांग्रेसियों ने कहा कि मज़दूरों के लिए बसें दिए जाने पर उनके प्रदेश अध्यक्ष को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है जबकि लाखों की तादाद में लोग पैदल अपने घर लौटने को मजबूर हैं।

इससे पहले बुधवार को प्रियंका गाँधी ने फ़ेसबुक व यूट्यूब के ज़रिए अपनी बात रखी। सरकार की ओर कांग्रेस पर हमला बोलने के लिए लगातार उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा को उतारा जा रहा है। प्रियंका ने योगी सरकार को यहाँ तक प्रस्ताव दिया कि वो बसों पर अपनी तसवीरें लगा लें पर उन्हें मज़दूरों को ढोने के काम में लगा लें। उधर बुधवार देर शाम कांग्रेस की सैकड़ों बसें इंतज़ार करने के बाद वापस लौट गयीं जबकि प्रदेश में कई सीमाओं पर मज़दूर पैदल ही अपने घर का रास्ता नापते रहे। इस बीच लगातार प्रियंका गाँधी के मज़दूरों को लाने के लिए बसें दिए जाने को लेकर प्रदेश सरकार के साथ भाजपा के तमाम छोटे-बड़े नेता ज़हर उगलते रहे। इनमें कुछ महीनों से अलग सुर अलाप रहीं कांग्रेस की नाराज़ विधायक अदिति सिंह भी शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

योगी सरकार को अखरा था कांग्रेस का प्रस्ताव

दरअसल, बीते कुछ दिनों से मज़दूरों के लिए बसें चलाने के प्रियंका गाँधी के प्रस्ताव पर योगी सरकार और कांग्रेस में ज़बरदस्त राजनीति चल रही है। उत्तर प्रदेश की नोएडा व गाज़ियाबाद सहित कई सीमाओं पर हज़ारों मज़दूर घरों को जाने के लिए बसों के इंतज़ार में तपती गर्मी में भुन रहे हैं जबकि नेता अपनी राजनीति चमकाने के लिए चिट्ठीबाज़ी और प्रेस कांफ्रेंसों में ही उलझे हुए हैं।

ग़ौरतलब है कि इससे पहले दो दिनों तक प्रियंका के प्रस्ताव को ठंडे बस्ते में डालने के बाद योगी सरकार ने सोमवार को बसें चलाने की अनुमति दी तो तमाम शर्तें थोपनी शुरू कर दीं। पहले बसों की सूची माँगी, फिर ड्राइवर, कंडक्टरों के नाम और फिर बस सहित लखनऊ आकर लाइसेंस व फ़िटनेस सर्टिफिकेट जाँच करवाने का फ़रमान सुना दिया। और तो और कांग्रेस की ओर से बसों की सूची देने पर उनमें से क़रीब डेढ़ दर्जन को ऑटो, एंबुलेंस, स्कूल बस व ट्रैक्टर बता दिया। आख़िर तमाम बवाल के बाद मंगलवार दोपहर प्रदेश सरकार ने बसों के कागज जाँच करवाने के लिए नोएडा व गाज़ियाबाद ज़िला प्रशासन के पास जाने को कह दिया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें