loader
निषादों को एससी दर्जा दिलाने के लिए 2021 में संजय निषाद की रैली। फाइल फोटो

यूपी में 18 ओबीसी जातियों की राजनीति फिर गरमाएगी

यूपी में 18 ओबीसी जातियों को एससी (अनुसूचित जाति) का दर्जा देने का मुद्दा फिर से गरमा सकता है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 31 अगस्त बुधवार को अपने फैसले में 18 ओबीसी जातियों को एससी का दर्जा देने के तीन सरकारी आदेशों को रद्द कर दिया। जो तीन सरकारी आदेश रद्द किए गए, उनमें से दो आदेश अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी के कार्यकाल में और तीसरा आदेश योगी आदित्यनाथ की बीजेपी के कार्यकाल में जारी किए गए थे। 2017 और 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव और 2019 के आम चुनाव में कुछ निषाद समेत कई ओबीसी जातियों को एससी का दर्जा देने के मुद्दे पर जबरदस्त राजनीति हुई थी। 

2024 के आम चुनाव से पहले यह मुद्दा फिर गरमा सकता है। लेकिन इस राजनीतिक कहानी का मर्म ये है कि इन 18 ओबीसी जातियों के मौसम में हर बार ठगा जाता है, वादे किए जाते हैं और फिर मामला अदालत में जाता है तो सब फुस्स हो जाता है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बुधवार को जो फैसला सुनाया, उस पर यूपी की बीजेपी सरकार प्रतिक्रिया तक नहीं दे सकी, जिसमें ओबीसी कोटे के तहत कई मंत्री और डिप्टी सीएम बने हुए हैं।

ताजा ख़बरें

क्या हुआ हाईकोर्ट में

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 31 अगस्त को दिए गए अपने फैसले में कहा कि सिर्फ केंद्र सरकार के अधिकार में है कि वो अनुसूचित जाति की सूची में किस जाति को शामिल करे या किसे नहीं करे। इसलिए 18 ओबीसी जातियों को एससी सूची में लाने के तीनों सरकारी आदेश रद्द किए जाते हैं।

इन ओबीसी जातियों को मिला था दर्ज

यूपी में सपा और बीजेपी ने समय-समय पर जिन जातियों को एससी सूची में शामिल किया था, उसमें मंझावर, कहार, कश्यप,केवट, मल्लाह, निषाद, कुम्हार,प्रजापति,धीवर,बिन्द, भर, राजभर, धीमन, बाथम, तुरा, गोदिया, मांझी और मछुआ हैं। सपा सरकार के समय जो दो आदेश हुए थे, उसमें निषाद शामिल नहीं थे। संजय निषाद के दबाव बनाने पर बीजेपी ने निषाद को भी इसमें डाला। यहां बताना जरूरी है कि कहार, कुम्हार, प्रजापति एक ही जाति है लेकिन अलग-अलग लोग अलग नाम में अपने साथ इन जातियों को लिखते हैं, इसीलिए .यूपी सरकार ने ये नाम डाले थे। इसी तरह भर, राजभर, बिन्द, धीवर भी एक ही जाति है, लेकिन इनके तमाम लोग अपने नाम में अलग-अलग तरह से लिखते हैं। मल्लाह, केवट, निषाद, मंझावर एक ही बिरादरी है लेकिन अलग-अलग लोग अलग-अलग प्रयोग करते हैं। लेकिन हर नाम वाला खुश रहे तो राजनीतिक दलों ने उन्हें खुश करने में पूरी ईमानदारी बरती।    

कब-कब हुई पहलः  लगभग 18 वर्षों से यह मुद्दा सरकार, राजनीतिक दलों और कोर्ट के बीच फुटबॉल बना हुआ है। समाजवादी पार्टी की सरकार ने 18 ओबीसी जातियों को एससी का दर्जा देने के लिए 21 और 22 दिसंबर 2016 को दो आदेश जारी किए। 2017 में यूपी विधानसभा के चुनाव होने वाले थे और सिर्फ चंद महीने पहले ये आदेश अखिलेश यादव की सरकार ने जारी किए थे। 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में सपा बुरी तरह हार गई। बीजेपी सत्ता में आ गई। योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बन गए। बीजेपी सरकार ने सपा सरकार के उन दोनों आदेशों को ठंडे बस्ते में डाल दिया। 2019 में आम चुनाव तय थे। संजय निषाद की निषाद समाज पार्टी, अपना दल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने इसे मुद्दा बना दिया। 24 जून 2019 को योगी सरकार ने केंद्र को कुछ ओबीसी जातियों को एससी सूची में शामिल करने के लिए पत्र लिखा और एक आदेश भी जारी किया। 

जाति की राजनीति

यूपी के सभी राजनीतिक दलों की राजनीति अब जाति आधारित हो गई है।  2022 का यूपी विधानसभा चुनाव इसका गवाह रहा। हालांकि उससे पहले बाकी चुनावों में भी जाति हावी रही लेकिन पिछले चुनाव की यादें ज्यादातर लोगों के दिलोदिमाग में रहती हैं। इसलिए 2022 के यूपी चुनाव के जरिए राज्य में जातियों के चुनाव खेल को समझा जा सकता है। 

निषाद समाज पार्टी का बीजेपी से 2017 में चुनावी गठबंधन था। पिछला पांच साल इस पार्टी के प्रमुख संजय निषाद ने बीजेपी के भरोसे पर गुजारा।  अक्टूबर  2021 में जब बीजेपी ने दोबारा से यूपी चुनाव का दंगल शुरू किया तो उसे एहसास हो गया कि बीजेपी के हालात इतने अच्छे नहीं हैं। उसी दौरान हालात को भांपते हुए संजय निषाद ने केंद्रीय गृहमंत्री  अमित शाह की रैली लखनऊ में कराई। वहां उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि अगर निषाद, मछुआ, मझावर, केवट, मल्लाह को एससी का दर्जा नहीं मिला तो वो बीजेपी से गठबंधन तोड़ लेंगे। उधर, सपा का गठबंधन बीजेपी छोड़कर आए ओमप्रकाश राजभर की पार्टी सुभासपा से हो गया था। बीजेपी इससे दहली हुई थी। संजय निषाद ने इसके बाद दबाव बनाना शुरू किया। सीएम योगी ने फौरन केंद्र सरकार को पत्र लिखकर इन जातियों को एससी सूची में शामिल करने का आग्रह किया। 

निषाद समाज के नेता दिल्ली बुलाए गए। उनकी मुलाकात बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और यूपी प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान से कराई गई। बीजेपी ने यूपी में इसकी जमकर मार्केंटिंग की। फिर यूपी सरकार ने नोटिफिकेशन जारी करके निषाद, मल्लाह, मछुआ, मझावर, केवट को एससी का दर्जा दे दिया। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

हाईकोर्ट के फैसले के बाद इन जातिवादी पार्टियों के नेता अब किस मुंह से अपने समाज के सामने जाएंगे, यह तो पता नहीं लेकिन अब उनकी राजनीति फिर गरमाएगी। बहुत मुमकिन है कि निषाद पार्टी 2024 से पहले मांग रखे कि केंद्र में बीजेपी की सरकार है तो वो इन ओबीसी जातियों को एससी का दर्जा क्यों नहीं देती। यह मुद्दा फिर से राजनीतिक रूप लेगा। बस वक्त का इंतजार है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें