loader

सीएम योगी के पिता का निधन, लॉकडाउन के चलते अंतिम संस्कार में नहीं जाएंगे

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का निधन हो गया है। सोमवार सुबह 10.44 मिनट पर उन्होंने दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में अंतिम सांस ली। किडनी से जुड़ी समस्या के कारण उन्हें बीते महीने एम्स में भर्ती किया गया था। 

मुख्यमंत्री ने अपने पिता के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा, ‘मेरे पिता ने हमेशा मुझे ईमानदारी, मेहनत और निस्वार्थ भाव से काम करना सिखाया। अंतिम क्षणों में उनके दर्शन की हार्दिक इच्छा थी लेकिन कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ चल रही जंग में उत्तर प्रदेश के 23 करोड़ लोगों के लिए अपने कर्तव्यबोध के कारण ऐसा नहीं कर सका।’ 

ताज़ा ख़बरें

मुख्यमंत्री ने कहा है कि वह लॉकडाउन के कारण अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाएंगे। उन्होंने अपनी मां और रिश्तेदारों से अपील की है कि वे अंतिम संस्कार के दौरान लॉकडाउन के प्रोटोकॉल का पालन करें। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
उत्तर प्रदेश के सूचना और जनसंपर्क विभाग के निदेशक शिशिर ने ट्वीट किया है कि मुख्यमंत्री को पिता के निधन की सूचना एक बैठक के दौरान मिली। उनके पिता के शव को उत्तराखंड में पौड़ी स्थित उनके निवास स्थान पर ले जाया गया है। मुख्यमंत्री के पिता के निधन पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सहित कई अन्य नेताओं ने दुख व्यक्त किया है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें