loader
दुर्गा पूजा पंडाल।फ़ोटो साभार: ट्विटर/सुजीत बोस

बंगाल- पूजा पंडाल में श्रद्धालुओं का प्रवेश नहीं: हाई कोर्ट

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा पंडाल में श्रद्धालुओं का प्रवेश नहीं होगा। यानी सिर्फ़ पंडाल के आयोजक ही अंदर जा सकेंगे। कलकत्ता हाई कोर्ट ने यह आदेश दिया है। कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र हाई कोर्ट ने पंडाल के अंदर आयोजकों की संख्या को भी सीमित रखने का आदेश दिया है। बड़े पंडाल के अंदर एक बार में 25 से ज़्यादा नहीं और अपेक्षाकृत छोटे पंडाल में 15 से ज़्यादा लोग नहीं जा सकेंगे। यानी सीधे-सीधे कहें तो पंडाल श्रद्धालुओं के लिए नो एंट्री ज़ोन होंगे। कोलकाता में नौ दिन तक मनाये जाने वाले इस पर्व के दौरान दुर्गा पूजा पंडाल देश भर में ख्यात हैं और इसको देखने लोग लाखों की संख्या में आते हैं। लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते इस बार ऐसी स्थिति नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें

कोरोना संक्रमण के फैलने के ख़तरे को देखते हुए अदालत ने यह फ़ैसला दिया है। कोर्ट ने सभी पंडालों से कहा है कि वे प्रवेश द्वार पर बैरिकेड्स लगाएँ। जन स्वास्थ्य की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए कोर्ट ने कहा कि कोलकाता में इतने पुलिसकर्मी नहीं हैं कि शहर के 3000 से ज़्यादा पंडालों की व्यवस्था संभाल सकें। 

यह फ़ैसला ऐसे समय में आया है जब पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। हाल के दिनों में जब अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई है और त्योहार के मद्देनज़र दुकानों और मॉल में खरीदारी बढ़ी तो संक्रमण के मामले भी बढ़ने लगे। राज्य में 3,983 ताज़ा मामले आए हैं जो कि रिकॉर्ड संख्या है। अब तक राज्य में कुल 3,21,036 पॉजिटिव केस आए हैं। रविवार को बंगाल में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या बढ़कर 6,000 से अधिक हो गई है।

हाल के दिनों में विशेषज्ञों ने भी इसको लेकर सचेत किया है कि त्योहारी मौसम में संक्रमण बढ़ सकता है। 

कोरोना संक्रमण की इसी आशंका के मद्देनज़र पश्चिम बंगाल सरकार भी इस मामले में फूँक-फूँक कर क़दम रख रही है। लेकिन राजनीतिक मजबूरियों और विपक्ष द्वारा हमला किए जाने की आशंका के बीच पिछले महीने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने विपक्ष का नाम लिए बगैर कहा, 'हम इस वर्ष दुर्गा पूजा का आयोजन ज़रूर करेंगे। हमें किसी भी क़ीमत पर भीड़ से बचना होगा क्योंकि अगर हम पूजा की अनुमति नहीं देते हैं या यदि पूजा के बाद संक्रमण बढ़ता है तो हमें दोष देने के लिए गिद्ध वहाँ बैठे हैं। उनकी कोई ज़िम्मेदारी नहीं है।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें