loader

अधीर रंजन बोले- बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस में शामिल हों ममता 

बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की ओर से यह अपील करने के बाद कि बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस और वाम दल उसके साथ आएं, अब कांग्रेस की ओर से कुछ ऐसी ही अपील की गई है। 

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बीजेपी को हराने  के लिए कांग्रेस में शामिल हो जाना चाहिए। 

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस संसदीय दल के नेता चौधरी ने उत्तरी 24 परगना के बारासात में शुक्रवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘ममता बनर्जी 2011 में कांग्रेस की मदद से सत्ता में आई थीं। लेकिन इसके बाद उन्होंने हमारी पार्टी को ख़त्म करने की कोशिश की। अब जब बीजेपी यहां मजबूत हो रही है तो वह हमसे समर्थन मांग रही हैं, बजाय इसके कि उन्हें कांग्रेस में शामिल हो जाना चाहिए।’ चौधरी ने कहा कि कांग्रेस की मदद के बिना पश्चिम बंगाल में बीजेपी को रोक पाना संभव नहीं है। 

इससे पहले बुधवार को टीएमसी के सांसद सौगत राय ने अपील की थी कि कांग्रेस और वाम दल बीजेपी की सांप्रदायिक और विभाजनकारी राजनीति के ख़िलाफ़ टीएमसी के साथ आएं। 

mamta should join congress in bengal election 2021 Adhir said - Satya Hindi

सौगत राय ने कहा था कि ममता बनर्जी सेक्युलर राजनीति का असली चेहरा हैं। हालांकि सौगत की इस अपील को कांग्रेस और वाम दलों ने ख़ारिज कर दिया था। सीपीएम नेता सुजान चक्रवर्ती और कांग्रेस नेता अब्दुल मन्नान ने कहा था कि टीएमसी बीजेपी के ख़िलाफ़ लड़ना नहीं चाहती और बीजेपी भी उसके ख़िलाफ़ नहीं लड़ना चाहती।

बंगाल में विधानसभा चुनाव कुछ ही महीने दूर हैं और जिस तरह बीजेपी के बड़े नेता लगातार राज्य के दौरे कर रहे हैं, उससे विपक्षी दलों के नेताओं में खलबली है। बीते कुछ दिनों में टीएमसी के कई बड़े नेता बीजेपी में शामिल हो चुके हैं और कुछ और नेताओं के शामिल होने के दावे किए जा रहे हैं।

mamta should join congress in bengal election 2021 Adhir said - Satya Hindi

कांग्रेस-वाम दल आए साथ

बता दें कि विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और वाम दलों ने इस बार भी गठबंधन किया है। पिछले विधानसभा चुनाव में भी इस गठबंधन का प्रदर्शन ख़राब रहा था। इसलिए ऐसा माना जा रहा था कि दोनों दल इस बार गठबंधन नहीं करेंगे। लेकिन सियासी हालात को देखते हुए दोनों को फिर साथ आना पड़ा। 

बंगाल में कांग्रेस और वाम मोर्चा के फिर से साथ आने का मतलब ख़ुद के वजूद को बचाने की कोशिश है क्योंकि ऐसा लग रहा है कि राज्य में सीधी सियासी लड़ाई है और यह बीजेपी और टीएमसी के बीच है। 

कांग्रेस यह आरोप लगाती है कि यह ममता बनर्जी ही हैं, जिन्होंने 1999 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़कर उसे बंगाल में पैर पसारने का मौक़ा दिया जबकि उसने तब ममता को सावधान भी किया था।

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

पश्चिम बंगाल में अपनी सरकार बनाने के मक़सद से राज्य में ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे बीजेपी के नेताओं के जवाब में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी जनसभाओं, रैलियों से चुनावी माहौल बनाना शुरू कर दिया है। हाल ही में बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर हुए हमले के बाद बीजेपी ने ममता सरकार पर हमले तेज़ किए हैं। बीजेपी का कहना है कि ममता सरकार में बीजेपी के कार्यकर्ताओं की लगातार हत्या हो रही है। 

दूसरी ओर, ममता बनर्जी जल्द ही कोलकाता में विपक्षी नेताओं की एक रैली का आयोजन करने जा रही हैं और इसमें वह अरविंद केजरीवाल, शरद पवार, डीएमके प्रमुख स्टालिन समेत कई नेताओं को बुला रही हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें