loader

कोरोना वैक्सीन ट्रायल में भाग लेने वाले एक ब्राज़ीलियन की मौत, ट्रायल जारी

कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में भाग लेने वाले ब्राज़ील के एक नागरिक की मौत हो गई है। अधिकारियों ने बुधवार को इसकी जानकारी दी है। हालाँकि अब मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि मृतक व्यक्ति को अब तक ट्रायल वाली वैक्सीन नहीं लगाई गई थी। इस बीच वैक्सीन बनाने वाली कंपनी ने साफ़ किया है कि ट्रायल जारी रहेगा। जबकि पहले इस वैक्सीन के ट्रायल में एक व्यक्ति के सिर्फ़ बीमार पड़ने पर ही ट्रायल को रोक दिया गया था। तब कंपनी की ओर से कहा गया था कि उस प्रक्रिया की पूरी समीक्षा के बाद ही ट्रायल को आगे जारी रखा जा सकता है। हालाँकि ताज़ा मामले में ट्रयाल को नहीं रोका गया है। इन कारणों से यह काफ़ी उलझता हुआ मामला लगने लगा है। 

सम्बंधित ख़बरें

यह मामला उस वैक्सीन से जुड़ा है जिसको ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ने विकसित किया है और एस्ट्राज़ेनेका कंपनी इसका निर्माण करा रही है। इस कंपनी की वैक्सीन का ट्रायल भारत सहित दुनिया के कई देशों के साथ ही ब्राज़ील में भी चल रहा है। ब्राज़ील की नेशनल हेल्थ सर्विलांस एजेंसी इसकी निगरानी कर रही है। वैसे, यह एजेंसी कई कंपनियों द्वारा ब्राज़ील में किए जा रहे ट्रायल की देखरेख कर रही है। 'वाशिंगटन पोस्ट' की रिपोर्ट के अनुसार, मौत का मामला सामने आने पर ब्राज़ील की नेशनल हेल्थ सर्विलांस एजेंसी ने कहा है कि वॉलंटियर ने ख़ुद से वैक्सीन के लिए हामी भरी थी। एजेंसी ने कहा है कि इसको सोमवार को वॉलंटियर की मौत की जानकारी दी गई। इसने यह भी कहा है एस्ट्राज़ेनेका की सेफ़्टी कमेटी ने ट्रायल को जारी रखने का सुझाव दिया है। 

इस बीच ब्राज़ील के अख़बार 'ओ ग्लोबो' ने सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट दी है कि वॉलंटियर ट्रायल के कंट्रोल ग्रुप में था और जिसे उस प्रायोगिक वैक्सीन को नहीं दिया गया था। जी1 न्यूज़ सर्विस ने ख़बर दी है कि वॉलंटियर एक 28 वर्षीय डॉक्टर था जिन्होंने रियो डी जेनेरो में कोरोना मरीज़ों का इलाज किया था। हालाँकि उनकी मौत के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी गई है।

एस्ट्राज़ेनेका के प्रवक्ता ने भी वैक्सीन के ट्रायल के बारे में यह कहते हुए कुछ टिप्पणी करने से इनकार किया है कि चालू ट्रायल में किसी व्यक्तिगत केसों में वह टिप्पणी नहीं कर सकते हैं। उन्होंने क्लिनिकल ट्रायल की गोपनीयता के नियमों का हवाला भी दिया।

कंपनी के प्रवक्ता ब्रेंडन मैकएवॉय ने यह ज़रूर कहा कि हम पुष्टि कर सकते हैं कि सभी आवश्यक समीक्षा प्रक्रियाओं का पालन किया गया है। प्रवक्ता ने कहा, 'सभी महत्वपूर्ण चिकित्सा घटनाओं का मूल्यांकन ट्रायल जाँचकर्ताओं, एक स्वतंत्र सुरक्षा निगरानी समिति और नियामक अधिकारियों द्वारा सावधानीपूर्वक किया जाता है। इन आकलनों से अध्ययन को जारी रखने के बारे में कोई चिंता व्यक्त नहीं की गई है।'

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने कहा है कि एक स्वतंत्र समिति द्वारा वॉलंटियर की मौत की समीक्षा की गई थी। इसने एक बयान में कहा,

ब्राज़ील में इस मामले के सावधानीपूर्वक मूल्यांकन के बाद, क्लिनिकल ट्रायल की सुरक्षा के बारे में कोई चिंता नहीं की गई है और ब्राजील के नियामक के अलावा स्वतंत्र समीक्षा ने सिफारिश की है कि परीक्षण जारी रहना चाहिए।


ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी का बयान

पिछले महीने रोकना पड़ा था ट्रायल

कोरोना टीका में सबसे आगे रहने वालों में से एक ऑक्सफोर्ड कोरोना वैक्सीन के ट्रायल को सितंबर महीने की शुरुआत में ही तब झटका लगा था जब ट्रायल में भाग लेने वाला एक व्यक्ति गंभीर रूप से बीमार पड़ गया था। एक प्रतिभागी में एक संदिग्ध गंभीर प्रतिकूल प्रतिक्रिया देखने को मिलने के बाद इस कोरोना टीके के आख़िरी चरण के परीक्षण को रोक दिया गया था। तब एस्ट्राज़ेनेका के एक प्रवक्ता के बयान में कहा गया था कि 'मानक समीक्षा प्रक्रिया के चलते टीकाकरण को रोक दिया गया है ताकि सुरक्षा डेटा की समीक्षा की जा सके।' एस्ट्राज़ेनेका के प्रवक्ता के बयान में कहा गया था कि 'बड़े स्तर पर परीक्षणों में बीमारी संयोग से होती रही है, लेकिन इसे सावधानीपूर्वक जाँचने के लिए स्वतंत्र रूप से समीक्षा की जानी चाहिए।' 

वीडियो में देखिए: कितनी कामयाब है कोरोना की वैक्सीन?

इस फ़ैसले के बाद ऑक्सफोर्ड कोरोना वैक्सीन के ट्रायल को भारत में भी रोक दिया गया था। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया के नोटिस पर सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया ने भी भारत में इसको रोकने का फ़ैसला किया था। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राज़ेनेका कंपनी द्वारा तैयार किए जा रहे इस टीके के लिए सीरम इंस्टिट्यूट ने क़रार किया है। इस क़रार में भारत में परीक्षण और टीके का उत्पादन करना भी शामिल है। 

हालाँकि उस मामले के परीक्षण के बाद कुछ दिनों में ही ट्रायल को फिर से शुरू करने को हरी झंडी दे दी गई थी। तब ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने एक बयान में कहा कि ब्रिटेन के नियामक ने सिफ़ारिश की थी कि सुरक्षा डेटा की एक स्वतंत्र समीक्षा के बाद ही परीक्षण फिर से शुरू करें। एस्ट्राज़ेनेका ने कहा,  'यूके समिति ने अपनी जाँच को देखा है और एमएचआरए को सिफ़ारिश की है कि यूके में परीक्षण फिर से शुरू करने के लिए ये सुरक्षित हैं।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें