loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

कृषि क़ानून: आपस में भिड़ रहे भारतीय, सिडनी में सिखों पर हमला 

कृषि क़ानूनों को लेकर जैसा माहौल भारत में है, वैसा ही कुछ दुनिया के दूसरे देशों में बसे भारतीयों के बीच है। मतलब यह कि यहां जिस तरह सरकार समर्थक कृषि क़ानूनों के पक्ष में हैं और किसान समर्थक विरोध में, वैसा ही माहौल बाहर भी है। ख़ासकर ऐसी जगहों पर जहां पंजाब और भारत के अन्य राज्यों के लोगों की अच्छी-खासी संख्या है। 

जैसे-जैसे किसान आंदोलन लंबा हो रहा है, किसान समर्थकों और भारत सरकार के समर्थकों के बीच भी तनाव बढ़ रहा है। तनाव बढ़ने का नतीजा सिडनी में दिखा है, जहां सिख समुदाय के लोगों की कार पर हमले का एक वीडियो सामने आया है। 

ताज़ा ख़बरें

इस घटना की सीसीटीवी फ़ुटेज में दिख रहा है कि कुछ अज्ञात लोग बेसबॉल बैट और हथौड़ों से उस कार पर हमला कर रहे हैं जिसमें ये सिख बैठे हुए हैं। हालांकि सिखों को इसमें चोट नहीं आई लेकिन कार में 10 हज़ार डॉलर से ज़्यादा का नुक़सान हुआ है। यह वाक़या बीते हफ़्ते सिडनी वेस्ट के हारिस पार्क में हुआ। कार पर हमला होने पर सिखों ने तेज़ी से कार को भगाया और वहां से निकल गए। 

ये जमाना सोशल मीडिया का है और दिल्ली के बॉर्डर्स पर चल रहे किसानों के आंदोलन का पल-पल का अपडेट विदेशों में रह रहे भारतीयों के बीच पहुंच रहा है।

ऑस्ट्रेलिया के न्यूज़ चैनल 7न्यूज़ के मुताबिक़, कार में मौजूद रहे एक सिख ने बताया कि हमलावर कार पर चारों तरफ से वार कर रहे थे और इसमें किसी की भी मौत हो सकती थी। कुछ हफ़्ते पहले एक और वीडियो सामने आया था कि जिसमें दिखा था कि सिख समुदाय के एक शख़्स पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया था। 

सिडनी में रहने वाले कमल सिंह ने 7न्यूज़ से कहा कि वे एक-दूसरे से नहीं झगड़ना चाहते और शांति से रहना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि यह ऐसा है कि भारतीय ही भारतीयों से लड़ रहे हैं। 

सिडनी वेस्ट में स्थित कई रेस्तरां और मंदिर के संचालकों ने कहा है कि हिंसा और तोड़फोड़ की घटनाएं बढ़ रही हैं। ऐसे में स्थानीय प्रशासन ने इन समुदायों के नेताओं से कहा है कि वे मध्यस्थता करें और इस तरह की घटनाओं को रोकने में सहयोग करें। 

सिडनी प्रशासन के अनुसार, कृषि क़ानूनों का मुद्दा और किसान आंदोलन के कारण सिख समुदाय और भारत सरकार के समर्थकों के बीच तनाव बढ़ रहा है।

किसानों के समर्थन में रैलियां

जब से किसान दिल्ली के बॉर्डर्स पर आकर बैठे हैं, उनके समर्थन में अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, लंदन, बर्मिंघम, कैलिफ़ोर्निया, ऑकलैंड सहित दुनिया के कई देशों और शहरों में जहां सिखों की अच्छी आबादी है, वहां किसान रैलियां निकाली जा चुकी हैं और अभी भी प्रदर्शन जारी हैं। इनमें सिख समुदाय के लोग ट्रैक्टर-ट्रालियों के साथ हिस्सा ले रहे हैं। कई देशों के भारतीय दूतावासों के बाहर भी प्रदर्शन किया जा चुका है। 

दुनिया से और ख़बरें

इस तरह की घटनाएं चिंताजनक हैं क्योंकि इससे भारतीयों के बीच दरार पैदा हो रही है। किसान आंदोलन को 100 दिन पूरे होने वाले हैं और सरकार कृषि क़ानूनों के मुद्दे पर झुकने को तैयार नहीं है। रेल रोको आंदोलन से लेकर भूख हड़ताल तक करने के बाद किसानों ने अब चुनावी राज्यों में बीजेपी को हराने की अपील की है। ऐसे में लोगों के बीच कृषि क़ानून को लेकर बढ़ रहे तनाव को कम करने के लिए भारत सरकार को आगे आना चाहिए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें