loader

कोवैक्सीन सौदे में राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ जाँच को ब्राज़ीली सुप्रीम कोर्ट से हरी झंडी

भारत बायोटेक से कोवैक्सीन सौदे में भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद अब वहाँ के सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति जईर बोसोनारो के ख़िलाफ़ जाँच को हरी झंडी दी है। गंभीर आरोप लगने के बाद ब्राज़ील ने हाल ही इस सौदे को निलंबित कर दिया है। ब्राज़ील ने कोवैक्सीन की दो करोड़ खुराक खरीदने का सौदा किया था। समझा जाता है कि इस खरीद सौदे में लगे भ्रष्टाचार के आरोपों से ब्राज़ील के राष्ट्रपति जईर बोसोनारो की छवि को नुक़सान पहुँचा है और अब उनके ख़िलाफ़ जाँच के लिए सुप्रीम कोर्ट से हरी झंडी मिलने के बाद उनकी मुश्किलें और बढ़ेंगी।

ब्राज़ील की जईर बोसोनारो सरकार की कोवैक्सीन खरीद की यह योजना तब खटाई में पड़ती दिखने लगी जब इस सौदे में अनियमितता के आरोप लगे और फिर ब्राज़ील के अधिकारियों ने कोवैक्सीन खरीद की जाँच शुरू कर दी। रिपोर्ट के अनुसार कोवैक्सीन के लिए ब्राज़ील ने फ़रवरी महीने में क़रीब 320 मिलियन डॉलर यानी क़रीब 24 अरब रुपये का सौदा किया था। इस सौदे में आरोप अब ब्राज़ील के राष्ट्रपति पर भी लग रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

यही मामला अब ब्राज़ील के सुप्रीम कोर्ट में पहुँचा है। ऐसा इसलिए कि राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ जाँच के लिए सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी ज़रूरी होती है। न्यूज़ एजेंसी रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, ब्राजील सुप्रीम कोर्ट की न्यायमूर्ति रोजा वेबर ने शुक्रवार देर रात शीर्ष अभियोजक के कार्यालय पीजीआर को राष्ट्रपति जईर बोसोनारो के ख़िलाफ़ जाँच को अधिकृत किया। आरोप है कि भारतीय कोरोना वैक्सीन की खरीद की प्रक्रिया में उन्होंने अपनी ज़िम्मेदारी को ठीक से नहीं निभाया। अदालत ने इसके लिए अधिकारियों को सबूत इकट्ठा करने के लिए 90 दिन का समय दिया है।

बोसोनारो सरकार पर कोरोना टीका खरीद में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगने के बाद लोगों ने सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किए हैं। इस पूरे मामले की जाँच ब्राज़ील की सीनेट का पैनल भी कर रहा है। 

जून के आख़िर में इस सौदे को निलंबित करते हुए ब्राज़ील के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा था, 'सीजीयू (संघीय कंप्ट्रोलर) के प्रारंभिक विश्लेषण के अनुसार, अनुबंध में कोई अनियमितता नहीं है, लेकिन नियमों के अनुपालन के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने अधिक गहन विश्लेषण करने के लिए अनुबंध को निलंबित करने का विकल्प चुना।'

कोवैक्सीन के इस सौदे में सवाल उठाए गए हैं कि तुलनात्मक रूप से क़ीमतें ऊँची हैं, जल्दबाज़ी में सौदा किया गया और नियामक से मंजूरी मिलना लंबित था तभी फ़रवरी में सौदा कर लिया गया।

ब्राज़ील की कंपनी प्रेसिज़ा मेडिकामेन्टोज़ ने इस सौदे में बिचौलिए की भूमिका निभाई थी और भारत बायोटेक व ब्राज़ील सरकार में सौदा करवाया था। हाल ही में ब्राजील के सीनेटर यानी सांसद रेनन कैलेरोज़ ने कहा था कि वे हर घपले की जाँच कराएंगे। वे ब्राज़ील के संसदीय आयोग यानी सीपीआई के प्रमुख बनाए गए हैं। 

दुनिया से और ख़बरें

ब्राज़ील द्वारा उस सौदे को निलंबित किए जाने की ख़बर के बाद भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन की खरीद में ब्राज़ील में लग रहे भ्रष्टाचार के आरोपों को खारिज किया था। इसने बयान जारी कर कहा था कि इस सौदे में कुछ भी गड़बड़ी नहीं हुई है। हालाँकि कंपनी पर इस तरह का कोई आरोप नहीं लगा है, लेकिन सौदे में बिचौलिए का हाथ होने के आरोप लगाए जा रहे हैं। 

भारत बायोटेक ने बयान में कहा था कि इसने सौदे के लिए क़दम दर क़दम बढ़ाए हैं और ब्राज़ील में नियामक मंजूरी मिली हुई है। इसने बयान में कहा था, 'ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा कोवैक्सीन की खरीद के इस विशिष्ट मामले में नवंबर 2020 से 29 जून के दौरान शुरुआती बैठकों के बाद से इस आठ महीने के दौरान अनुबंधों और नियामक अनुमोदनों के लिए क़दम-दर-क़दम दृष्टिकोण का पालन किया गया है।'

brazil sc authorizes to probe president bolsonaro in covaxin deal scam case - Satya Hindi

इसने कहा था कि कोवैक्सीन को 4 जून को मंजूरी मिली। इसने दावा किया कि 29 जून तक भारत बायोटेक ने न तो कोई अग्रिम भुगतान प्राप्त किया है और न ही ब्राज़ील के स्वास्थ्य मंत्रालय को कोई टीके की आपूर्ति की है। 

भारत बायोटेक ने कहा था कि भारत के बाहर के देशों के लिए कोवैक्सीन की हर खुराक की क़ीमत 15-20 डॉलर रखी गई है और ब्राज़ील के लिए यह 15 डॉलर प्रति खुराक है। कंपनी ने कहा कि इन क़ीमतों पर ही कई अन्य देशों से कंपनी ने अग्रिम भुगतान प्राप्त किया है जिसकी आपूर्ति किए जाने की प्रक्रिया जारी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें