loader

चीनी राष्ट्रपति ने ट्रंप से कहा, किसी को दोष न दें, कोरोना से मिल कर लड़ें

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के साथ टेलीफ़ोन पर  हुई बातचीत के दौरान चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने दो टूक शब्दों में कहा कि वह कोरोना संकट के लिए चीन को ज़िम्मेदार न ठहराएं। 
उन्होंने ट्रंप से साफ़ शब्दों में कहा कि वाॉशिंगटन किसी को दोष देने के बजाय संक्रमण रोकने की दिशा में ठोस कदम उठाए और मिल कर कोरोना से लड़े। 
दुनिया से और खबरें

क्या है मामला?

कोरोना वायरस फैलाने के मुद्दे पर चीन और अमेरिका के बीच चल रहे नोक-झोक और आरोप प्रत्यारोप के बीच दोनों देशों के राष्ट्रपतियों ने शनिवार को टेलीफ़ोन पर बात की। 
शी जिनपिंग ने कहा, 'वायरस देश की सीमा या किसी की नस्ल नहीं पहचानता है। यह हम सब का शत्रु है और इसलिए इससे सबको मिल कर लड़ना होगा।'

आरोप-प्रत्यारोप

बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने कोरोना संक्रमण के लिए चीन को ज़िम्मेदार ठहराते हुए वायरस को 'ऊहान वायरस' और इस संक्रमण को 'चीनी कोरोना' कहा था। 
इसके अलावा अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने साफ़ शब्दों में कहा था कि यह वायरस चीन के ऊहान शहर से ही निकला है।
चीन ने पटलवार करते हुए कहा था कि साझा अंतरराष्ट्रीय युद्धाभ्यास के दौरान अमेरिकी सेना ने ऊहान शहर में वायरस छोड़ दिए थे।

तल्ख़ रिश्ते

इसके बाद दोनों देशों में तनाव बढ़ा था, रिश्ते में तल्ख़ी आई थी। शनिवार की बातचीत में शी जिनपिंग ने अमेरिकी राष्ट्रपति को चेतावनी देते हुए कह दिया कि 'टकराव से दोनों ही देशों को नुक़सान होगा, इसलिए एकमात्र रास्ता सहयोग है। सहयोग से ही इस संक्रमण से लड़ा जा सकता है और इससे सबको फ़ायदा है।' 
इस बातचीत के बाद ट्रंप ने चीन की तारीफ़ करते हुए कहा कि उसे इस वायरस की अच्छी समझ है और वह दूसरों की मदद कर सकता है। इसके साथ ही ट्रंप ने कहा कि दोनों देश मिल कर इस संक्रमण से लड़ेंगे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें