loader

आरोपः 'सऊदी क्राउन प्रिंस एमबीएस मनोरोगी, रखता है भाड़े के हत्यारे'

सऊदी के एक पूर्व खुफिया प्रमुख ने क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (एमबीएस) को "मनोरोगी" बताया है। पूर्व खुफिया प्रमुख का बयान ऐसे समय आया है जब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन क्राउन प्रिंस से मिलने वाले हैं।
पूर्व खुफिया प्रमुख साद अल जबरी, जो कभी सऊदी खुफिया में नंबर दो अधिकारी थे, ने चेतावनी दी कि एमबीएस की अपार संपत्ति अमेरिका और दुनिया भर के अन्य देशों के लिए खतरा हैं। उन्होंने कहा कि क्राउन प्रिंस बेशुमार संसाधनों के साथ एक "हत्यारे" हैं। उन्होंने आगे कहा कि एमबीएस भाड़े के सैनिकों का एक शातिर गिरोह चलाता है जिसे "टाइगर स्क्वाड" कहा जाता है जिसका उपयोग वह अपहरण और हत्याओं को अंजाम देने के लिए करता है।

ताजा ख़बरें
अल जबरी ने एक इंटरव्यू में सीबीएस चैनल को बताया कि मैं यहां बेशुमार संसाधनों वाले मध्य पूर्व में एक मनोरोगी, हत्यारे के बारे में आप लोगों को जगाने आया हूं। वो शख्स अपने ही लोगों, अमेरिकियों और इस ग्रह के लिए खतरा है।  
उन्होंने कहा, बिना सहानुभूति वाला मनोरोगी, भावनाओं को महसूस नहीं करता, वो अपने अनुभव से कभी नहीं सीखा। और हमने इस हत्यारे द्वारा किए गए अत्याचारों और अपराधों को देखा है।

अल जबरी, मोहम्मद बिन नायेफ के लंबे समय के सलाहकार थे, जिन्हें जून 2017 में सऊदी क्राउन प्रिंस के रूप में हटा दिया गया था और उनकी जगह एमबीएस ने ले ली थी। अल जबरी, डर की वजह से देश छोड़कर कनाडा भाग गए, जहाँ वे अब निर्वासन में रहते हैं।
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में, अल जबरी ने वाशिंगटन डीसी कोर्ट में सऊदी क्राउन प्रिंस पर मुकदमा दायर किया, आरोप लगाया कि एमबीएस ने 2018 में टोरंटो में उन्हें मारने के लिए एक हिट स्क्वाड भेजा। उनका यह आरोप इस्तांबुल में सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के दो सप्ताह बाद सामने आया था।

सीबीएस से बात करते हुए, पूर्व स्पाईमास्टर ने कहा कि उन्हें एक दिन एमबीएस द्वारा मारे जाने की आशंका है, क्योंकि उनके पास सरकार और शाही परिवार के बारे में संवेदनशील जानकारी है। यह आदमी तब तक आराम नहीं करेगा जब तक वह मुझे मरा हुआ नहीं देखेगा।

अल जबरी एक "बदनाम पूर्व सरकारी अधिकारी" है, जिसका वित्तीय अपराधों को छिपाने के लिए बातें गढ़ने और ध्यान भंग करने का लंबा इतिहास है। पूर्व सऊदी खुफिया प्रमुख के कहने का अर्थ है कि उस समय चोरी करना स्वीकार्य था। लेकिन यह तब भी मान्य नहीं था, कानूनी नहीं था और अब भी नहीं है।


सऊदी दूतावास, अमेरिका

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन सऊदी अरब का दौरा करने वाले हैं। बाइडेन द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और ग्लोबल मुद्दों पर चर्चा के लिए क्राउन प्रिंस से मिलने वाले हैं।
दुनिया से और खबरें

अमेरिकी राष्ट्रपति ने एमबीएस के साथ अपनी प्रस्ताित बैठक का भी बचाव किया है, जिसके बारे में अमेरिकी खुफिया विभाग ने पहले कहा था कि खशोगी की हत्या का आदेश देने के लिए क्राउन प्रिंस ही जिम्मेदार थे। वाशिंगटन पोस्ट के लिए एक ऑप-एड में, बाइडेन ने कहा कि राष्ट्रपति के रूप में, देश को मजबूत और सुरक्षित रखना उनका काम है। हमें रूस की आक्रामकता का मुकाबला करना होगा, चीन को मात देने के लिए खुद को सर्वोत्तम संभव स्थिति में लाना होगा और दुनिया में अधिक स्थिरता के लिए काम करना होगा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें