loader
जियो न्यूज़ के पत्रकार अली इमरान सैयद।

पाक: 22 घंटे ग़ायब रहने के बाद घर लौटे पत्रकार अली, हंगामा 

विपक्षी सियासी दलों के शोर से गूंज रहे पाकिस्तान में इन दिनों उथल-पुथल मची हुई है। सियासी मोर्चे पर घिर चुके मुल्क़ के वज़ीर-ए-आज़म इमरान ख़ान की सरकार पर एक गंभीर आरोप लग रहा है। पाकिस्तान के ख़बरिया चैनल जियो न्यूज़ के सहाफी अली इमरान सैयद शुक्रवार शाम को ग़ायब हो गए थे। 

वह बेकरी तक गए थे लेकिन उसके बाद घर नहीं लौटे। 22 घंटे तक ग़ायब रहने के बाद वे शनिवार शाम को वापस लौट आए हैं लेकिन इस बीच पाकिस्तान में इस मामले को लेकर जबरदस्त गहमागहमी रही। 

इमरान शाम को 7 से 8 बजे के बीच घर से निकले थे और उन्होंने अपनी पत्नी से कहा था कि वह आधे घंटे में वापस लौट आएंगे लेकिन तब से उनका कोई पता नहीं चल पा रहा था। उनकी पत्नी ने कहा था कि अली की कार घर के बाहर ही है और वे अपना मोबाइल फ़ोन भी घर पर ही छोड़ गए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

भारत में भी रही चर्चा

जियो न्यूज़ की ओर से इसे लेकर कराची पुलिस के प्रमुख और डीआईजी, ईस्ट को इत्तला दे दी गई थी। परिजनों ने सचल पुलिस थाने में इसकी रिपोर्ट दी थी और पुलिस ने एफ़आईआर दर्ज कर ली थी। 

अली की गिरफ़्तारी को लेकर पाकिस्तान ही नहीं भारत में भी चर्चा रही। पाकिस्तान की सिंध सरकार के प्रवक्ता मुर्तज़ा वहाब ने कहा था कि सूबे के वज़ीर-ए-आला मुराद अली शाह ने इस घटना का संज्ञान लिया है और आईजी से बात की है। पाकिस्तान में ट्विटर पर इसे लेकर #BringBackAliImran चलाया गया। 

सियासी माहौल गर्माया

इमरान ख़ान के ख़िलाफ़ मुल्क़ में चल रहे आंदोलन का चेहरान बनीं पीएमल (नवाज़) की उपाध्यक्ष मरियम नवाज़ ने इस घटना की निंदा की है। मरियम ने लाहौर में पत्रकारों से कहा, ‘मैंने सुना है कि पत्रकार को इसलिए उठाया गया है क्योंकि उसने (रिटायर्ड) कैप्टन सफदर की गिरफ़्तारी की सीसीटीवी फ़ुटेज को शेयर किया था। यह बेहद ग़लत है।’ कैप्टन सफदर मरियम के पति और वज़ीर-ए-आज़म रहे नवाज़ शरीफ के दामाद हैं। 

बिलावल भी बोले

पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी ने अली के ग़ायब होने की घटना पर कहा है कि यह बोलने की आज़ादी पर हमला है। उन्होंने कहा, ‘आवाज़ों को दबाने का काम अब बंद होना चाहिए और इस तरह के वाक़यों से दुनिया में पाकिस्तान की ख़राब छवि बनती है।’ 

पाकिस्तान की वरिष्ठ पत्रकार नासिम ज़ेहरा ने कहा है कि अली के पास कैप्टन सफदर को होटल से गिरफ़्तार किए जाने की सीसीटीवी फ़ुटेज थी। उन्होंने सवाल उठाया है कि क्या आप अली को अगवा किए बिना उससे सवाल नहीं पूछ सकते थे। 

दुनिया से और ख़बरें

मामले में एमनेस्टी इंटरनेशनल ने भी दख़ल दिया था और कहा था कि अली को तुरंत खोजा जाना चाहिए। इसके अलावा पाकिस्तान के मानवाधिकार अधिकार आयोग ने भी उन्हें जल्द रिहा कराने के लिए कहा था। 

पत्रकार भी एकजुट 

पाकिस्तान की फ़ेडरल यूनियन ऑफ़ जर्नलिस्ट्स ने अली के मामले को लेकर आईजी, सिंध से कहा था कि वह इस घटना की सीसीटीवी फ़ुटेज जारी करें। इसके अलावा रावलपिंडी-इसलामाबाद यूनियन ऑफ़ जर्नलिस्ट्स ने वाक़ये को लेकर चिंता जताई है। फिलहाल, अली खैरियत से हैं और घर लौट आए हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें