loader

भारत की आक्रामक रक्षा तैयारियों से डरा पाकिस्तान, इमरान ने बुलाई आपात बैठक 

चीन के ख़िलाफ़ भारत के आक्रामक तेवरों को देखने के बाद पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को ख़ुद की चिंता सताने लगी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शुक्रवार को लद्दाख के दौरे पर जाने के तुरंत बाद पाकिस्तान के वज़ीर-ए-आज़म इमरान ख़ान ने आनन-फानन में आला अधिकारियों की बैठक बुलाई। 

पाकिस्तानी मीडिया में आई ख़बरों के मुताबिक़, इमरान ने बैठक में सेना और ख़ुफ़िया एजेंसियों के प्रमुखों से हालात पर चर्चा की और सीमा पर अपनी सुरक्षा तैयारियों को मजबूत करने को कहा। 

बैठक के बाद इमरान ख़ान के कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि वज़ीर-ए-आज़म ने एक उच्च स्तरीय बैठक में देश के आंतरिक और बाहरी सुरक्षा हालात की समीक्षा की। बयान में यह भी कहा गया है कि पाकिस्तान हर क़ीमत पर अपनी संप्रभुता की रक्षा करेगा। बैठक में मुख्य रूप से लाइन ऑफ़ कंट्रोल पर ताज़ा हालात को लेकर चर्चा हुई। 

ताज़ा ख़बरें

यह बैठक कितनी अहम थी, इसका पता इसमें शामिल हुए लोगों से चलता है। बैठक में रक्षा मंत्री परवेज खट्टक, आर्मी चीफ़ जनरल क़मर जावेद बाजवा, नौसेना प्रमुख एडमिरल ज़फ़र महमूद अब्बासी, वायु सेना प्रमुख एयर चीफ़ मार्शल मुजाहिद अनवर ख़ान और ख़ुफ़िया एजेसी इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल फैज़ हामिद सहित कई आला अधिकारी मौजूद रहे। विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी कोरोना से संक्रमित होने के कारण बैठक में नहीं आ सके।

पाकिस्तान के डर का अंदाजा इस बात से भी लगता है कि कुछ दिन पहले ही बाजवा ने पीओके की सरकार को पत्र लिखकर अपने अस्पतालों में 50 फ़ीसदी बेड सैनिकों के लिए आरक्षित रखने की मांग की थी।

पाकिस्तान भारत की आक्रामक रक्षा तैयारियों और हाल में भारत द्वारा किए गए बड़े रक्षा सौदों से बुरी तरह घबरा गया है। 

कुछ दिन पहले ख़बर आई थी कि चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच पाकिस्तान, भारत को घेरने की नापाक साज़िश रच रहा है और उसने 20 हज़ार अतिरिक्त सैनिकों को गिलगिट-बालटिस्तान के इलाक़े में तैनात किया है। साथ ही ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई लगातार पंजाब और कश्मीर का माहौल ख़राब करने की कोशिश कर रही है। 

दुनिया से और ख़बरें

तिलमिलाया हुआ है पाकिस्तान 

हाल के दिनों में सुरक्षा बलों ने कश्मीर में बड़ी संख्या में आतंकवादियों को मौत के घाट उतारा है। हाल ही में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में एक सफेद रंग की सेंट्रो कार में विस्फोटक मिला था। इस घटना के बारे में जम्मू-कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने कहा था कि पाकिस्तान समर्थित हिज़बुल मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी मिलकर कश्मीर में आतंकवाद फैलाने की साज़िश रच रहे हैं। 

पंजाब पर है नापाक नजर 

कश्मीर में आतंकवाद जारी रखने और फैलाने के लिए पाकिस्तान पंजाब को रास्ता बना रहा है। हाल ही में पठानकोट में पुलिस द्वारा आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से संबंधित दो संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी की गई है। ये दोनों कश्मीर के रहने वाले हैं और ट्रक में असलहा रखकर अमृतसर से कश्मीर ले जा रहे थे। इस घटना पर पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा था कि पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई पंजाब और कश्मीर में हथियारों की खेप की तस्करी और आतंकवादियों की घुसपैठ करवा रही है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें