loader

बाइडन-हैरिस के आने से मजबूत होंगे भारत-अमेरिका के संबंध?

अमेरिका के सबसे बड़े राज्य कैलिफ़ोर्निया की सेनेटर बनने से पहले कमला हैरिस उस राज्य की महाधिवक्ता रही हैं और मानवाधिकारों के लिए लड़ना और खुल कर बोलना उनके स्वभाव में रहा है। इसलिए उन्होंने भारत के नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ हुए प्रदर्शनों के दौरान भी मोदी सरकार की मानवाधिकार और अल्पसंख्यक विरोधी नीतियों की निंदा की थी। 
शिवकांत | लंदन से

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन ने 2006 में एक भारतीय पत्रकार को दिए इंटरव्यू में कहा था, “मेरा सपना है कि 2020 तक अमेरिका और भारत दुनिया के दो सबसे क़रीबी दोस्त बन जाएं।” वे उन दिनों अमेरिका के वरिष्ठ सेनेटर होने के नाते सेनेट की विदेश संबंध समिति के अध्यक्ष थे और राष्ट्रपति बुश की सरकार के लिए भारत के साथ 2008 में होने वाली परमाणु सहयोग संधि का दस्तावेज़ तैयार कर रहे थे।

जो बाइडन बुश प्रशासन के ज़माने से ही भारत के साथ दोस्ती गहरी करने के हिमायती रहे हैं। कहा जाता है कि ओबामा भारत के साथ परमाणु संधि के लिए बहुत उत्साहित नहीं थे। उन्हें जो बाइडन ने इस संधि के लिए तैयार किया और भारत के साथ सामरिक साझेदारी को आगे बढ़ाने में प्रमुख भूमिका निभाई। 

ओबामा सरकार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के विस्तार और उसमें भारत को सदस्यता देने वाले प्रस्ताव के समर्थन में ला खड़ा करने का श्रेय भी बाइडन को ही दिया जाता है।

रक्षा साझीदार का दर्जा 

ओबामा-बाइडन सरकार ने ही भारत को एक प्रमुख रक्षा साझीदार का दर्जा भी दिया। भारत ऐसा पहला देश है जिसे अमेरिका के सामरिक गुटों में शामिल न होते हुए भी रक्षा साझीदार का दर्जा मिला है। इस पहल ने भारत के लिए अमेरिकी रक्षा सामान के साझा निर्माण और उसकी अत्याधुनिक रक्षा तकनीक के द्वार खोले हैं। ट्रंप सरकार ने इस समझौते को आगे बढ़ाते हुए इसके चारों चरण पूरे किए और एशिया-प्रशान्त महासागर में चीन की बढ़ती चुनौतियों का सामना करने के लिए अमेरिका-भारत-जापान और ऑस्ट्रेलिया की चौकड़ी को एक ठोस आधार दिया है।

ताज़ा ख़बरें
लोगों को आशंका है कि ट्रंप सरकार की तुलना में बाइडन सरकार की नीतियाँ चीन के प्रति नरम होंगी। चीन के साथ ट्रंप की तरह सार्वजनिक रूप से उलझने की बजाय बाइडन सरकार कूटनीति से काम लेना चाहेगी। व्यापार घाटे को कम करने के लिए शुल्क और संरक्षण की दीवारें खड़ी करने के बजाय व्यापार को बढ़ाने के उपाय खोजे जाएँगे। 
बाइडन सरकार की पहली प्राथमिकता कोरोना महामारी की रोकथाम करना और उसकी मार से धराशाई हुई अमेरिकी अर्थव्यवस्था को उबारना है, चीन के साथ झगड़ों में उलझना नहीं।

चीन को लेकर रूख

यह बात एक हद तक सही है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि चीन की विस्तारवादी नीतियों पर अंकुश लगाने के लिए शुरू की गई घेरेबंदी में ढील आ जाएगी। चीन से फैली महामारी से हुए विश्वव्यापी विनाश और उसका फ़ायदा उठाते हुए एशिया-प्रशांत, हिंद महासागर और भारत की सीमाओं पर चीन की आक्रामक चालों ने चीन के प्रति अमेरिका के दृष्टिकोण को बदल दिया है। 

राष्ट्रपतीय चुनाव में हार के बावजूद ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत सेनेट में बरकार है और प्रतिनिधि सभा में भी बाइडन-हैरिस की डेमोक्रेटिक पार्टी का बहुमत कम हुआ है।

joe biden on india US relations - Satya Hindi
चुनाव प्रचार के दौरान कमला हैरिस।

इसलिए बाइडन-हैरिस की सरकार पर चीन के प्रति नीतियाँ कड़ी रखने का राजनीतिक दबाव बना रहेगा। भारत के ख़िलाफ़ चीन की आक्रामक चालों को लेकर भी अमेरिकी नीति में बदलाव आने का कोई कारण दिखाई नहीं देता। अलबत्ता यह संभव है कि बाइडन सरकार ट्रंप सरकार की तरह की खुली बयानबाज़ी से बचे और कूटनीति से काम ले। 

विदेश मंत्री पद के लिए संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की पूर्व राजदूत सूज़न राइस का नाम आगे चल रहा है। जो इस बात का संकेत है कि खुली बयानबाज़ी की जगह कूटनीति का युग लौट रहा है।

चीन-रूस ने नहीं दी बधाई

दिलचस्प बात यह भी है कि बाइडन-हैरिस के लिए अब तक तमाम बड़े देशों के राष्ट्राध्यक्षों के बधाई संदेश आ चुके हैं। पर रूस के राष्ट्रपति पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग अभी तक ख़ामोश हैं। कूटनीतिक समीक्षकों का मानना है कि यह देरी इस बात का संकेत देती है कि ट्रंप के चुनाव प्रचार में खुले प्रहार झेलने के बावजूद शायद ये दोनों देश उनकी हार के लिए तैयार नहीं थे। 

रूस और चीन में पाए गए ट्रंप के कारोबारी खातों की बात से भी इन आशंकाओं को बल मिलता है कि चीन और रूस के साथ ट्रंप के दिखावटी झगड़ों के पीछे सच कुछ और था। बाइडन-हैरिस सरकार से कम-से-कम इस तरह की दोमुँही नीति की आशा नहीं है।

ईरान के साथ परमाणु संधि

ईरान और उसके साथ हुई परमाणु संधि भी बाइडन सरकार के लिए बड़ी प्राथमिकता होगी जिसे ट्रंप सरकार ने मानने से इनकार कर दिया था। भारत के साथ हुई परमाणु सहयोग संधि की तरह ही ईरान की परमाणु संधि में भी बाइडन की प्रमुख भूमिका रही है। इसलिए वे इस संधि को पुनर्जीवित करने का प्रयास ज़रूर करेंगे। इसके पुनर्जीवित होने से भारत को अफ़ग़ानिस्तान में अपनी चाबहार बंदरगाह योजना को पूरा करने का मौक़ा मिलेगा जो खाड़ी क्षेत्र में चीन की बढ़ती चुनौती का सामना करने के लिए आवश्यक है। ईरान पर लगाए गए आर्थिक प्रतिबंधों के ढीला होने पर भारत वहाँ से तेल और गैस का आयात भी बहाल कर पाएगा।

अमेरिकी चुनाव नतीजों पर देखिए बातचीत- 

पेरिस संधि का मसला

जो बाइडन ने अपने चुनावी जीत के वक्तव्य में जलवायु परिवर्तन की रोकथाम के लिए हुई पेरिस संधि पर लौटने का वादा किया है। भारत ने ओबामा सरकार के अंतिम महीनों में दबाव में आकर इस संधि पर हस्ताक्षर कर दिए थे, इस शर्त पर कि अमेरिका और यूरोप के विकसित देश स्वच्छ और नई तकनीक देने के लिए तय हुए सौ अरब डॉलर के कोष की स्थापना करेंगे। लेकिन ट्रंप ने सत्ता संभालते ही कई दूसरी अंतरराष्ट्रीय संधियों की तरह पेरिस संधि से भी हाथ खींच लिए थे। पेरिस संधि में अमेरिका का लौटना स्वच्छ और नई तकनीक के विकास के द्वारा जलवायु परिवर्तन की रोकथाम में मदद करेगा।

इस समय विश्व के सामने सबसे बड़ा संकट कोरोना की महामारी और उससे हुए आर्थिक विनाश का है। चीन को छोड़ कर दुनिया के हर बड़े देश की अर्थव्यवस्था मंदी के भँवर में जा गिरी है।

भारतीयों को जगह

बाइडन-हैरिस सरकार ने महामारी की रोकथाम और अर्थव्यवस्था की बहाली को अपनी पहली प्राथमिकता बनाया है। बाइडन एक कार्य-दल का गठन करने वाले हैं जिसमें भारतीय मूल के डॉ. विवेक मूर्ति की अग्रणी भूमिका होगी। उनके अलावा नई बाइडन-हैरिस सरकार में ऊर्जा मंत्रालय के लिए स्टेनफ़र्ड के प्रो. अरुण मजूमदार और वित्त एवं निवेश विभागों के लिए राज चेट्टी के नाम भी आगे चल रहे हैं।

अमेरिका के पूर्वोत्तरी राज्य वॉशिंगटन से प्रतिनिधि सभा में लौटीं प्रमिला जयपाल को बाइडन-हैरिस सरकार का राजनीतिक एजेंडा तैयार करने के लिए बनी प्रवर समिति में रखा गया है। प्रमिला जयपाल अमेरिका की संसद में भारतीय मूल के प्रगतिवादी डेमोक्रेट नेताओं के गुट की सह अध्यक्ष भी हैं जिसे समोसा गुट के नाम से जाना जाता है। 

यह गुट भारत से जुड़े विषयों पर राजनीतिक समर्थन जुटाने और आमराय बनाने की कोशिशें करता है। पिछले साल प्रमिला जयपाल ने ही जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन के विरोध में निंदा प्रस्ताव रखा था जिसका कमला हैरिस ने भी पुरज़ोर समर्थन किया था। इस पर भारत सरकार इतनी नाराज़ हुई थी कि विदेश मंत्री जयशंकर ने प्रमिला जयपाल से मिलने से इनकार कर दिया था।

joe biden on india US relations - Satya Hindi
जो बाइडन।

मोदी सरकार की मुश्किल 

अमेरिका के सबसे बड़े राज्य कैलिफ़ोर्निया की सेनेटर बनने से पहले कमला हैरिस उस राज्य की महाधिवक्ता रही हैं और मानवाधिकारों के लिए लड़ना और खुल कर बोलना उनके स्वभाव में रहा है। इसलिए उन्होंने भारत के नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ हुए प्रदर्शनों के दौरान भी मोदी सरकार की मानवाधिकार और अल्पसंख्यक विरोधी नीतियों की निंदा की थी। 

कमला हैरिस का ननिहाल तमिलनाडु में है, जहाँ प्रधानमंत्री मोदी की पार्टी बीजेपी को हिंदी और हिंदू राष्ट्रवादियों की पार्टी के रूप में देखा जाता है। इसलिए मोदी सरकार को उनसे मानवाधिकारों और अल्पसंख्यक विरोधी नीतियों पर तीख़ी आलोचना का सामना करना पड़ सकता है।

वैसे, जो बाइडन भी अपने चुनाव प्रचार के दौरान मोदी सरकार की मानवाधिकार और अल्पसंख्यक नीतियों को लेकर चिंता जता चुके हैं। लेकिन समन्वयवादी होने के कारण उनकी आलोचना की भाषा में उतनी धार नहीं होती जितनी कमला हैरिस और प्रमिला जयपाल के बयानों में देखने को मिलती है। 

दुनिया से और ख़बरें

संभव है कि सत्ता की बागडोर संभालने के बाद कमला हैरिस और जो बाइडन तथा उनकी मंत्रिपरिषद के लोग खुली निंदा से बचें और अपनी चिंताओं को आपसी बैठकों के दौरान प्रकट करें। लेकिन आवाज़ उठाने के लिए उन पर डेमोक्रेटिक पार्टी के वामपंथी और मुसलिम नेताओं का दबाव बना रहेगा।

इसका मतलब यह नहीं है कि कश्मीर, मानवाधिकार और अल्पसंख्यकों को लेकर उठने वाली चिंताओं का आर्थिक और सामरिक संबंधों पर कोई ख़ास असर पड़ेगा। भारत-अमेरिका संबंधों को लेकर अमेरिका में पिछले दो दशकों से दोनों पार्टियों के भीतर आमराय बन चुकी है। फ़र्क इतना है कि बाइडन-हैरिस सरकार के दौर में रिश्तों का हाउडी मोदी और नमस्ते ट्रंप जैसा सार्वजनिक प्रदर्शन शायद न देखने को मिले। 

जो बाइडन रिश्तों की गहराई में विश्वास रखते हैं उनके दिखावे में नहीं। लेकिन जनता में हवा बाँधने के लिए जो काम दिखावा कर सकता है वह गहराई नहीं कर सकती।    

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
शिवकांत | लंदन से
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें