loader

चीन के साथ मिलकर भारत के ख़िलाफ़ साज़िश रच रहा पाकिस्तान!

पड़ोसी मुल्क़ पाकिस्तान, चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच भारत को घेरने की नापाक साज़िश रच रहा है। ‘इंडिया टुडे’ के मुताबिक़, पाकिस्तान ने अपने सैनिकों को गिलगिट-बालटिस्तान के इलाक़े में तैनात किया है।

‘इंडिया टुडे’ ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि चीनी सेना जम्मू-कश्मीर में हिंसा भड़काने के लिए आतंकवादी संगठन अल बदर से बातचीत कर रही है। पाकिस्तान द्वारा 20 हज़ार अतिरिक्त सैनिकों को उत्तरी लद्दाख के इलाक़े में तैनात करने की बात भी कही गई है। 

ताज़ा ख़बरें
पाकिस्तान इस बात को जानता है कि इन दिनों भारत का पूरा ध्यान कोरोना महामारी से लड़ने और चीन के साथ अपनी सीमाओं को सुरक्षित करने पर है। वह इसका फायदा उठाना चाहता है और इसे भारत पर दो तरफ से वार करने के मौक़े रूप में देख रहा है। 
चीन ने भी एलएसी पर 20 हज़ार सैनिक तैनात कर दिए हैं और सीमा से क़रीब एक हज़ार किलोमीटर दूर शिनजियांग में एक डिवीजन यानी 10-12 हज़ार सैनिकों को अलर्ट मोड में रखा है।

‘इंडिया टुडे’ ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई चीन के उकसाने पर भारत में आतंकवादियों को भेज रही है। ख़बर में कहा गया है कि पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों पर हमले की कोशिश कर सकता है। 

बौखलाया हुआ है पाकिस्तान 

हाल के दिनों में सुरक्षा बलों ने कश्मीर में बड़ी संख्या में आतंकवादियों को मौत के घाट उतारा है। हाल ही में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में एक सफेद रंग की सेंट्रो कार में विस्फोटक मिला था। इस घटना के बारे में जम्मू-कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने कहा था कि पाकिस्तान समर्थित हिज़बुल मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी मिलकर कश्मीर में आतंकवाद फैलाने की साज़िश रच रहे हैं। 

दुनिया से और ख़बरें

पंजाब का माहौल ख़राब करने की कोशिश

दूसरी ओर, कश्मीर में आतंकवाद जारी रखने और फैलाने के लिए पाकिस्तान पंजाब को रास्ता बना रहा है। हाल ही में पठानकोट में पुलिस द्वारा आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से संबंधित दो संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी की गई है। ये दोनों कश्मीर के रहने वाले हैं और ट्रक में असलहा रखकर अमृतसर से कश्मीर ले जा रहे थे। इस घटना पर पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा था कि पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई पंजाब और कश्मीर में हथियारों की खेप की तस्करी और आतंकवादियों की घुसपैठ करवा रही है।

भारत-चीन सीमा विवाद पर देखिए वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का वीडियो - 

पाकिस्तान का दोस्त चीन 

चीन कई मौक़ों पर कह चुका है कि वह हर स्थिति में पाकिस्तान के साथ खड़ा रहेगा। वह अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी कई बार पाकिस्तान का साथ दे चुका है। भारत की अमेरिका के साथ बढ़ती नजदीकी और भारत द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 को हटाने और अक्साई चिन को वापस लेने की बात कहने से वह चिढ़ा हुआ है। वह चाहता है कि भारत अमेरिका से दूर रहे और ख़ुद को अमेरिका से बड़ी सुपर पावर के रूप में स्थापित करना चाहता है।

बीते कुछ दिनों से पाकिस्तान ने लगातार युद्ध विराम का उल्लंघन किया है। वह इसी ताक में है कि मौक़ा मिलने पर भारत पर हमला कर सके।

मुस्तैद है भारत 

सिर्फ जून महीने में पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर 302 बार युद्ध विराम का उल्लंघन किया है। मई में उसने 382 बार युद्ध विराम तोड़ा है। लेकिन भारत ने भी एक ओर जहां लद्दाख में मिराज, सुखोई, चिनूक, अपाचे समेत तमाम हैलिकॉप्टर और टैंक पहुंचा दिए हैं, वहीं पाकिस्तान के साथ लगने वाली सीमा पर भी हमारी सेनाएं पूरी तरह सतर्क हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें