loader

पाकिस्तान से फ्लाइट के जरिये भारत आना चाहते हैं श्रद्धालु, भेजा प्रस्ताव 

पाकिस्तान हिंदू काउंसिल की ओर से मांग की गई है कि उनके मुल्क से हिंदू, मुसलिम और सिख तीर्थ यात्रियों को विमान से भारत आने की इजाजत दी जाए। इस संबंध में काउंसिल की ओर से मिले प्रस्ताव को पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने दिल्ली में स्थित पाकिस्तान उच्चायोग को भेज दिया है। 

प्रस्ताव में काउंसिल के मुखिया रमेश वंकवानी की ओर से कहा गया है कि पाकिस्तान से दो चार्टर्ड फ्लाइट श्रद्धालुओं को लेकर आगामी शनिवार को भारत आना चाहती हैं। यह फ्लाइट लाहौर और कराची से आएंगी।

द हिंदू के मुताबिक, भारत को यह प्रस्ताव सोमवार को मिला है और विदेश मंत्रालय ने अभी इस बारे में कुछ नहीं कहा है। 

ताज़ा ख़बरें

एक अफसर ने कहा कि बीते साल नवंबर में पाकिस्तान ने भारत की श्रीनगर-शारजाह फ्लाइट को इजाजत नहीं दी थी और इसी तरह भारत ने भी पाकिस्तान की एक फ्लाइट को दिसंबर में इजाजत नहीं दी थी।

लेकिन अगर भारत की ओर से इस संबंध में इजाजत दे दी जाती है तो मुल्क के विभाजन के बाद यानी 1947 से अब तक ऐसा पहली बार होगा कि भारत या पाकिस्तान में से किसी एक ओर से विमान से श्रद्धालुओं को लाया जाएगा। 

 Ramesh Vankwani proposal flights for pilgrims from pakistan - Satya Hindi
रमेश वंकवानी।

अभी तक भारत और पाकिस्तान के श्रद्धालु एक-दूसरे के देशों में वाघा और अटारी बॉर्डर से होते हुए जाते हैं। 

रमेश वंकवानी पाकिस्तान की हुकूमत में बैठी पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ के सांसद हैं। उन्होंने द हिंदू को बताया कि भारत में पाकिस्तान के श्रद्धालु 29 जनवरी से 1 फरवरी तक रहेंगे और इस दौरान वे जयपुर, अजमेर, दिल्ली, आगरा और हरिद्वार जाएंगे।

पाकिस्तान हिंदू काउंसिल के इस प्रस्ताव में 170 श्रद्धालुओं के नाम हैं इनमें से 20 हिंदू श्रद्धालु भी हैं। 

दुनिया से और खबरें

बिगड़ गए रिश्ते

 भारत और पाकिस्तान के बीच साल 2019 में हुए पुलवामा हमले के बाद से रिश्ते बिगड़ गए थे और अगस्त 2019 में जब भारत ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटा दी थी तो उसके बाद पाकिस्तान ने राजनयिक संबंधों में कटौती कर दी थी। 

तब से भारत और पाकिस्तान के बीच में व्यापार भी रुका हुआ है। लेकिन पिछले साल दोनों देशों के रिश्तो में जमी बर्फ तब पिघलने के संकेत मिले थे जब यह खबर आई थी कि सीमा पर संघर्ष विराम हो गया है। इसके अलावा पाकिस्तानी अफसरों का एक दल दिल्ली आया था और पाकिस्तान के खिलाड़ियों की एक टीम भी ग्रेटर नोएडा आई थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें