loader
रनिल विक्रमसिंघे, पीएम श्रीलंका

रनिल विक्रमसिंघे संकटग्रस्त श्रीलंका के प्रधानमंत्री बने

श्रीलंका के वयोवृद्ध राजनीतिक नेता रानिल विक्रमसिंघे को राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने गृहयुद्ध से जूझ रहे श्रीलंका का अगला प्रधानमंत्री नियुक्त किया है। 73 वर्षीय विक्रमसिंघे ने राष्ट्रपति के मीडिया कार्यालय के अनुसार पद की शपथ ली है, जिन्होंने कल राष्ट्र के नाम एक संबोधन में घोषणा की थी कि इस सप्ताह प्रधानमंत्री और उनका मंत्रिमंडल बनाया जाएगा।पहले से ही कठिन आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका में सोमवार को उस समय अफरातफरी मच गई जब प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने निर्वाचित सरकार को हटाकर अपने पद से इस्तीफा दे दिया। अपने संबोधन में, राष्ट्रपति राजपक्षे ने "मौजूदा स्थिति को नियंत्रित करने और देश को अराजकता की ओर बढ़ने से रोकने" के लिए कहा, वह एक प्रधानमंत्री और मंत्रिमंडल की नियुक्ति करेंगे "जो संसद में बहुमत हासिल कर सके और लोगों का विश्वास हासिल कर सके।  
ताजा ख़बरें
सूत्रों ने संकेत दिया कि उन्होंने संबोधन से पहले और बाद में विक्रमसिंघे के साथ बातचीत की और एक समझौता किया। राजपक्षे को देश के बिगड़ते आर्थिक संकट पर व्यापक विरोध का सामना करना पड़ रहा है। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि वह अपने पद से इस्तीफा दें। लेकिन वो इस्तीफा देने को तैयार नहीं हैं।

विदेश जाने पर रोक

श्रीलंका की एक अदालत ने गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे, उनके बेटे नमल राजपक्षे और 15 अन्य पर इस सप्ताह कोलंबो में सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर घातक हमले के लिए उनके खिलाफ जांच के मद्देनजर यात्रा प्रतिबंध लगा दिया। सोमवार को गोटागोगामा और मैनागोगामा के शांतिपूर्ण विरोध स्थलों पर हुए हमलों की जांच के कारण फोर्ट मजिस्ट्रेट की अदालत ने उन्हें विदेश यात्रा करने से रोक दिया। यह रोक सांसदों जॉनस्टन फर्नांडो, पवित्रा वन्नियाराची, संजीवा एदिरिमाने, कंचना जयरत्ने, रोहिता अबेगुणवर्धने, सी. पर भी लगाई गई है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें