loader

पूर्वी यूक्रेन में मॉल पर रूस का मिसाइल हमला, 16 मौतें, कई देशों ने निन्दा की

पूर्वी यूक्रेन में भीड़भाड़ वाले एक मॉल पर रूस की सेना ने मिसाइल से हमला किया। उसके बाद उस मॉल में आग लग गई। जिसमें 16 लोगों की मौत हो गई। यह हमला क्रेमेनचुक में एक शॉपिंग मॉल पर हुआ। हमले में 59 लोग घायल हो गए।

इमरजेंसी सर्विसेज के अधिकारी सर्गेई क्रुक ने कहा - अब तक, हम 16 मृत और 59 घायलों के बारे में जानते हैं, उनमें से 25 अस्पताल में भर्ती हैं। उन्होंने कहा कि शॉपिंग सेंटर पर सोमवार रात हमला किया गया था। इससे पहले, ज़ेलेंस्की ने कहा था कि मिसाइल हमले के समय एक हजार से अधिक नागरिक मॉल में थे। शहर की युद्ध पूर्व कुल आबादी 220,000 थी। 
ताजा ख़बरें
ज़ेलेंस्की ने फेसबुक पर लिखा, मॉल में आग लगी है, बचाव दल आग से लड़ रहे हैं। पीड़ितों की संख्या की कल्पना करना असंभव है। यूक्रेन के राष्ट्रपति द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में मॉल को आग की लपटों में घिरा दिखाया गया है, जिसमें दर्जनों बचाव दल और बाहर एक दमकल ट्रक है।

आपातकालीन सेवाओं ने इमारत के सुलगते अवशेषों को दिखाते हुए चित्र भी प्रकाशित किए, जिसमें फायर ब्रिगेड और बचाव दल मलबे को साफ करने की कोशिश कर रहे थे।

यूक्रेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि यह हमला जानबूझकर मॉल के सबसे व्यस्त समय में अधिकतम लोगों को निशाने के लिए किया गया था।  यूक्रेनी वायु सेना ने बताया कि पश्चिमी रूस में कुर्स्क क्षेत्र से टीयू -22 बमवर्षकों से दागी गई के -22 एंटी-शिप मिसाइलों ने मॉल पर हमला किया था।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने ट्विटर पर कहा, दुनिया आज रूस के मिसाइल हमले से भयभीत है, जिसने यूक्रेन के एक भीड़भाड़ वाले शॉपिंग मॉल को निशाना बनाया - जो कि अत्याचारों की एक कड़ी में नवीनतम है।

दुनिया से और खबरें
ब्रिटिश प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि हमले ने रूसी नेता व्लादिमीर पुतिन की "क्रूरता और बर्बरता की गहराई" को प्रदर्शित किया। 

वहीं फ्रांस के विदेश मंत्रालय ने भी हमले की निंदा की है।इसने ट्विटर पर लिखा, नागरिकों और नागरिक बुनियादी ढांचे पर अंधाधुंध बमबारी करके, रूस ने अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून का घोर उल्लंघन जारी रखा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें